चमकी बुखार का कहर: भाई को मरते देख बोला युवक- उसे नहीं बचा सकते तो मुझे भी मार दो..

अस्पताल में एक मार्मिक दृष्य देख सबका कलेजा मुंह को आ गया जब मौत की गर्त में समा रहे भाई को देख एक शख्स ने कहा 'मुझे भी मार दो.'

News18 Bihar
Updated: June 16, 2019, 7:07 PM IST
चमकी बुखार का कहर: भाई को मरते देख बोला युवक- उसे नहीं बचा सकते तो मुझे भी मार दो..
मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से 84 बच्चों की मौत
News18 Bihar
Updated: June 16, 2019, 7:07 PM IST
बिहार में चमकी बुखार कहे जाने वाले एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा. मुजफ्फरपुर में तो चमकी बुखार से अब तक 93 बच्चों की मौत हो चुकी है. अस्पतालों से हर पल मौत के मुंह में समाते बच्चों की तस्वीरें सामने आ रही है. लगातार बढ़ती संख्या से अस्पताल में मरीजों के लिए बेड नहीं मिल रहे हैं. नतीजा एक बेड पर दो या दो से अधिक बच्चों को भर्ती कराया गया है. अस्पताल में एक मार्मिक दृष्य देख सबका कलेजा मुंह को आ गया जब  मौत की गर्त में समा रहे भाई को देख एक शख्स ने कहा 'मुझे भी मार दो.'

दरअसल मुजफ्फरपुर के श्रीकृष्णा मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में भर्ती आखिरी सांस ले रहे मरीज के भाई ने मीडिया और नेताओं को देखकर आपा खो दिया. मरीज के भाई ने कहा, 'मेरा बड़ा भाई दो महीने से अस्पताल में भर्ती है. मैं चाहता हूं कि उनको और सभी बच्चे जो मरने की स्थिति में हैं उन पर ध्यान दिया जाए, उन्हें सही इलाज दिया जाए. मैंने ब्लड दिया, छोटे भतीजे ने ब्लड दिया लेकिन कोई सुनने वाला नहीं है. मीडिया वाले आते हैं, नेता आते हैं और चले जाते हैं, कोई सुनने वाला नहीं हैं. बताइए क्या करें, या तो हमें भी जान से मार दीजिए.'

यहां देखें वीडियो


 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री पहुंचे मुजफ्फरपुर
बता दें कि बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से मौत का आंकड़ा 84 हो गया है. कई बच्चे गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती हैं. तीमारदारों का कहना है कि यहां हर साल बच्चे मर रहे हैं लेकिन मरीजो को पुख्ता इलाज नहीं मिल रहा है. इस बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन स्थिति की समीक्षा करने मुजफ्फरपुर पहुंचे. उनके साथ केंद्रीय राज्यमंत्री अश्विनी चौबे भी मौजूद रहे.

ये भी पढ़ें: 

बिहार में 90 से ज़्यादा बच्चों की मौत की वजह लीची नहीं ये है

वो घातक बीमारी, जो मासूम बच्चों को बना रही अपना शिकार!
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...