VIDEO: नाव पर दूल्हा,पानी में बाराती और DJ वाला डांस, बाढ़ से घिरे बिहार के इस गांव में हुई अनोखी शादी
Muzaffarpur News in Hindi

VIDEO: नाव पर दूल्हा,पानी में बाराती और DJ वाला डांस, बाढ़ से घिरे बिहार के इस गांव में हुई अनोखी शादी
सांकेतिक चित्र

Bihar Flood: सकरा के भटिंडा गांव के पास समस्तीपुर से बारात आई तो गांव के चारों तरफ बाढ़ का पानी फैला हुआ था. पहले तो लड़की पक्ष के लोगों ने दूल्हे को नाव पर बैठाकर घर तक ले जाने की कोशिश की

  • Share this:
मुजफ्फरपुर. बिहार के लोग बाढ़ (Bihar Flood) में जीने के साथ-साथ खुशियां मनाने की भी कला बखूबी जानते हैं. इसका नजारा मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) में दिखा जहां के सकरा प्रखंड में अपनी दुल्हन को लाने की बेताबी में दूल्हे ने बाढ़ की भी परवाह नहीं की. बाढ़ के पानी को पारकर गाजे-बाजे और बराती संग ब्याह (Marriage) रचाने पहुंच गया. इस अनोखी शादी के साक्षी बनने के लिए ग्रामीणों का हुजूम जुट गया.

समस्तीपुर से आई थी बारात

बारात समस्तीपुर के ताजपुर थाने के मुसापुर गांव से मुजफ्फरपुर के सकरा के भटण्डी गांव आई थी. मुसापुर के मोहम्मद इकबाल के पुत्र मोहम्मद हसन रजा और सकरा भटण्डी गांव के मरहूम मोहम्मद शहीदद की पुत्री मजदा खातून का निकाह तय था इसी बीच मुरौल के मोहम्मदपुर कोठी में तिरहुत नहर का तटबंध टूटने से गाव बाढ़ में घिर गया. निकाह की तारीख बदलने पर दोनों पक्षों ने विचार-विमर्श किया लेकिन बात नहीं बनी और निकाह का तय तारीख पर ही करने की ठान ली गई. पानी से घिरे गांव में भी बारातियों ने जमकर डांस किया तो शादी कर दुल्हन को भी दूल्हा अपने साथ ले गया.



दोनों पक्षों में नहीं बनी बात
चारों तरफ बाढ़ के पानी से घिरे भटण्डी गांव में शादी की तैयारी में टेंट के लिए सामान कई बार लाए और लौटाए गए. बारात आने से पहले लोगों ने स्थिति का मुआयना किया फिर दुल्हन के घर तक जाने में आ रही दिक्कतों के बारे में बताया लेकिन लड़का पक्ष की जिद के आगे लड़की वालों को झुकना पड़ा. दूल्हे की गाड़ी भटण्डी गांव की सीमा पर पहुंची. पहले तो पानी देखकर दूल्हा और बाराती ठिठक गये लेकिन फिर दूल्हे ने अपनी गाड़ी को छोड़ दिया और बारातियों संग बाढ़ के पानी को पारकर दुल्हन के घर पहुंचा. कई जगह घुटने से ऊपर पानी था. इस दौरान स्थानीय युवकों ने दूल्हे और बारातियों को सुरक्षित ले जाने में मदद की और पूरे रस्मो रिवाज के साथ निकाह हुआ फिर विदाई भी हुई.

नाव पर दूल्हे को बिठाया गया

सकरा के भटिंडा गांव के पास समस्तीपुर से बारात आई तो गांव के चारों तरफ बाढ़ का पानी फैला हुआ था. पहले तो लड़की पक्ष के लोगों ने दूल्हे को नाव पर बैठाकर घर तक ले जाने की कोशिश की लेकिन कुछ दूर चलने के बाद ही दूल्हे को नाव से उतरना भी पड़ा. बाद में दूल्हा बारातियों से पानी के पीछे चलकर दुल्हन के घर तक पहुंचा. घुटने भर पानी में 200 मीटर चलने के बाद ऊंची जगह मिली और बाद में दोनों का निकाह संपन्न हुआ.

तिरहुत नहर बांध टूटने से आई है बाढ़

तिरहुत नहर तटबंध के टूटने से मुरौल और सकरा इलाके में कई पंचायतों में बाढ़ का पानी फैला हुआ है. सकरा का भटिंडा गांव भी नहर के तटबंध टूटने की वजह से चपेट में आया है. भटिंडा के आसपास का पूरा इलाका बाढ़ के पानी से घिर गया लेकिन पहले से शादी की तारीख नहीं टलने की वजह से  बाढ़ के पानी के बीच ही यह शादी संपन्न हुई. अनोखे तरीके से हुई इस शादी की चर्चा सोशल मीडिया के साथ ही आसपास के इलाकों में तेजी से हो रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज