तारापुर विधानसभा सीट: JDU के गढ़ में इस बार आ सकता है चौंकाने वाला रुझान

JDU के गढ़ में इस बार आ सकता है चौंकाने वाला रुझान
JDU के गढ़ में इस बार आ सकता है चौंकाने वाला रुझान

बता दें कि 4 जनवरी 1953 को जन्मे मेवालाल चौधरी की शैक्षणिक योग्यता एमएससी (MSC) है. उन्होंने पीएचडी (PHD) भी की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 24, 2020, 11:52 AM IST
  • Share this:
तारापुर. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Vidhan Sabha) के तारीखों का ऐलान अभी नहीं हुआ है बावजूद विभिन्न राजनीतिक दलों की सियासी तैयारियां परवान पर है. इसी कड़ी में बिहार की तारापुर विधानसभा सीट मुंगेर जिले में आती है. तारापुर में हुए हाल के चुनावों में आरजेडी और जेडीयू के बीच मुकाबला होते आया है. फिलहाल इस सीट पर जेडीयू का कब्जा है और मेवालाल चौधरी यहां के विधायक हैं. तारापुर में अब तक हुए चुनाव के नतीजों को देखें तो यहां पर शुरू में तो कांग्रेस का दबदबा था, लेकिन बाद में उसकी पकड़ कमजोर हो गई. तारापुर में आरजेडी ने तीन चुनावों में जीत हासिल की. पिछले दो चुनावों से जेडीयू को जीत मिलती आ रही है. ऐसे में ये कहा जा सकता है कि तारापुर जेडीयू की एक मजबूत सीट बनती जा रही है. लेकिन 2020 में चौंका देने वाला रुझान सामने आ सकता है.

राजनीतिक इतिहास

तारापुर विधानसभा सीट 1951 में अस्तित्व में आई. इस साल हुए यहां पर पहले चुनाव में कांग्रेस ने जीत हासिल की. तारापुर में हुए शुरुआती तीन चुनावों में कांग्रेस ही विजयी रही. इसके बाद उसे 1967, 1969 के चुनाव में हार मिली. 1972 में कांग्रेस ने फिर वापसी की, लेकिन अगले ही चुनाव उसे हार का सामना करना पड़ा.



कांग्रेस को इसके बाद जीत 1990 में मिली. ये कांग्रेस की यहां पर आखिरी जीत थी. राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) को यहां पर पहली जीत 2000 के चुनाव में मिली. शकुनी चौधरी जो पहले भी इस सीट से विधायक रह चुके थे, उन्होंने इस बार आरजेडी के टिकट पर चुनाव लड़ा और जीत हासिल किए. शकुनी चौधरी की जीत का सिलसिला आगे भी जारी रहा. जीत के इस सिलसिले को नीतीश कुमार की पार्टी 2015 के चुनाव में भी जारी रखती है और पार्टी के नेता मेवा लाल चौधरी किंग बनते हैं.
तारापुर की जनसंख्या

जुमई संसदीय क्षेत्र में आने वाले तारापुर की जनसंख्या 456549 है. यहां की 87.63 फीसदी आबादी ग्रामीण और 12.37 फीसदी आबादी शहरी क्षेत्र में रहती है. अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) का अनुपात कुल जनसंख्या से क्रमशः 15.1 और 1.97 है.

2015 का रुझान

2015 के विधानसभा चुनाव में तारापुर में 289179 वोटर्स थे. इसमें से 53.94 फीसदी पुरुष और 46.06 फीसदी महिला वोटर्स थीं. तारापुर में 152292 लोगों ने वोटिंग की थी. यहां पर 52 फीसदी मतदान हुआ था. इस चुनाव में जेडीयू के एमएल चौधरी ने जीत हासिल की थी. उन्होंने हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के शकुनी चौधरी को मात दी थी. एमएल चौधरी को 66411 (43.62 फीसदी) वोट मिले थे तो वहीं शकुनी चौधरी के खाते में 54464(35.77 फीसदी ) वोट पड़े थे. एमएल चौधरी ने 11 हजार से ज्यादा वोटों से जीत हासिल की थी.

कौन है JDU विधायक मेवालाल चौधरी

बता दें कि 4 जनवरी 1953 को जन्मे मेवालाल चौधरी की शैक्षणिक योग्यता एमएससी है. उन्होंने पीएचडी भी की है. एमएल चौधरी ने 2010 में ही राजनीति में कदम रखा. 2015 में जीतकर वह पहली बार विधानसभा पहुंचे. एमएल चौधरी भारत सरकार में हॉर्टिकल्चर कमिश्नर रह चुके हैं. वह बिहार के कृषि रोड मैप तैयार करने वाले दल के सदस्य भी रहे चुके हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज