Home /News /bihar /

central minister giriraj singh said on bihar caste census that swami shraddhanand saraswati was a bhumihar

बिहार में जातिगत जनगणना पर गिरिराज सिंह बोले- भूमिहार थे स्‍वामी श्रद्धानंद सरस्‍वती

बिहार में जातिगत जनगणना पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने बड़ा बयान दिया है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी/फाइल फोटो)

बिहार में जातिगत जनगणना पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने बड़ा बयान दिया है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी/फाइल फोटो)

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि वह बांग्लादेशी घुसपैठियों को बिहार में होने वाली जात‍िगत जनगणना में शामिल करके उन्हें वैधता देने के किसी भी प्रयास का कड़ा विरोध करेंगे. बिहार सरकार ने अपने बूते पर प्रदेश में जाति आधारित जनगणना कराने का फैसला लिया है.

अधिक पढ़ें ...

मुजफ्फरपुर. बेगूसराय से सांसद गिरिराज सिंह ने किसान नेता स्वामी श्रद्धानंद सरस्वती की स्मृति में आयोजित एक समारोह में भाग लेने के लिए मुजफ्फरपुर पहुंचे थे. इस दौरान उन्‍होंने स्‍वामी श्रद्धानंद सरस्‍वती को भूमिहार जाति का बताते हुए कहा कि वह जमात (समाज) को लेकर चलते थे. तेजतर्रार भाजपा नेता से बिहार में राज्‍य सरकार द्वारा कराई जाने वाली जातिगत जनगणना के बारे में भी पूछा गया. इस पर उन्होंने कहा कि हमें कर्मचारियों की संख्या को लेकर कोई समस्या नहीं है, लेकिन इसमें मुसलमानों के बीच जाति विभाजन को ध्यान में रखना चाहिए. इसके अलावा, अगर बांग्लादेशी घुसपैठिए इस एक्सरसाइज में शामिल हो जाते हैं, तो हम इसका कड़ा विरोध करेंगे.   

हेडकाउंट, जिसके लिए मुख्यमंत्री के जद (यू) और उनके कट्टर प्रतिद्वंद्वी लालू प्रसाद की राजद श्रेय लेने का दावा कर रहे हैं, ओबीसी को शांत करना चाहते हैं, जो संख्यात्मक रूप से शक्तिशाली हैं और तीन दशक पहले मंडल आयोग की सिफारिशों को लागू किए जाने के बाद से बिहार में राजनीति पर हावी रहे हैं. भाजपा, जिसे मुख्य रूप से उच्च जाति के हिंदुओं की पार्टी के रूप में देखा जाता है, ने सर्वदलीय बैठक में कुछ आपत्तियां व्यक्त की थीं. जिसके बाद इस महीने की शुरुआत में कर्मचारियों की गिनती के लिए कैबिनेट की मंजूरी मिली थी.

केंद्र में सत्ताधारी और राज्य में सत्ता दल का सहयोग करने वाली भाजपा का पहला तर्क यह था कि उच्च जाति के मुसलमानों को उनकी सामाजिक-आर्थिक स्थिति के बारे में गलत जानकारी देकर ओबीसी कोटे का लाभ उठाने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए. दूसरा तर्क यह था कि अवैध बांग्लादेशी अप्रवासियों, जिनके पड़ोसी देश के करीब सीमांचल क्षेत्र में बड़ी संख्या में होने की अफवाह है, को इस एक्सरसाइज से बाहर रखा जाना चाहिए. ऐसा न हो कि वे नागरिक होने का दावा करना शुरू कर दें और संबंधित लाभों की मांग करें.

Tags: Caste Census, Giriraj singh

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर