Home /News /bihar /

मुजफ्फरपुर: भारत बंद को लेकर जमकर हिंसा, बवाल और आगजनी

मुजफ्फरपुर: भारत बंद को लेकर जमकर हिंसा, बवाल और आगजनी

प्रदर्शन करने वाले लोग जाति के बजाए आर्थिक आधार पर आरक्षण करने की मांग कर रहे थे. इसके साथ ही उनकी मांग थी कि एससी/एसटी एक्ट को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने जो आदेश दिया है उसका पालन किया जाए.

    मुजफ्फरपुर में भारत बंद के दौरान जमकर हिंसा, बवाल, आगजनी और दोतरफा पत्थरबाजी हुई. प्रदर्शनकारियों के जवाब में पुलिस नें आंसू गैस के गोले दागे और उपद्रवियों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा. इस दौरान पुलिस नें आठ उपद्रवियों को गिरफ्तार भी किया है.

    गरीबी और आर्थिक आधार पर आरक्षण के लिए सवर्ण और ओबीसी समाज की ओर से 10 अप्रैल को बुलाए गए भारत बंद का असर मुजफ्फरपुर में सुबह से ही देखने लगा था. बंद समर्थकों नें जिले से गुजरने वाले एनएच-28, एनएच-102, एनएच-77, एनएच-57 समेत सभी मार्गों पर आगजनी और रोड जाम करके यातायात ठप्प कर दिया. हालांकि बीमार, बच्चों और महिलाओं की गाड़ियां नही रोकी गई

    बंद के कारण पीएम के कार्यक्रम में जाने वाले वीआईपी भी फंस गए और उन्हें रूट बदल कर जाना पड़ा. वहीं सदर थाना के गोबरसही और भगवानपुर में कुछ लोग बंद के विरोध में आ गए जिसे लेकर दोनों ओर से पत्थरबाजी हो गई. इसके बाद मामला बिगड़ता ही चला गया और तोड़-फोड़ एवं आगजनी शुरू हो गई. रामदयालु में एक कार, गोबरसही में ठेले पर चलने वाली कई दुकानें और भगवानपुर में भी कई सामान जला दिए गए.

    गोबरसही पहुंची पुलिस को उपद्रवियों नें पत्थरबाजी करके खदेड़ दिया. मामला इतना बिगड़ गया कि एसएसपी को मोतिहारी से पीएम का कार्यक्रम छोड़कर लौटना पड़ा. इसके बाद पुलिस ने भी मोर्चा खोल लिया और उपद्रवियों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा. पुलिस नें उपद्रव के आरोप में 8 लोगों को गिरफ्तार भी किया है. एसएसपी विवेक कुमार नें बताया कि भीड़ को हटाने के लिए टीयर गैस का गोला चलाना पड़ा.

    बता दें कि प्रदर्शन करने वाले लोग जाति के बजाए आर्थिक आधार पर आरक्षण करने की मांग कर रहे थे. इसके साथ ही उनकी की मांग थी कि एससी/एसटी एक्ट को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने जो आदेश दिया है उसका पालन किया जाए.

     

    Tags: बिहार, मुजफ्फरपुर

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर