• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • Lockdown: मुजफ्फरपुर में बांटा गया सड़ा अनाज, BDO कार्यालय का किया घेराव

Lockdown: मुजफ्फरपुर में बांटा गया सड़ा अनाज, BDO कार्यालय का किया घेराव

बी​डीओ के कार्यालय पर लाभुकों ने घंटों तक प्रदर्शन किया

बी​डीओ के कार्यालय पर लाभुकों ने घंटों तक प्रदर्शन किया

मुजफ्फरपुर में जन वितरण प्रणाली के दुकानदारों द्वारा सड़ा हुआ चावल और घटिया गेहूं वितरण करने के खिलाफ लाभुकों ने जमकर हंगामा किया. मुसहरी पंचायत के 2 डीलरों द्वारा सड़ा हुआ चावल और गेहूं का वितरण लाभुकों के बीच किया गया था.

  • Share this:
मुजफ्फरपुर. मुजफ्फरपुर में जन वितरण प्रणाली के (Public Distribution System) दुकानदारों द्वारा सड़ा हुआ चावल (Rice) और घटिया गेहूं (Wheat) वितरण करने के खिलाफ लाभुकों ने जमकर हंगामा किया. मुजफ्फरपुर शहर से सटे मुसहरी प्रखंड कार्यालय का घेराव कर लाभुकों ने दोषी डीलरों और मार्केटिंग ऑफिसर के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. मुसहरी पंचायत के 2 डीलरों द्वारा सड़ा हुआ चावल और गेहूं का वितरण लाभुकों के बीच किया गया था, लेकिन लाभुकों ने सड़ा हुआ अनाज लेने से इंकार करते हुए बीडीओ के कार्यालय पर पहुंचकर विरोध दर्ज कराया. लाभुकों ने कार्यालय का घंटों के घेराव किया और फिर से अच्छी क्वालिटी का चावल गेहूं वितरण करने की अधिकारियों से की.

घटिया अनाज के साथ अधिकारी के कार्यालय पहुंचे

100 से अधिक की संख्या में पहुंचे नाराज लाभुकों ने डीलरों द्वारा वितरण किए गए सड़े हुए चावल और गेहूं को लेकर प्रखंड मुख्यालय तक पहुंचे थे. वैसे लाभुक जिन्होंने डीलर से सड़ा हुआ अनाज प्राप्त कर लिया था, वह सभी अनाज के साथ अधिकारी के कार्यालय तक पहुंच गए. पहले मुसहरी के प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी के कार्यालय गए लेकिन आपूर्ति पदाधिकारी से मुलाकात होने के बाद बीडीओ के कार्यालय के समक्ष लाभुकों ने सड़े हुए अनाज के साथ प्रदर्शन किया.

अप्रैल से जून माह तक मिलना है 5 किलो मुफ्त चावल

कोरोना बंदी की वजह से सरकार ने अप्रैल से लेकर जून माह तक 5 किलो चावल के अतिरिक्त भुगतान का आदेश जारी कर रखा है. 5 किलो चावल के लिए किसी प्रकार का शुल्क लाभुकों से नहीं लेना है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने करुणानिधि में विशेष तौर पर अगले 3 महीने के लिए 5 किलो चावल अतिरिक्त देने की घोषणा की थी. अप्रैल माह से ही लोगों को प्रतिमाह मिलने वाले अनाज के अलावा 5 किलो चावल बिना शुल्क के भुगतान किया जाने का आदेश है, लेकिन सड़ा हुआ अनाज वितरण किए जाने से लाखों लोगों में सरकार और प्रशासन के प्रति गहरी नाराजगी है.

wheat
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने करुणानिधि में विशेष तौर पर अगले 3 महीने के लिए 5 किलो चावल अतिरिक्त देने की घोषणा की थी.


राशन कार्ड के बाद भी नहीं मिल रहा अनाज

मुजफ्फरपुर जिले में बड़े पैमाने पर यह शिकायत मिल रही है कि जिन लोगों के पास पहले से राशन कार्ड है, उन्हें जन वितरण प्रणाली के दुकानदारों द्वारा राशन नहीं दिया जा रहा है. मुसहरी प्रखंड कार्यालय में विरोध करने आए लोगों में कई ऐसे लोग थे, जिनके पास पहले से राशन कार्ड हैं लेकिन डीलरों ने उन्हें किसी प्रकार का राशन पिछले कई माह से नहीं दिया है. नीतीश सरकार ने ऐसे सभी लोगों को कोरोना संकट में राशन मुहैया कराने का आदेश दिया है, जिनके पास पहले से राशन कार्ड नहीं है. ।

43000 लाभुकों को नहीं भेजे गए एक हजार रुपये

मुजफ्फरपुर में 6 लाख 37 हजार राशन कार्ड धारियों के खाते में एक-एक हजार रुपए दिए गए हैं, लेकिन अभी भी 43,000 से अधिक लाभुक हैं? जिन्हें ₹1000 का भुगतान नहीं हो सका है. इसके लिए अगले 3 दिनों में आधार कार्ड और बैंक के खाते नंबर के साथ मिलान कर लाभुकों के खाते में एक-एक हजार रुपया दिया जाना है.

ये भी पढ़ें: रमजान: CM नीतीश ने दी बधाई, इमारत-ए-शरिया ने की घरों में नमाज पढ़ने की अपील

बिहार: सोशल डिस्टेंसिंग के लिए 500 से अधिक कैदी बेउर से भेजे गए अन्य जेल

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज