बिहार: चमकी बुखार से 73 बच्चों की मौत, 12 की हालत गंभीर, 110 बच्चे अस्पताल में भर्ती

दोनों अस्पताल में 110 बच्चे इलाजरत हैं. इनमें 12 की हालत गंभीर है. अस्पताल में इलाजरत भर्ती लोगों में से 44 मरीज नए बताए जा रहे हैं.

News18 Bihar
Updated: June 15, 2019, 5:21 PM IST
बिहार: चमकी बुखार से 73 बच्चों की मौत, 12 की हालत गंभीर, 110 बच्चे अस्पताल में भर्ती
चमकी बुखार के कारण अब तक 68 बच्चों की मौत हो चुकी है
News18 Bihar
Updated: June 15, 2019, 5:21 PM IST
बिहार के 12 जिलों में एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम यानी एईएस का कहर लगातार जारी है. खास तौर पर मुजफ्फरपुर का इलाका इससे अधिक प्रभावित है. यहां बीते 12 घंटों में ही छह और बच्चों ने दम तोड़ दिया है. इनमें मुजफ्फरपुर के SKMCH में मरने वाले बच्चों का आंकड़ा 5 से बढ़कर 9 हो गया है. शहर के ही केजरीवाल अस्पताल में 1 बच्चे की मौत हो गई. यानी अब तक कुल 73 बच्चों की मौत हो चुकी है.

110 बच्चों का हो रहा इलाज
गौरतलब है कि दोनों अस्पताल में 110 बच्चे इलाजरत हैं. इनमें 12 की हालत गंभीर है. अस्पताल में इलाजरत भर्ती लोगों में से 44 मरीज नए बताए जा रहे हैं. इस बीच AES से लगातार हो रही बच्चों की मौत पर हालात का जायजा लेने आरजेडी की टीम शनिवार को मुजफ्फरपुर पहुंचेगी.

RJD की टीम करेगी दौरा

बताया जा रहा है कि आरजेडी की टीम प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे की अगुवाई में जाएगी. ये टीम शहर के SKMCH और केजरीवाल अस्पताल का दौरा करेगी और बच्चों के इलाज की व्यवस्था का जायजा लेगी.

हर संभव मदद करेगा केंद्र
इससे पहले शुक्रवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने एईएस के इलाज में केंद्र की ओर से हर संभव मदद देने का भरोसा दिया था. उन्होंने कहा, 'केंद्र से भेजे गए डॉक्टरों की टीम ने अस्पतालों का दौरा किया. उन्होंने राज्य सरकार को इस संबंध में जरूरी सलाह दिए हैं. मैंने बिहार के स्वास्थ्य मंत्री के साथ दो बैठकें की हैं और उन्हें हर संभव सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया है.'
Loading...

मंगल पांडे ने लिया हालात का जायजा
वहीं शुक्रवार की सुबह बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे हालात का जायजा लेने मुजफ्फरपुर पहुंचे थे. उन्होंने भी हालात को गंभीर बताते हुए सरकार की ओर से हर संभव प्रयास किए जाने की बात कही थी.

केंद्रीय जांच टीम की रिपोर्ट का इंतजार
बता दें कि बुधवार और गुरुवार को 7 सदस्यीय केंद्रीय जांच टीम मुजफ्फरपुर के दौरे पर थी. डॉक्टरों की यह टीम दो दिनों तक जांच करने के बाद वापस लौट चुकी है. अब सबकी निगाहें इस टीम की रिपोर्ट पर लगी हुई हैं कि जिससे यह पता चल सके कि कौन से ऐसे कारण हैं जिससे इंसेफेलाइटिस ने इन क्षेत्रों में कोहराम मचा रखा है.
First published: June 15, 2019, 8:03 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...