मुजफ्फरपुर में इंसेफेलाइटिस से पांच साल की बच्ची की मौत, अबतक 9 की जा चुकी है जान

बिहार के मुजफ्फरपुर में एईएस से पांच साल के बच्चे की मौत

Acute Encephalitis Syndrome: बिहार में हर साल गर्मी और बरसात में इस बीमारी का कहर बच्चों पर टूटता है. इस बीमारी से पीड़ित बच्चों के लिए अस्पताल में अलग से वार्ड बनाया गया है.

  • Share this:
मुजफ्फरपुर. बिहार के उत्तरी इलाकों में इंसेफेलाइटिस (AES) बीमारी का कहर जारी है. मुजफ्फरपुर में इस बीमारी से एक और बच्चे की मौत हो गई . पांच साल की सलोनी को 16 जुलाई को एसकेएमसीएच (Muzaffarpur SKMCH) में भर्ती कराया गया था. वह मोतिहारी के मझौलिया की रहने वाली थी. संदिग्ध एईएस की शिकायत पर उसे एसकेएमसीएच में भर्ती कराया गया था. जांच में सलोनी में एईएस कंफर्म हुआ था.

मुजफ्फरपुर के एसकेएमसीएच में अब तक 9 बच्चे इस बीमारी से दम तोड़ चुके हैं. दो दिन पहले जिन 6 सं बच्चों को पीकू वार्ड में भर्ती कराया गया था उनमें से 2 में इस बीमारी की पुष्टि हुई है जबकि 4 बच्चों की रिपोर्ट आनी अभी तक बाकी है. साल 2021 की बात करें तो इस साल कुल 42 बच्चे अभी तक AES से बीमार हो चुके हैं जिनमें से पांच बच्चे अभी भी एसकेएमसीएच के पीकू वार्ड में भर्ती हैं जबकि चार संदिग्ध AES के मामले है.

इन पीड़ित बच्चों के रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है. SKMCH के उपाधीक्षक डॉ गोपालशंकर सहनी ने कहा कि तापमान और ह्यूमिडिटी में उतार-चढ़ाव की वजह से बच्चे बीमार हो रहे हैं. ऐसे मौसम में उन्हें खास देखभाल की जरूरत है. बच्चों को किसी भी दशा में भूखे पेट नहीं रहने देना है. डॉक्टर गोपाल शंकर सहनी ने लोगों से अपील की है कि बच्चों में किसी बीमारी के जरा से भी लक्षण दिखे तो उसे तत्काल एसकेएमसीएच ले आएं. यहां पीकू वार्ड में एक कैंपस में आउटडोर, सभी प्रकार की जांच और इंडोर इलाज की व्यवस्था है. इसके साथ-साथ सभी आवश्यक दवाएं एसकेएमसीएच में उपलब्ध हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.