Bihar Floods: पतीले वाली नाव बनी बाढ़ से बचाव की जुगाड़, देखें Video

Viral Video: मुजफ्फरपुर के मधुबन काटी गांव के लोगों ने बाढ़ से बचाव के लिए बनाई पतीले वाली नाव.

Bihar Flood Viral Video: मुजफ्फरपुर के मीनापुर के एक गांव में बूढ़ी गंडक नदी की बाढ़ में फंसे कुछ लोगों ने 4 पतीले के ऊपर खाट रखकर जुगाड़ की नाव बना ली, जिसका वीडियो वायरल हो गया.

  • Share this:
मुजफ्फरपुर. उत्तर बिहार के कई जिलों में इन दिनों बाढ़ ने कहर बरपा रखा है. प्रशासन हरसंभव प्रयास कर रहा है, ताकि बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा सके. इसके लिए जगह-जगह नाव की व्यवस्था की गई है. लेकिन कई स्थानों पर नाव की कमी पड़ जाती है, जिसके कारण लोगों को परेशानी होती है. ऐसे में लोग जुगाड़ का सहारा लेकर बाढ़ से बचाव का इंतजाम कर रहे हैं. जिले के मीनापुर प्रखंड के मधुबन काटी गांव में भी बीते दिनों एक ऐसी ही जुगाड़ की नाव दिखी, जिसका वीडियो वायरल हो गया.

मीनापुर प्रखंड के सैकड़ों गांव बूढ़ी गंडक नदी में आई बाढ़ के कारण पानी में डूबे हुए हैं. प्रखंड के मधुबन काटी गांव में रहने वाला 700 परिवार भी बाढ़ में घिरा हुआ है. प्रशासन इन लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का प्रयास कर रहा है. लेकिन इस काम में कई बार नावें कम पड़ जाती हैं. ऐसे में मधुबन काटी गांव के लोगों ने घर के बर्तनों से ही जुगाड़ की नाव बना डाली. लोगों ने खाना बनाने वाले एल्युमिनियम के पतीले से जुगाड़ की नाव तैयार की. घरों के चारों ओर पानी के बीच गांव के कुछ लोग ऐसे ही पतीले से बने नाव से बाहर निकलते हैं, ताकि जिंदगी की जरूरतों को पूरी करने के लिए सामान जुटा सकें.



पतीले से बनी इस नाव पर बैठने के लिए इसके ऊपर एक खाट रख दिया गया है. इस वायरल वीडियो में आप देख सकते हैं कि कुछ लोग 4 पतीलों से बनी इस नाव के सहारे बाढ़ के पानी में उतरा रहे हैं. बाढ़ की विभीषिका के बीच जुगाड़ वाली इस नाव का यह वीडियो सोशल मीडिया में भी चर्चा का विषय बना हुआ है. इस नाव के बारे में मधुबन काटी गांव के चंद्रदेव सहनी, रामनाथ सहनी, रिंकू आदि ने कहा कि बाढ़ के पानी से बचाव के लिए ऐसा करना पड़ा है, क्योंकि घरों में इतना पानी है कि रहना मुश्किल हो गया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.