होम /न्यूज /बिहार /पंचांग की वजह से 24 की बजाय 36 घंटे का हुआ जउतिया तो कोर्ट पहुंच गया मामला

पंचांग की वजह से 24 की बजाय 36 घंटे का हुआ जउतिया तो कोर्ट पहुंच गया मामला

बिहार में जिउतिया पर्व के उपवास से जुड़ा मामला कोर्ट तक पहुंच गया है (प्रतीकात्मक तस्वीर)

बिहार में जिउतिया पर्व के उपवास से जुड़ा मामला कोर्ट तक पहुंच गया है (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मुजफ्फरपुर के सीजेएम कोर्ट में सभी पंचांगों के पंडित और प्रकाशक के खिलाफ परिवाद दायर किया गया है. इस परिवाद में आरोप लग ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

बिहार में बीते दिनों ही जिउतिया का पर्व हुआ था
जिउतिया पर्व में उपवास की टाइमिंग को लेकर मामला कोर्ट तक जा पहुंचा है
मुजफ्फरपुर के सीजेएम कोर्ट में इस प्रकरण को लेकर परिवाद दायर किया गया है

रिपोर्ट- प्रियांक सौरव

मुजफ्फरपुर. बिहार में बीते दिनों महिलाओं ने अपने पुत्र की लंबी उम्र और खुशहाली के लिए जिउतिया का व्रत किया था लेकिन इस बार पंचांग में तिथि और दिन के अंतर की वजह से महिलाओं को 24 घंटे की बजाये 36 घंटे का निर्जला व्रत करना पड़ गया, ऐसे में कई महिलाएं बीमार हो गईं. अब ये मामला कोर्ट तक पहुंच गया है.

दरअसल मुजफ्फरपुर के सीजेएम कोर्ट में सभी पंचांगो के पंडित और प्रकाशक के खिलाफ परिवाद दायर किया गया है. मुजफ्फरपुर के लोक चेतना दल के अध्यक्ष संजीव कुमार झा ने मिथिला, बनारसी पंचांग सहित अन्य पंचांग के ऊपर परिवाद दायर किया गया जिसमें धारा 420, 120 बी ,307 एवं 13 भारतीय दंड संहिता के तहत मुकदमा दर्ज करवाया गया. इस परिवाद में आरोप लगाया गया है कि पंचांगो के संपादक एवं सहयोगी मनमाने तरीके से तिथि का हेरफेर किया जा रहा है.

परिवादी ने पूछा है कि किस नियम के आधार से किसी पक्ष 14 दिन का और किसी पक्ष को 16 दिन का बनाकर लोगों के बीच में भ्रम जाल फैलाया जा रहा है, जिससे लोगों के बीच में झंझट चल रही है तथा जिउतिया व्रत को 36 घंटे तक महिलाओं को उपवास कराया गया, जिसके कारण अनगिनत महिलाएं बीमार हो गई हैं. उन्हें इलाज के लिए अस्पताल जाना पड़ा है. इस मामले को लेकर सीजेएम कोर्ट में मामला दर्ज कराया गया है.

Tags: Bihar News, Muzaffarpur news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें