लाइव टीवी

नीलगायों के आतंक से किसानों को मिल सकती है मुक्ति, प्रशासन ने लिया ये फैसला
Muzaffarpur News in Hindi

News18 Bihar
Updated: December 31, 2019, 4:35 PM IST
नीलगायों के आतंक से किसानों को मिल सकती है मुक्ति, प्रशासन ने लिया ये फैसला
मुजफ्फरपुर जिला प्रशासन ने नील गाय को वर्मिन घोषित किया.

बैठक में तय हुआ कि जनवरी के पहले सप्ताह से नीलगाय का हंटिंग अभियान शुरू किया जाएगा. इसके लिए वन विभाग प्रशिक्षित हंटर को तैनात करेगा.

  • Share this:
मुजफ्फरपुर. किसानों के लिए अच्छी खबर है उन्हें नीलगाय के आतंक से जल्द हीं छुटकारा मिल सकता है. दरअसल नीलगाय को सरकारी तौर पर वर्मिन (Vermin) यानी फसल नष्ट करने वाला जीव घोषित कर दिया गया है. यानि  नीलगाय को मारना अब गैर कानूनी नहीं होगा. कृषि विभाग के मुताबिक हर साल तीस से चालीस प्रतिशत मक्का और आलू की फसल नीलगाय नष्ट कर देते हैंं. अन्य फसलों में भी ये जानवर लगभग बीस प्रतिशत की क्षति पहुंचाते हैं. यही वजह रही कि नीलगाय के आतंक से तवाह होकर हजारों किसानों ने पिछले सप्ताह जोरदार आन्दोलन किया था.

इसके बाद जिला प्रशासन नें किसानों के साथ बैठक बुलाई जिसमें जिले भर के किसान प्रतिनिधि और जिला प्रशासन के अधिकारी शामिल हुए. इनमें कृषि विभाग, वन विभाग, राजस्व विभाग सभी प्रखंडों के बीडीओ सीओ शामिल हुए. बैठक में तय हुआ कि जनवरी के पहले सप्ताह से नीलगाय का हंटिंग अभियान शुरू किया जाएगा. इसके लिए वन विभाग प्रशिक्षित हंटर को तैनात करेगा.

बैठक में प्रशासन का नेतृत्व कर रहे एडिशनल कलेक्टर राजेश कुमार नें बताया कि पहले चरण में जिले के पूर्वी और पश्चिमी अनुमंडल के चार चार प्रखंडों का चयन किया गया है. पूर्वी से मुरौल मीनापुर मुसहरी और सकरा का चयन हुआ है जबकि पश्चिमी से कुढनी कांटी मोतीपुर और सरैया प्रखंड में अभियान चलेगा.



नीलगायों का झुंड अक्सर आलू और मक्के के खेतों को निशाना बनाता है.




जिला कृषि पदाधिकारी एके वर्मा नें बैठक नीलगाय से फसल क्षति का ब्योरा पेश करते हुए कहा कि मक्का और आलू की फसलों को नीलगाय सबसे ज्यादा निशाना बना रहे हैं. अनुमान है कि इन फसलों को नीलगाय से चालीस प्रतिशत तक हानि हो रही है. उन्होंने भी नीलगाय से छुटकारा दिलाने की मांग की और कहा कि नीलगाय की वजह से खेती बाड़ी से लोग दूर हो रहे हैं.

डीएफओ सुधीर कुमार कर्ण ने बताया कि नीलगाय से क्षति के लिए वन विभाग में अलग सेल गठित किया जाएगा जहां किसान शिकायत दर्ज करा सकेंगे. इधर किसानों नें अपने आन्दोलन की तारीख को टाल दिया है. पूर्व मंत्री अजीत कुमार के नेतृत्व में किसानों नें प्रशासन को 15 जनवरी तक का समय दिया है.

पूर्व मंत्री नें कहा है कि 15 जनवरी तक नीलगाय से मुक्ति दिलाने के लिए प्रशासन ने अभियान शुरू नहीं किया तो 16 जनवरी को मुजफ्फरपुर से गुजरने वाले सभी एनएच पर चक्का जाम कर दिया जाएगा. किसानों नें यहां तक कहा है कि नीलगाय से हो रही क्षति पर सरकार की नींद खोलने के लिए राज्य भर के किसानों को एकजुट किया जाएगा और राज्यव्यापी आन्दोलन चलेगा.

ये भी पढ़ें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 31, 2019, 2:16 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading