LIVE NOW

LIVE Blog: चमकी बुखार से मुजफ्फरपुर में 117 बच्चों की गई जान, राज्य में अब तक 151 मौतें

बिहार में #ChamkiFever के प्रकोप को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बाल चिकित्सकों और पैरामेडिक्स की 5 टीमें मुजफ्फरपुर भेजने का निर्देश दिया है. यहां अब तक 114 बच्चों की एक्यूट इनसेफेलाइटिस सिंड्रोम बीमारी से जान चली गई है.

Hindi.news18.com | June 20, 2019, 3:15 PM IST
facebook Twitter Linkedin
Last Updated June 20, 2019

हाइलाइट्स

बिहार के मुजफ्फरपुर में एक्यूट एनसेफेलाइटिस (एईएस) यानी चमकी बुखार का प्रकोप बढ़ता जा रहा है. इस जानलेवा बीमारी से सबसे ज्यादा प्रभावित मुजफ्फरपुर जिले में अभी तक (गुरुवार) 117 बच्चों की मौत हो गई है. यहां के सबसे बड़े अस्पताल श्रीकृष्ण मेमोरियल कॉलेज अस्पताल (SKMCH) में इससे 98 मौतें हुई हैं जबकि केजरीवाल अस्पताल में 19 बच्चों की जान चली गई है.

पूरे राज्य में इस बीमारी से चमकी बुखार से 151 बच्चों की मौत हो चुकी है. गुजरते हर दिन के साथ यह बीमारी कई और जिलों में अपने पांव पसारती जा रही है.

इस बीच #ChamkiFever के प्रकोप को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बाल चिकित्सकों और पैरामेडिक्स की 5 टीमें मुजफ्फरपुर भेजने का निर्देश दिया है. 
9:42 am (IST)

एक्यूट इनसेफेलाइटिस सिंड्रोम यानी चमकी बुखार से सबसे ज्यादा प्रभावित मुजफ्फरपुर जिले में अभी तक (गुरुवार) 117 बच्चों की मौत हो गई है. यहां के सबसे बड़े अस्पताल श्रीकृष्ण मेमोरियल कॉलेज अस्पताल (SKMCH) में इससे 98 मौतें हुई हैं जबकि केजरीवाल अस्पताल में 19 बच्चों की जान चली गई है. पूरे बिहार में इस बीमारी से चमकी बुखार से 150 बच्चों की मौत हो चुकी है. 

 


8:15 am (IST)

बिहार में #ChamkiFever के प्रकोप को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बाल चिकित्सकों और पैरामेडिक्स की 5 टीमें मुजफ्फरपुर भेजने का निर्देश दिया है, 


7:54 am (IST)

बिहार में #ChamkiFever के प्रकोप को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बाल चिकित्सकों और पैरामेडिक्स की 5 टीमें मुजफ्फरपुर भेजने का निर्देश दिया है, 


1:55 pm (IST)

एक्यूट इनसेफेलाइटिस सिंड्रोम यानी चमकी बुखार से बिहार भर में अभी तक 144 बच्चों की मौत होने की खबर है. सबसे ज्यादा मुजफ्फरपुर में 114 बच्चों की मौत हुई है. हाजीपुर में 11 बच्चों की मौत, समस्तीपुर में 5 बच्चों की मौत, मोतिहारी में 7 बच्चों की मौत, पटना के PMCH में 1 बच्चे की मौत, शिवहर में 2 बच्चों की मौत हुई है. इसके अलावा बेगूसराय, भोजपुर, सीवान और बेतिया में भी इस बीमारी की वजह से 1-1 बच्चे की जान चली गई है

 

12:04 pm (IST)

मुजफ्फरपुर के SKMCH अस्पताल में भर्ती बच्चों के परिजनों ने यहां लगातार बिजली की कटौती की शिकायत की है. उनका कहना है कि यहां बिजली आती-जाती रहती है. ऐसे में यहां बिजली की कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की गई है, हम अपने बच्चों को हाथ से झेलने वाले पंखे से हवा दे रहे हैं. उनका आरोप है कि उनके बच्चों की गर्मी की वजह से मौत हो रही है. 


12:00 pm (IST)

वकील मनोहर प्रताप और सनप्रीत सिंह अजमानी ने सुप्रीम कोर्ट में यह जनहित याचिका दाखिल की है. सर्वोच्च न्यायालय में दाखिल की गई इस जनहित याचिका में मुजफ्फरपुर में 100 मोबाइल आईसीयू की व्यवस्था करने और वहां मेडिकल बोर्ड स्थापित करने की मांग की गई है.

11:44 am (IST)

वकील मनोहर प्रताप और सनप्रीत सिंह अजमानी ने सुप्रीम कोर्ट में यह जनहित याचिका दाखिल की है. सर्वोच्च न्यायालय में दाखिल की गई इस जनहित याचिका में मुजफ्फरपुर में 100 मोबाइल आईसीयू की व्यवस्था करने और वहां मेडिकल बोर्ड स्थापित करने की मांग की गई है.

11:44 am (IST)

मुजफ्फरपुर में AEL बीमारी से बच्चों की लगातार हो रही मौत पर दाखिल की गई जनहित याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सोमवार को सुनवाई करेगा. याचिका में केंद्र और बिहार राज्य को 500 आईसीयू की व्यवस्था करने के लिए निर्देश देने के साथ-साथ एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम के प्रकोप से निपटने के लिए आवश्यक चिकित्सा पेशेवरों की संख्या की बढ़ाने की मांग की गई है. 


11:37 am (IST)

AES यानी चमकी बुखार ने मुजफ्फरपुर में तीन और मासूम बच्चों की जान ले ली है. इस तरह अब यहां इससे मरनेवालों का आंकड़ा बढ़कर 112 हो गया है. प्रदेश भर में भी इससे मरने वालों की संख्‍या बढ़कर 141 पहुंच गई है. एक्यूट इनसेफेलाइटिस सिंड्रोम ने सूबे के कई और जिलों में अपने पांव पसार लिए हैं. बताया जा रहा है कि मुजफ्फरपुर के श्री कृष्‍णा मेडीकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (SKMCH) में चमकी बुखार से अब तक कुल 93 बच्‍चों की मौत हो चुकी है. वहीं केजरीवाल अस्‍पताल में 19 बच्‍चों की इससे जान जा चुकी है.

11:35 am (IST)

मुजफ्फरपुर के SKMCH अस्पताल के अधीक्षक सुनील कुमार शाही ने कहा, 'अभी तक चमकी बुखार से पीड़ित 372 बच्चों को यहां एडमिट किया गया है. जिनमें से 118 को इलाज के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया है. 57 को जल्दी ही छुट्टी दे दी जाएगी. यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि 93 बच्चों की इससे मौत हो गई है.'

 


LOAD MORE
Loading...