Home /News /bihar /

Bihar: मुजफ्फरपुर का 'अंखफोड़वा' अस्पताल, 4 मरीजों की निकाली जाएगी आंख, 24 की छीन ली रोशनी

Bihar: मुजफ्फरपुर का 'अंखफोड़वा' अस्पताल, 4 मरीजों की निकाली जाएगी आंख, 24 की छीन ली रोशनी

Muzaffarpur Eye Hospital News: मुजफ्फरपुर आई हॉस्पिटल की लापरवाही की वजह से 24 लोगों के आंखों की रोशनी चली गयी है.

Muzaffarpur Eye Hospital News: मुजफ्फरपुर आई हॉस्पिटल की लापरवाही की वजह से 24 लोगों के आंखों की रोशनी चली गयी है.

Muzaffarpur Eye Hospital News: मुजफ्फरपुर के एसकेएमसीएच में बुधवार को 4 मरीजों की आंख ऑपरेशन कर बाहर निकाली जाएगी. दरअसल बीते दिनों जुरन छपरा स्थित आई-हॉस्पिटल में जांच करने पहुंचे डॉक्टरों ने यह पाया कि 60 लोगों की आंखों के मोतियाबिंद का ऑपरेशन हुआ था, जिसमें से अब तक 24 लोगो के आंखों की रोशनी चली गई है. वहीं इंफेक्शन बढ़ने के बाद 11 लोगों के आंखें निकाली जा चुकी हैं.

अधिक पढ़ें ...

    रिपोर्ट – प्रियांक सौरभ

    मुजफ्फरपुर. बिहार के मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) जिले में आंख अस्पताल की लापरवाही की वजह से 24 से अधिक लोगों की आंखों की रोशनी चली गयी है. कई मरीजों की हालत खराब है. ऐसे में शहर के एसकेएमसीएच (SKMCH) में बुधवार को 4 मरीजों का ऑपरेशन कर आंख बाहर निकाली जाएगी. दरअसल बीते दिनों जुरन छपरा स्थित आई-हॉस्पिटल जांच करने पहुंचे डॉक्टरों ने यह पाया कि 60 लोगों का आंखों के मोतियाबिंद का ऑपरेशन हुआ था, जिसमें से अब तक 24 लोगों की आंखों की रोशनी चली गयी है. वहीं इंफेक्शन बढ़ने के बाद 7 लोगों की आंखें निकाली जा चुकी हैं. बताया जा रहा है कि 6 मरीजों की हालत खराब है, ऐसे में आज 4 से 6 मरीजों का ऑपरेशन किया जा सकता है.

    बता दें कि बीते 22 नवंबर को मोतियाबिंद ऑपरेशन कैम्प लगाया गया था. इसमें कई मरीजों ने इस उम्मीद में ऑपरेशन करवाया कि वो अब देख सकेंगे. लेकिन, अस्पताल की लापरवाही ने सभी मरीजों को जीवन भर के लिए अंधा बना दिया. इसको लेकर मुजफ्फरपुर के आई-हॉस्पिटल का है, जहां सोमवार को मरीजों के परिजनों ने जमकर हंगामा किया. मामले की गंभीरता को देखते हुए सिविल सर्जन डॉ विनय कुमार शर्मा ने जांच के आदेश दे दिए हैं. साथ ही दोषियों पर कार्रवाई करने का आश्वासन भी दिया है.

    जानकारी के मुताबिक मुजफ्फरपुर आई-हॉस्पिटल में 22 नवंबर को सुबह 10 बजे से लेकर 1 बजे तक विशेष मोतियाबिंद ऑपरेशन का कैंप लगाया गया था. इसमें करीब 24 से अधिक महिलाओं और पुरुषों ने मोतियाबिंद का ऑपरेशन करवाया था. लेकिन, महज एक सप्ताह के अंदर ही सभी के आंखों में इंफेक्शन हो गया. हालात इतने ज्यादा बिगड़ गए कि कई लोगों को अपना इलाज अन्य जिलों में जाकर भी करवाना पड़ा.

    इसी केस के पीड़ित कुछ लोग दूसरी जगहों पर इलाज करवाने में सक्षम नहीं थे, वैसे लोगों ने अस्पताल पहुंचकर चेकअप कराया तो यह कहा गया कि इंफेक्शन हो गया है, आंखें हटानी पड़ेंगी अन्यथा दोनों आंखें इंफेक्शन के कारण खराब हो जाएंगी. अस्पतालकर्मियों के द्वारा ये कहे जाने के बाद मरीजों व उनके परिजनों का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया. मरीजों के परिजनों ने अस्पताल में हंगामा करना शुरू कर दिया.

    मरीजों के परिजनों के हंगामे के दौरान अस्पताल का कोई भी पदाधिकारी अस्पताल में मौजूद नहीं थे. बताया जा रहा है कि जब इसकी जानकारी सिविल सर्जन को दी गई तो सभी अस्पताल कर्मी दर्द से कराहते मरीजों को छोड़कर भाग गए. इसके बाद सूचना पर पुलिस बल को भेजा गया और सभी मरीजों और उनके परिजनों को अस्पताल से बाहर निकाला गया. इनमें कई मरीज ऐसे थे जिन्हें एंबुलेंस से पटना भी भेजा गया है.

    स्थानीय लोगों का कहना था कि 6 से अधिक लोग हैं, जो बहुत परेशानी में थे. जिनका विभिन्न जगहों पर इलाज हुआ है और उनकी आंखों को निकाला गया है. सिर्फ इसलिए कि ठीक से ऑपरेशन नहीं हुआ. पूरी आंख में इंफेक्शन हो गया था, जिसे निकालने के अलावा दूसरा कोई उपाय उनके पास नहीं था. जब इस पूरे मामले पर सिविल सर्जन से सवाल किया गया, जिसके बाद सिविल सर्जन डॉ विनय शर्मा ने कहा कि कई फोन कॉल से यह जानकारी मिली है कि ऑपरेशन के बाद लोगों को काफी ज्यादा दिक्कतें आई हैं.

    उन्होंने कहा कि इस पूरे प्रकरण की गहनता से जांच के लिए तीन डॉक्टरों की टीम बनाई गई है, जो 2 दिनों के अंदर रिपोर्ट देंगे कि आखिर ऑपरेशन प्रोटोकॉल का पालन किया गया या नहीं. किस कारण से ऐसा हुआ है. जो भी दोषी होंगे उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई होगी.

    Tags: Bihar News, Mangal Pandey, Muzaffarpur news, PATNA NEWS, SKMCH

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर