गुजरात से बिहार लौट रही महिला की ट्रेन में मौत, प्लेटफॉर्म पर लाश के साथ मासूम का Video वायरल
Muzaffarpur News in Hindi

गुजरात से बिहार लौट रही महिला की ट्रेन में मौत, प्लेटफॉर्म पर लाश के साथ मासूम का Video वायरल
मां के शव के साथ खेलता रहा मासूम. (सांकेतिक तस्वीर)

इन दिनों एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है, जिसमें मासूम बच्‍चा अपनी मां के शव के साथ खेल रहा है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
मुजफ्फरपुर. कोरोना वायरस की वजह से देशभर में जारी लॉकडाउन (Lockdown) हर किसी पर भारी पड़ रहा है, लेकिन सबसे ज्‍यादा बदतर हालात प्रवासी मजदूरों (Migrant Laborer) के हैं. इस दौरान पैदल चलते हुए काफी संख्‍या में लोग रोड एक्‍सीडेंट का शिकार हो गए तो कुछ श्रमिक स्‍पेशल ट्रेनों में दम तोड़ रहे हैं. जबकि इन दिनों एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है, जिसमें मासूम बच्‍चा अपनी मां के शव के साथ खेल रहा है. यह वायरल वीडियो बिहार के मुजफ्फरपुर स्टेशन का है.

जानिए क्‍या है मामला
आपको बता दें कि 3 दिन पहले अहमदाबाद से कटिहार जा रही 35 साल की अरवीना खातून ट्रेन में ही मृत पाई गई थी. उस समय यह कहा गया था कि बीमारी की वजह से खातून की मौत हुई है. जबकि बिहार के मुजफ्फरपुर जंक्शन पर ट्रेन से शव को उतारकर कर एंबुलेंस के जरिए उसके घर भेजा गया था. हालांकि वायरल वीडियो की प्रशासन द्वारा पुष्टि भी की जा रही है कि यह वही वीडियो है जब ट्रेन से मृत महिला को उतारा गया था. यही नहीं, जिस दिन यह घटना हुई थी उस दिन अलग-अलग ट्रेन से एक 4 साल के बच्चे और एक 35 साल की महिला का शव उतारा गया था. इस वीडियो में मासूम अपनी मां के ऊपर पड़े कंबल से खेल रहा है.

महिला अहमदाबाद से लौट रही थी कटिहार



महिला को बीमार बताया जा रहा था और वह अहमदाबाद से अपने घर कटिहार लौट रही थी. बच्चे के साथ पूरा परिवार अमदाबाद में रह रहा था. विशेष ट्रेन से अहमदाबाद से मधुबनी जाने वाली ट्रेन पर महिला दो बच्चों, छोटी बहन और उसके पति के साथ आ रही थी. इस परिवार को समस्तीपुर के रास्ते कटिहार जाना था. कोरोना बंदी में चलाए जा रहे विशेष श्रमिक ट्रेन से उनकी घर वापसी हो रही थी. ट्रेन में दूसरे प्रवासी यात्रियों की शिकायत के बाद मुजफ्फरपुर जंक्शन के प्लेटफार्म नंबर 3 पर मृत महिला के शव को उतारा गया था, जिसके बाद प्रशासन ने शव को पोस्टमार्टम कराने की बात की थी. लेकिन इस शव को बिना पोस्टमार्टम किये ही कटिहार के लिये भेज दिया गया था.



हालांकि जिस समय प्रवासी मजदूरों को लेकर ट्रेन मुजफ्फरपुर जंक्शन पहुंची थी उस समय किसी पत्रकार या वीडियोग्राफर को भी प्लेटफार्म नंबर 3 पर जाने की इजाजत प्रशासन ने नहीं दी थी. माना जा रहा है किसी आम आदमी ने मोबाइल के जरिए इससे वीडियो को कवर किया और अब सोशल मीडिया पर वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है.

जीआरपी ने की पुष्टि
मुजफ्फरपुर जीआरपी के थाना प्रभारी नंदकिशोर सिंह ने महिला के शव के चेहरे से बच्चे द्वारा हटाए जाने वाले वीडियो की पुष्टि की है. उन्होंने कहा है कि उसी महिला का शव है जो बीते दिनों ट्रेन से उतारा गया था. मुजफ्फरपुर जंक्शन आने से 3 घंटा पहले ही बीमारी की वजह से महिला ने दम तोड़ दिया था. यात्रियों की सूचना के बाद मुजफ्फरपुर में शव को उतारा गया और शासन की मौजूदगी में एंबुलेंस के जरिए स्थानीय मुखिया को जानकारी देकर कटिहार से उनके पैतृक घर शव को भेज दिया गया था. साथ ही अंडरटेकिंग भी परिवार के सदस्यों से पुलिस ने ले ली थी. जबकि अरवीना खातून को कुछ दिन पहले ही उसके पति ने छोड़ दिया था. वह अमदाबाद में अपनी छोटी बहन के घर पर रह कर राजमिस्त्री का काम कर घर परिवार चलाती थी. वह 2 बच्चों की मां थी.

ट्रेनों में है बदइंतजामी
प्रवासी मजदूरों को लेकर आ रही विशेष श्रमिक ट्रेनों में काफी हद तक बदइंतजामी में देखने को मिल रही है. यही नहीं, कई ट्रेनों के लेट परिचालन की वजह से यात्रियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. ट्रेनों में प्रवासी मजदूरों को खाने की व्यवस्था की गई है, लेकिन कई दिनों के विलंब से पहुंचने के कारण इन प्रवासी मजदूरों को खाना-पीना भी नहीं मिल पा रहा है ना ही किसी प्रकार की चिकित्सा की सुविधा ट्रेनों में उपलब्ध कराई गई है. चलाई जा रही विशेष श्रमिक ट्रेनों में सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन नहीं किया जा रहा है. एक ही सीट पर कई यात्री बैठकर सफर कर रहे हैं उमस भरी गर्मी में 2 से 3 दिनों के लेट परिचालन की वजह से प्रवासी मजदूरों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

ये भी पढ़ें

बिहार विधानसभा चुनाव में नीतीश की नैया पार लगाएगी ये तिकड़ी, जानिए खासियत
First published: May 27, 2020, 10:43 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading