Home /News /bihar /

बालिका गृह सेक्स स्कैंडल : मास्टरमाइंड ब्रजेश ठाकुर को भागलपुर शिफ्ट किया गया

बालिका गृह सेक्स स्कैंडल : मास्टरमाइंड ब्रजेश ठाकुर को भागलपुर शिफ्ट किया गया

file photo

file photo

मुजफ्फरपुर बालिका गृह सेक्स स्कैंडल की जांच कर रही सीबीआई ने इसके मास्टरमाइंड ब्रजेश ठाकुर को खुदीराम बोस सेंट्रल जेल से भागलपुर शिफ्ट करने का अनुरोध किया है. सीबीआई ने कहा है कि मुजफ्फरपुर जेल में रहते हुए ठाकुर अपने प्रभाव का इस्तेमाल कर सकता है.

अधिक पढ़ें ...
    मुजफ्फरपुर बालिका गृह सेक्स स्कैंडल की जांच कर रही सीबीआई की सिफारिश पर इसके मास्टरमाइंड ब्रजेश ठाकुर को  खुदीराम बोस सेंट्रल जेल से भागलपुर शिफ्ट कर दिया गया है.  मुजफ्फरपुर जेल के अधीक्षक नीरज झा ने न्यूज18 को बताया कि गुरुवार देर रात एक बजे उसे भारी सुरक्षा के बीच भागलपुर जेल भेजा गया.

    सीबीआई ने आशंका जताई थी कि मुजफ्फरपुर जेल में रहते हुए ठाकुर अपने प्रभाव का इस्तेमाल कर सकता है.

    राज्य सरकार  ने इस पर गंभीरता से विचार किया और जेल आईजी ने इसे स्वीकार करते हुए मुजफ्फरपुर प्रशासन को शिफ्ट करने के आदेश दे दिए. ब्रजेश ठाकुर के अलावा उसके एनजीओ सेवा संकल्प एवं विकास समिति में काम करने वाली आठ महिलाएं, निलंबित चाइल्ड वेलफेयर ऑफिसर रवि रौशन, समाज कल्याण विभाग की निलंबित सहायक निदेशक रोजी रानी और ठाकुर का ड्राइवर विजय भी मुजफ्फरपुर जेल में बंद है.

    ब्रजेश के अलावा बाकी आरोपियों को पटना के बेऊर जेल में शिफ्ट किया जा सकता है.

    टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (टिस) की रिपोर्ट में शेल्टर होम में नाबालिग लड़कियों से रेप और मानिसक-शारीरिक यातना का खुलासा होने के बाद 27 मई को मुजफ्फरपुर के अधिकारियों को इसकी सूचना दी गई थी और दो जून को ब्रजेश ठाकुर गिरफ्तार कर लिए गए.

    तीन जून को जेल भेजने के पांच दिनों बाद ही अपने रसूख का इस्तेमाल करते हुए ब्रजेश ठाकुर कई गंभीर बीमारियों का बहाना बनाकर एसकेएमसीएच अस्पताल में भर्ती हो गया. यहां 17 दिनों तक ठाठ से रहने के बाद नए जेल अधीक्षक ने अस्पताल से रिपोर्ट मंगवाई और फिर उसे वापस जेल के मेडिकल वार्ड में शिफ्ट किया गया.

    अगस्त में जब जेल में छापेमारी हुई तो ठाकुर के पास से एक डायरी बरामद हुई. इसमें लगभग 40 लोगों के नाम थे जिनसे वह संपर्क में था. इसी डायरी के सामने आने के बाद समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा को इस्तीफा देना पड़ा क्योंकि इसमें उनके पति चंद्रशेखर वर्मा ऊर्फ चंदेश्वर वर्मा का नाम आने की बात कही गई. हालांकि इसकी तस्दीक खुद ठाकुर ने मुजफ्फरपुर कोर्ट परिसर में पत्रकारों से बात करते हुए की.

    26 जुलाई को सीएम नीतीश कुमार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की और 28 जुलाई से केंद्रीय एजेंसी ने जांच की जिम्मेदारी संभाल ली. सीबीआई अधिकारियों ने ठाकुर के बैकग्राउंड पर नजर दौडा़ने के बाद ही उसे जेल से शिफ्ट करने की सिफारिश की.

    Tags: CBI, Muzaffarpur news, Muzaffarpur Shelter Home Rape Case

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर