लाइव टीवी

बिहारः मुजफ्फरपुर में जज से मांगी 10 लाख की रंगदारी, कहा- 'पैसे न दिए तो सीने में 7 गोली उतार देंगे'

News18India
Updated: January 18, 2020, 11:45 AM IST
बिहारः मुजफ्फरपुर में जज से मांगी 10 लाख की रंगदारी, कहा- 'पैसे न दिए तो सीने में 7 गोली उतार देंगे'
बिहार के मुजफ्फरपुर में अपराधियों ने जज को धमकी भरी चिट्ठी लिख 10 लाख की रंगदारी मांगी और जान से मारने की धमकी दी. (प्रतीकात्मक फोटो)

बिहार के मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) में जज को धमकी भरी चिट्ठी (threatening letter) लिखकर अपराधियों ने मांगे 10 लाख रुपए. पैसे न देने पर अपराधियों ने कोर्ट में घुसकर जान से मारने की धमकी दी.

  • News18India
  • Last Updated: January 18, 2020, 11:45 AM IST
  • Share this:
मुजफ्फरपुर. बिहार में कानून-व्यवस्था (Law and Order) की डांवाडोल स्थिति सुधरने का नाम नहीं ले रही है. पुलिस-प्रशासन की सुस्ती से अपराधियों के मंसूबे बढ़ते ही जा रहे हैं. ताजा मामला मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) के एक जज (Judge) से रंगदारी मांगने और उन्हें जान से मारने की धमकी देने का है. बिहार की आर्थिक राजधानी माने जाने वाले मुजफ्फरपुर में अपराधियों ने एक जज को चिट्ठी (threatening letter) लिखकर 10 लाख रुपए की रंगदारी मांगी है. अपराधियों ने चिट्ठी में जज को जान से मारने की धमकी भी दी है. अपराधियों ने लिखा है कि अगर पैसे नहीं दिए तो कोर्ट में घुसकर सीने में 7 गोली उतार देंगे. जज से रंगदारी मांगे जाने को लेकर नगर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है.

2 हजार के नोट में मांगे पैसे
मुजफ्फरपुर के एडीजे-14 व विशेष न्यायाधीश एक्साइज और निगरानी राकेश मालवीय को बीती 9 जनवरी को यह धमकी भरी चिट्ठी भेजी गई. सिविल कोर्ट के इंचार्ज नाजिर ने पुलिस को बताया कि धमकी भरी चिट्ठी सादपुरा नीम चौक से एके प्रसाद के पते से जज को भेजी गई है. चिट्ठी में अपराधियों ने 2 हजार रुपए के नोट में पूरे पैसे देने की मांग की थी. साथ ही यह भी लिखा गया था कि 14 जनवरी की शाम तक सदर अस्पताल के गेट पर पैसे पहुंचा दिए जाएं, वरना कोर्ट परिसर में घुसकर 7 गोली मार देंगे. इस चिट्ठी के आधार पर नाजिर ने नगर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई.

पत्र में दिया गया मोबाइल नंबर

मुजफ्फरपुर पुलिस ने शिकायत मिलने के बाद मामले की जांच-पड़ताल शुरू की. इस पत्र में एक मोबाइल नंबर भी दिया गया था, जिसकी पुलिस ने सर्विलांस से जांच कराई. पुलिस ने कहा कि यह नंबर फर्जी निकला. अपराधियों ने पत्र में लिखा था कि पैसे देने से पहले इस मोबाइल नंबर पर सिर्फ मिस्ड कॉल करना, बात करने की कोशिश की तो अंजाम बुरा होगा. पुलिस के मुताबिक, जज को भेजी गई चिट्ठी में अपराधियों ने यह भी लिखा था कि 'अनिल भाई और पवन भाई जेल में हैं. तुमसे पहले भी कई जज अनिल भाई को पैसे पहुंचा चुके हैं.'

ये भी पढ़ें -

'तेजस्वी यादव कैंप' के नेता भी कर रहे हैं CM नीतीश का गुणगान, जानें क्या है वजह 

20 फरवरी को जारी होगा इंटर स्तरीय परीक्षा का रिजल्ट, छात्रों के हंगामे के बाद BSSC ने जारी किया नोटिस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 18, 2020, 11:45 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर