Assembly Banner 2021

Bharat Band: न ग्राहक पहुंचे न खुदरा व्यापारी, मुजफ्फरपुर मंडी में बर्बाद हो गया एक करोड़ रुपए का केला

बिहार के मुजफ्फरपुर में ग्राहकों के इंतजार में बैठे केला विक्रेता

बिहार के मुजफ्फरपुर में ग्राहकों के इंतजार में बैठे केला विक्रेता

Bharat Band: बिहार के मुजफ्फरपुर स्थित फल मंडी में लग्न को लेकर बड़े व्यापारियों ने भारी मात्रा में केला और सेव मंगवाया था लेकिन बंद के कारण उनका सारा का सारा माल दोपहर बाद तक पड़ा था.

  • Share this:
मज़फ्फरपुर. किसान हितों को लेकर बुलाया गया भारत बंद (Bharat Band) केला किसानों के लिए नासूर बन गया है. इस बंदी से सिर्फ मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) के केला मंडी में 1 करोड़ रुपए कीमत का केला बर्बादी के कगार पर है. मुजफ्फरपुर के कृषि उत्पादन बाजार समिति में बड़ी केला मंडी है जहां जिले के अलावे पूरे उत्तर बिहार से किसान अपना केला लेकर पहुंचते हैं.

लग्न और शादी विवाह को देखते हुए मुजफ्फरपुर केला मंडी में करीब एक करोड़ का केला लेकर किसान और कारोबारी पहुंचे हुए हैं. ये सभी केले पके हुए हैं और आज अगर इनकी बिक्री नहीं हुई तो ये केले बर्बाद हो जाएंगे लेकिन भारत बंदी की वजह से मुजफ्फरपुर की केला मंडी में कोई ग्राहक नहीं पहुंच रहे हैं, इस वजह से केला किसान और विक्रेता काफी मायूस हैं. केला बेचने वाले ग्राहकों के इंतजार में बैठे हुए हैं लेकिन ग्राहक मंडी तक नहीं पहुंच पा रहे हैं.

Youtube Video




अहियापुर थाना क्षेत्र के शाहबाजपुर निवासी शांतनु बताते हैं के तेज लग्न को देखते हुए उन्होंने करीब चार लाख का केला आज मंगाया है, ये सभी केले पके हुए हैं और इन्हें आज बेचकर खत्म कर देना अनिवार्य है लेकिन बंदी में सवारी नहीं मिलने की वजह से न ग्राहक आ रहे हैं और और जो खरीदार बाइक या अन्य साधनों से पहुंच रहे हैं उन्हें माल ले जाने के लिए कोई सवारी नहीं मिल रही है.
कारोबारी दिवाकर चौधरी ने बताया कि जो केला पक चुका है वह कल तक काला पड़ जाएगा और काले पड़े केले की उन्हें कीमत नहीं मिलेगी. ज्यादा पक जाने से केले खराब हो जाएंगे फिर उनका कोई खरीदार भी नहीं मिलेगा. नवगछिया से केला लेकर मुजफ्फरपुर आए विक्रेता पवन महतो ने बताया कि बाढ़ के कारण हुए फसल नुकसान की वजह से केले की खरीदारी भी महंगी हुई है लेकिन ग्राहक नहीं आने के कारण पूरी पूंजी खतरे में है.

किसान प्रमोद महतो का कहना है कि राजनीतिक दल किसानों के नाम पर अपनी रोटी सेक रहे हैं, सबको पता है कि केला कच्चा सौदा होता है एक दिन व्यापार और सड़क बंद हो जाने से केले से लदी हजारों गाड़ियां रास्ते में फंस जाएंगे  उन गाड़ियों में केला पकाने के लिए दवा डाला हुआ रहता है. ये ट्रक समय से अपने गंतव्य तक नहीं पहुंचे तो सारे केले ट्रकों में ही सड़ जाएंगे लेकिन इसकी चिंता बंदी कराने वालों को बिल्कुल नहीं है.

यहां किसानों के हित के सवाल पर उन्हें बर्बाद करने की साजिश की जा रही है. मुजफ्फरपुर फल मंडी के यूनियन के सदस्य उमा शंकर राय ने इस बंदी को फल और सब्जी किसानों के लिए तबाही का सबब बताया है. उनका कहना है कि केला के साथ-साथ सेब और अमरूद का भी भारी नुकसान होगा. फल मंडी में बड़ी संख्या में पलदार और ठेला चालक भी काम करते हैं लेकिन भारत बंद से उनके सामने भी रोजी रोटी की समस्या उत्पन्न हो गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज