लाइव टीवी

मिठाई के काले कारोबार का खुलासा, यूरिया और वाशिंग पावडर से बनाया जा रहा था दूध

SUDHIR KUMAR | News18 Bihar
Updated: October 24, 2019, 8:50 AM IST
मिठाई के काले कारोबार का खुलासा, यूरिया और वाशिंग पावडर से बनाया जा रहा था दूध
मुजफ्फरपुर में छापेमारी के दौरान सैंपल जब्त करते खाद्य विभाग के अधिकारी

बिहार के मुजफ्फरपुर में खाद्य विभाग की ये कार्रवाई चंद्रलोक चौक, जवाहर लाल रोड, अखाराघाट, चंदवारा इलाकों में चली. यहां की तंग गलियों में इस बाहरी मिलावटी खोया का कारोबार चल रहा था.

  • Share this:
मुजफ्फरपुर. त्योहारों के मौसम में घर-घर में मिठाई की मांग बढ़ जाने से रंगीन और खूबसूरत दिखने वाली मिठाईयां बाजार में सज गयी हैं. इन मिठाईओं के खरीददार भी हैं क्योंकि दुर्गापूजा के साथ ही दीपावली, छठ जैसे बड़े त्योहारों का मौसम शुरू हो गया है लेकिन नकली और सिन्थेटिक मिठाईयों के कारोबारी भी इसी अवसर को भुनाने में जोर शोर से लगे हैं मुजफ्फरपुर में खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम लगातार अभियान चलाकर कार्रवाई कर रही है.

खोया से लेकर पनीर तक किया गया नष्ट

खाद्य विभाग की इस कार्रवाई के दौरान भारी मात्रा में खोया, पनीर और मिठाईयां नष्ट भी की गई हैं. विभाग को गुप्त सूचना मिली थी कि करीब आठ टन नकली खोया दूसरे राज्य से इस इलाके में आ चुका है इसके बाद ये कार्रवाई की गई. मुजफ्फरपुर के चंद्रलोक चौक, जवाहर लाल रोड, अखाराघाट, चंदवारा इलाकों की तंग गलियों में इस बाहरी मिलावटी खोया का कारोबार चल रहा था. खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम ने इसी सूचना के मद्देनजर दुकानों में अभियान चलाया. कार्रवाई के दौरान कई नामचीन दुकानों में भी खराब मिठाईयां पकड़ी गई हैं जिन्हें छापामार दस्ते नें नष्ट कराया .

अधिकारी बोले

खाद्य सुरक्षा पदाधिकारी सुदाामा चौधरी ने बताया कि ये कार्रवाई लगातार जारी रहेगी. उन्होंने कहा कि लुभाने वाली ये सुंदर मिठाईयां खतरनाक भी हो सकती है इसलिए मिठाई की खरीददारी काफी सोच समझकर ही करें. छापामार दल नें फिलहाल बड़ी संख्या में दुकानों से नमूना इकट्ठा किया है और जांच के लिए ये नमूने पटना लैब में भेजे जा रहे हैं. विभाग के अधिकारियों ने बताया कि रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी.

ऐसे तैयार होता है नकली मावा और मिठाई

एक्सपर्ट बताते हैं कि बाजार में मांग बढ जाने पर कारोबारी दूध में डालडा, आरारोट, अलुआ सुथनी के साथ-साथ यूरिया, वाशिंग पा‌वडर और एसेंस मिलाकर नकली जहरीला पदार्थ तैयार करते हैं जिसे खोया और मावा की शक्ल में बाजार में उतार दिया जाता है. इनसे बनी मिठाईयां जानलेवा होती हैं जिन्हें खाने से किडनी लीवर की बीमारी के साथ साथ कैंसर का भी खतरा है. इन दिनों स्थानीय कारोबारी खराब बेसन और साधारण रंग का भी उपयोग कर रहे हैं जो स्वास्थ्य के लिए घातक है. ऐसे मामले पकड़े जाने पर पांच लाख जुर्माना से जेल तक की सजा का प्रावधान है.
Loading...

ये भी पढ़ें- दिल्ली-झारखंड में भी जड़ें जमाने की कोशिश में JDU, BJP पर हमलावर

ये भी पढ़ें- बाहुबली विधायक अनंत सिंह के खिलाफ चार्जशीट दाखिल, हत्या की साजिश रचने का आरोप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 24, 2019, 8:49 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...