पेशी के वक्त हंसते दिख रहे ब्रजेश ठाकुर की बीमारियों पर सीबीआई को शक

अदालत में पेशी से पहले ब्रजेश का एक फोटो अखबार और सोशल मीडिया पर वायरल हुआ जिसमें वो हंसते मुस्कुराते नजर आ रहा था.

आलोक कुमार | News18 Bihar
Updated: August 10, 2018, 9:50 AM IST
पेशी के वक्त हंसते दिख रहे ब्रजेश ठाकुर की बीमारियों पर सीबीआई को शक
ब्रजेश ठाकुर के हेल्थ कंडीशन पर सीबीआई को संदेह (FILE PHOTO)
आलोक कुमार | News18 Bihar
Updated: August 10, 2018, 9:50 AM IST
मुजफ्फरपुर शेल्टर होम रेप केस की जांच कर रही केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर की हेल्थ कंडीशन को लेकर संदेह जाहिर किया है. आरोपी ब्रजेश ठाकुर फिलहाल खुदीराम बोस अस्पताल में भर्ती है. ब्रजेश ठाकुर की डिटेल्ड मेडिकल रिपोर्ट के लिए गुरुवार को सीबीआई के अधिकारी जेल पहुंचे थे.

3 जून जब से ब्रजेश ठाकुर को पुलिस ने गिरफ्तार किया है, उसने सिर्फ पांच दिन ही जेल के वार्ड में बिताया है. ब्रजेश को पीठ दर्द की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती किया गया था. दरअसल अदालत में पेशी से पहले ब्रजेश का एक फोटो अखबार और सोशल मीडिया पर वायरल हुआ, जिसमें वह हंसते-मुस्कुराते नजर आ रहा था. विपक्ष ने सरकार पर ये कह कर निशाना साधा था कि आरोपी को सरकार द्वारा  सुविधा देने के लिए अस्पताल में रखा गया है.

बता दें कि 9 जून को ब्रजेश ठाकुर को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां वह 17 दिनों तक खुलकर अपने समर्थकों से मिलता रहा. उसकी आजादी पर पाबंदी तब लगी जब नवनियुक्त जेल अधीक्षक राजीव झा ने अस्पताल से उसकी हेल्थ रिपोर्ट मांगी.

(ब्रजेश ठाकुर के कॉल डिटेल से मिला उसकी 'मिस्ट्री वुमन' मधु का अहम सुराग)

न्यूज18 से बातचीत में एसकेएससीएच अधीक्षक सुनील शाही ने बताया कि ब्रजेश ठाकुर को जब अस्पताल लाया गया था तो उन्हें स्वास्थ्य संबंधी काफी समस्याएं थीं. जांच के बाद हमें पता चला कि उनका ब्लड शुगर अनियंत्रित था और ईसीजी भी सामान्य नहीं आया था. क्रिएटिनिन का स्तर बहुत अधिक था, लिवर की समस्या के साथ-साथ उन्हें पीठ में काफी दर्द था, जिसके लिए एमआरआई कराने की सलाह दी गई थी.

(VIDEO: पेशी के दौरान मुजफ्फरपुर शेल्टर होम रेप के 'किंगपिन' ब्रजेश ठाकुर को पोती कालिख)

जब पूछा गया कि सभी महत्वपूर्ण अंगों में एक साथ कैसे समस्या आ सकती है तो सुनील शाही ने कहा कि ये हमारे हाथ में नहीं होता, जब मरीज कहता है कि उसे समस्या है तो हमें इलाज करना पड़ता है. वैसे हमने तीन डॉक्टरों की एक टीम गठित की है, जो उसके स्वास्थ्य पर बराबर नजर बनाए हुए हैं.

(मुजफ्फरपुर शेल्टर होम रेप केसः संस्‍था से जुड़े सभी बैंक खाते सील, निबंधन रद्द)

मेडिकल वार्ड में भर्ती होने के बाद जेल अधीक्षक ने सिविल सर्जन को एक पत्र लिखा जिसमें एक और मेडिकल बोर्ड के गठन की बात कही गई थी, जिसमें मंगलवार तक ब्रजेश ठाकुर की चांज करने के लिए कहा गया था. हालांकि बोर्ड द्वारा उन निष्कर्षों के बारे में अभी तक कोई बयान जारी नहीं किया गया है.

( मुजफ्फरपुर बालिका गृह सेक्स स्कैंडल: ब्रजेश ठाकुर से मंत्री मंजू वर्मा के पति की 17 बार हुई थी बातचीत)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर