ब्रजेश ठाकुर के कॉल डिटेल से मिला उसकी 'मिस्ट्री वुमन' मधु का अहम सुराग

मुजफ्फरपुर बालिका गृह सेक्स स्कैंडल मामले के मास्टरमाइंड कहे जा रहे ब्रजेश ठाकुर की राजदार मधु के बारे में उसके कॉल रिकॉर्ड से अहम सुराग मिले हैं. सीबीआई अब मधु के लोकेशन को ट्रैक कर रही है.

Alok Kumar | News18 Bihar
Updated: August 9, 2018, 8:05 AM IST
ब्रजेश ठाकुर के कॉल डिटेल से मिला उसकी 'मिस्ट्री वुमन' मधु का अहम सुराग
ब्रजेश ठाकुर के साथ मधु
Alok Kumar | News18 Bihar
Updated: August 9, 2018, 8:05 AM IST
मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांड मामले के मास्टरमाइंड कहे जा रहे ब्रजेश ठाकुर की राजदार मधु के बारे में उसके कॉल रिकॉर्ड से अहम सुराग मिले हैं. सीबीआई अब मधु के लोकेशन को ट्रैक कर रही है.

सूत्रों के मुताबिक मधु अभी झारखंड के किसी इलाके में भूमिगत है. बुधवार तो तेजी से ये अफवाह फैली कि मधु को मोतिहारी से पकड़ा गया है, लेकिन इस बात में कोई सच्चाई नहीं थी.

दरअसल मोतिहारी में भी ब्रजेश ठाकुर का रीयल स्टेट है और एनजीओ भी सक्रिय था. इस लिहाज से मधु के वहां होने की अफवाह तैरने लगी.

सूत्रों के मुताबिक तीन जून को ब्रजेश ठाकुर और उसके एनजीओ सेवा संकल्प एवं विकास समिति के आठ और लोगों की गिरफ्तारी की भनक लगते ही मधु मुजफ्फरपुर से खिसक गई. मधु ही ब्रजेश ठाकुर के बालिका गृह मुख्य संचालिका थी. महिला थाने की केस डायरी में उसका जिक्र किया गया है.

पुलिस सूत्रों ने न्यूज18 से बातचीत में माना कि मधु की गिरफ्तारी ब्रजेश के गुनाहों की फेहरिस्त और लंबी कर सकती है. चिल्ड्रन होम में रहने वाली लड़कियों ने भी मधु नाम की महिला का जिक्र किया है, जो अक्सर चिल्ड्रन होम के कामकाज का जायजा लेने के लिए वहां मौजूद रहती थी. चिल्ड्रन होम, ब्रजेश ठाकुर का घर और उसके अखबार की प्रिंटिग प्रेस तीनों एक ही बिल्डिंग में है.

पुलिस ने मामला दर्ज होने के लगभग 58 दिन बाद मधु की तलाश में जोरदार छापेमारी शुरू की लेकिन अबतक वह हाथ नहीं आई है. ब्रजेश ठाकुर की मदद से मधु के तार सियासी और प्रशासनिक महकमों में दूर तक फैले थे और ठाकुर की गैरमौजूदगी में वही उसके एनजीओ सेवा संकल्प एवं विकास समिति का कामकाज देखती थी.

कौन है मधु?

मधु की जिंदगी कठिनाइयों के बीच गुजरी. पिता का साया जल्दी उठने के बाद वह अपनी मां के साथ मुजफ्फरपुर के चर्चित चतुर्भुज स्थान में रहने लगी, जो रेड लाइट एरिया है.

नब्बे के दशक में ब्रजेश ठाकुर और मधु करीब आए. तब ब्रजेश ठाकुर की शादी भी नहीं हुई थी. उसके बाद से ही उनकी नजदीकी की चर्चा हर जुबान पर रही है. वह ब्रजेश के एनजीओ के लिए अधिकारियों के बीच लाइजनिंग का काम करती थी.

मधु को आगे कर ब्रजेश ने अधिकारियों से कई नियम विरुद्ध काम कराए और अपनी संस्था और अखबार के लिए पैसे बटोरे. मधु को लेकर ब्रजेश ठाकुर का पारिवारिक जीवन भी खतरे में रहा. कई बार मधु को लेकर ब्रजेश ठाकुर की पत्नी ने झगड़ा किया, ऐसी चर्चा मुजफ्फरपुर में होती रही है.

ब्रजेश ठाकुर ने मधु को पहचान दिलाने के लिए चतुर्भुज स्थान में ही वामा शक्ति वाहिनी के नाम से एक और स्वयंसेवी संगठन बनाया और मधु को इसका निदेशक बना दिया.

पीड़ित लड़कियों के बयान और चिल्ड्रन होम से जुड़े अन्य लोगों के मुताबिक, यौन शोषण कराने में मधु मुख्य किरदार निभाती थी. मुजफ्फरपुर और पटना से लेकर नई दिल्ली तक में अधिकारियों और नेताओं के पास लड़कियों को पहुंचाने में मधु का किरदार अहम था.

वकालत की पढ़ाई कर चुकी मधु को टेंडर हथियाने वाली महिला के तौर पर भी जाना जाता है. मधु ही वो राजदार है, जो पिछले 30 सालों से ब्रजेश ठाकुर की सबसे नजदीक रही है. जब 2013 में चिल्ड्रन होम से तीन लड़कियां गायब हो गई थीं तब भी पूरे मामले की सूचना देने से लेकर दस्तावेज प्रबंधन का काम मधु ने ही किया था.

ये भी पढ़ें -

ब्रजेश ठाकुर को कालिख पोतने वाली JAP कार्यकर्ता प्रिया राज का हाजीपुर में जोरदार स्वागत

शेल्टर होम रेप: ब्रजेश ठाकुर के बयान ने लिखी मंत्री मंजू वर्मा के इस्तीफे की स्क्रिप्ट!

मंजू वर्मा के इस्तीफे के बाद कृष्णनंदन वर्मा या बीमा भारती को मिल सकता है समाज कल्याण मंत्रालय
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर