लाइव टीवी

Delhi Fire: अपने लोगों को काम से वापस बुला रहे परिजन, मुजफ्फरपुर के दो गांवों में मातमी सन्नाटा

News18 Bihar
Updated: December 10, 2019, 10:04 AM IST
Delhi Fire: अपने लोगों को काम से वापस बुला रहे परिजन, मुजफ्फरपुर के दो गांवों में मातमी सन्नाटा
दिल्ली के बैग फैक्ट्री अग्निकांड में मुजफ्फरपुर के कटरा प्रखंड के तीन लोगों की मौत हो गई जो बच गए हैं उन्हें परिजन वापस आने को कह रहे हैं. .

खौफजदा परिजन अब गांव में ही रहकर रोजगार तलाशने की बात कर रहे हैं. ग्रामीणों और परिजनों का गुस्सा इस बात को लेकर है कि आखिर बिना सुरक्षा मानक पूरा किए फैक्ट्री कैसे संचालित हो रही थी?

  • News18 Bihar
  • Last Updated: December 10, 2019, 10:04 AM IST
  • Share this:
मुजफ्फरपुर. दिल्ली के बैग फैक्ट्री अग्निकांड में मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) के कटरा प्रखंड के 3 परिवारों पर भारी पड़ी है. यहां के कटाई पंचायत के कटाई गांव के 19 साल के मोहम्मद तौकीर और उफरोल गांव के 24 साल के मोहम्मद राजू और 19 साल के मोहम्मद बबलू की मौत हो गई. इसके अलावा हादसे में एक मजदूर गंभीर रूप से घायल है जिसका इलाज दिल्ली (Delhi) में चल रहा है. इन दोनों ही गांवों में मातमी सन्नाटा पसरा है.

पति की मौत की आई खबर
हादसे में महज डेढ़ साल पहले शादी करने वााले मृतक राजू की पत्नी अनिशा ने बताया कि शनिवार की रात 10 बजे अपने पति से बात की थी लेकिन रविवार की सुबह उसे इस हादसे का पता चला हादसे में उसके पति की दर्दनाक मौत हो गई है.

परिजनों को वापस बुला रहे परिजन

बता दें कि बाढ़ प्रभावित कटरा इलाके से दिल्ली और कोलकाता के लिए हर  साल बड़ी संख्या में मजदूरों का पलायान होता रहा है. उफरोल और कटाई गांव के करीब 500 से अधिक मजदूर अब भी दिल्ली में रोजगार के लिए गया हुआ है, लेकिन घटना के बाद अब दिल्ली में काम कर रहे मजदूरों को घर आने के लिए फोन किया जा रहा है.

गांव में ही रोजगार करने की सलाह
इलाके के लोग दहशत में हैं और खौफजदा परिजन अब गांव में ही रहकर रोजगार तलाशने की बात कर रहे हैं. ग्रामीणों और परिजनों का गुस्सा इस बात को लेकर है कि आखिर बिना सुरक्षा मानक पूरा किए फैक्ट्री कैसे संचालित हो रही थी. परिजनों ने सरकार से इस मामले में ठोस कार्रवाई की मांग की है. परिजनों काकहना है कि इस मामले में बिहार की नीतीश सरकार को हस्तक्षेप करना चाहिए.मुआवजे की राशि का इंतजार
घटना के बाद रविवार की रात कटरा प्रशासन पीड़ित परिवार के पास पहुंचा था हालांकि अभी तक किसी प्रकार के मुआवजे की राशि पीड़ित परिवार को नहीं मिली है. मृतक के परिजन शव की मांग घर पर कर रहे हैं. घरवाले अपने गांव की मिट्टी में शव को दफनाने की बात कर रहे हैं.

न्यूज़ 18 ने गांव के युवाओं से जब बात की युवाओं ने बताया कि गांव में रोजगार का साधन नहीं रहने की वजह से इलाके के लोग दिल्ली और कोलकाता पलायन करते हैं. महज 5 से 10 हजार की कमाई के लिए 12 से 14 घंटे की कमरतोड़ मेहनत करते हैं.

ये भी पढ़ें


Delhi Fire: बिहार के मरने वालों की संख्या 36 हुई, एंबुलेंस से लाए जा रहे शव




नागरिकता संशोधन विधेयक: सुशील मोदी बोले- जिन्ना के जख्मों पर पीएम मोदी ने लगाया मरहम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 10, 2019, 10:04 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर