Muzaffarpur: बेटी की मोहब्बत से नाराज घरवालों ने की हत्या, पुलिस ने 43 दिनों बाद किया खुलासा

बिहार के मुजफ्फरपुर में ऑनर किलिंग में युवती की हत्या

Muzaffarpur Honor Killing: हत्या से पहले मृतका को खाने में नशे की गोली देकर बेहोश कर दिया और उसका चेहरा पहचाना ना जा सके, इसलिए परिजनों ने चेहरा चाकू से गोद डाला. कांड की तफ्तीश कर रहे आईपीएस सैयद इमरान मसूद को शुरू से ही परिजनों पर शक था.

  • Share this:
मुजफ्फरपुर. बिहार के मुजफ्फरपुर में ऑनर किलिंग (Honor Killing) का मामला सामने आया है. पड़ोस के गांव के एक लड़के से प्रेम संबंध (Love Affair) रखने पर एक युवती को उसके परिजनों ने निर्मम तरीके से मौत की नींद सुला दिया. वारदात को इतने शातिराना अंदाज में अंजाम दिया गया है कि पुलिस को इस घटना का खुलासा करने में 43 दिन लग गए और उसके बाद सफलता हाथ लगी. पुलिस ने लड़की के माता-पिता को गिरफ्तार कर लिया है. मामले से जुड़े कई अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है.

घटना मनियारी थाना क्षेत्र के माधोपुर सुस्ता गांव की है. पूरी सच्चाई सामने आने पर लोग सन्न हैं. दरअसल 1 जून को कुढ़नी थाना इलाके के चंद्रहड्डी गांव में पानी से भरे गड्ढे में एक युवती का शव मिला था. मृतका के चेहरे को बुरी तरीके से क्षतिग्रस्त कर दिया गया था ताकि उसकी पहचान नहीं हो सके. कुढ़नी थाना की पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर अज्ञात मानते हुए पोस्टमार्टम के लिए एसकेएमसीएच भेज दिया था. 2 जून को मृतका के परिजन अचानक बेटी की हत्या कर शव को तेजाब से चेहरा जला कर शव फेंक दिए जाने का आरोप लगाते हुए उग्र हो गए. तब पता चला कि मरने वाले लड़की मनियारी थाना के माधोपुर सुस्ता निवासी शंकर राय की बेटी थी.

पड़ोस के दो युवकों को फंसाने लगाया अपहरण, हत्या का आरोप
परिजनों के बवाल पर पुलिस पहुंची तो परिजनों ने पड़ोस के ही दो युवकों पर पूजा के अपहरण-हत्या का आरोप लगाया और उसे पकड़कर पुलिस को सौंप दिया. पुलिस ने लोगों के दबाव में आकर दोनों युवकों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. 2 जून को मीडिया के सामने आई मृतका की मां मालती देवी ने बताया था कि 31 मई की शाम जब वह बेटी पूजा के साथ ही स्कूटी से दवा लेने जा रही थी,, तभी आरोपी युवकों ने उसे अगवा कर लिया था लेकिन यह बात उसने पुलिस को नहीं बताई. 31 मई को हुई अपहरण की प्राथमिकी 2 जून को मनियारी थाने में दर्ज करायी गई. इस कांड की तफ्तीश कर रहे एएसपी सैयद इमरान मसूद को शुरू से ही परिजनों के व्यवहार पर शक था.

मामले की जानकारी देते सैयद एएसपी इमरान मसूद


मृतका के चाचा ने उगला राज
एसएसपी जयंत कांत के आदेश पर एएसपी मसूद ने खुद इस मामले की छानबीन शुरू की. कई साक्ष्यों को संकलित करने के बाद मनियारी पुलिस ने मृतका पूजा के चाचा लालबाबू राय को उठा लिया. लालबाबू राय से जब कड़ाई से पूछताछ की गई तो उसने सारी सच्चाई उगल दी. उसके बाद पुलिस ने पूजा के पिता शंकर राय, मां मालती देवी को तत्काल गिरफ्तार कर लिया.

बेटी का प्रेमसंबंध परिजनों को नहीं था मंजूर
एएसपी वेस्ट सैयद इमरान मसूद ने बताया कि पूजा का पड़ोसी गांव बिशुनपुर गिद्धा के युवक से प्रेम संबंध था, जिसका परिजन विरोध कर रहे थे. पूजा परिजनों की बात मानने को तैयार नहीं हुई तो 31 मई की रात को माता-पिता और अन्य संबंधियों ने मिलकर उसे घर के पीछे गाछी में ले गए और उसकी हत्या कर दी.

अन्य अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी
हत्या से पहले मृतका को खाने में नशे की गोली देकर बेहोश कर दिया गया था. इस घटना में माता पिता के अलावा सोनू कुमार,, सुशील कुमार, श्याम कुमार और दुर्गेश कुमार शामिल थे. हत्या के बाद मृतका की पहचान छिपाने के लिए आरोपियों ने उसके चेहरे को चाकू गोदकर क्षतिग्रस्त कर दिया था ताकि उसकी पहचान नहीं हो सके. आरोपियों ने दुर्गेश की ऑल्टो कार पर शव को लादकर कुढनी ले जाकर चंद्रहटी गांव में पानी से भरे गड्ढे में फेंक दिया था. इस पूरे ऑनर किलिंग कांड का खुलासा होने के बाद पुलिस की तफ्तीश की दिशा बिल्कुल बदल गई. इस कांड में जेल भेजे गए दोनों युवकों की रिहाई के लिए मनियारी पुलिस कोर्ट में अर्जी दाखिल करेगी तो वहीं आरोपी माता--पिता को जेल भेजा जाएगा. एएसपी मसूद ने कहा कि ऑनर किलिंग कांड के चार अन्य अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.