Home /News /bihar /

मुजफ्फरपुर: ‘आंखफोड़वा’ अस्पताल ने बंद किया गेट, ऑपरेशन नहीं होने का लगाया नोटिस, मरीज बाहर कर रहे इंतजार

मुजफ्फरपुर: ‘आंखफोड़वा’ अस्पताल ने बंद किया गेट, ऑपरेशन नहीं होने का लगाया नोटिस, मरीज बाहर कर रहे इंतजार

Eye Hospital Scandal: आज गुरुवार को भी कुछ मरीजों के आंखों को निकालने के लिए ऑपरेशन किया जाना था, लेकिन इससे पहले इस आई हॉस्पिटल का गेट बंद कर दिया गया और बाहर नोटिस लगा दिया गया है कि फिलहाल सभी ऑपरेशन बंद है. वहीं मरीज हॉस्पिटल के बाहर अपने आंखों के ऑपरेशन के लिए कतार में लग कर इंतजार कर रहे हैं. अब ऐसे में एक बार फिर इस हॉस्पिटल की लापरवाही की वजह से लोग काफी नाराज हैं.

अधिक पढ़ें ...

    प्रियांक सौरभ

    मुजफ्फरपुर. मुजफ्फरपुर के जुरन छपरा स्थित आई हॉस्पिटल  (Eye Hospital) को लोग अब ‘आंखफोड़वा’ अस्पताल भी कहने लगे हैं. दरअसल इस अस्पताल की लापरवाही की वजह से 24 से अधिक मरीजों के आंखों की रोशनी चली गयी है. यही नहीं 15 से ज्यादा मरीजों को इन्फेक्शन (Infection) बढ़ने की वजह से अपनी आंखें तक निकलवानी पड़ी है. आज गुरुवार को भी कुछ मरीजों के आंखों को निकालने के लिए ऑपरेशन किया जाना था, लेकिन इससे पहले इस आई हॉस्पिटल का गेट बंद कर दिया गया और बाहर नोटिस लगा दिया गया कि फिलहाल सभी ऑपरेशन बंद है. वहीं कई मरीज हॉस्पिटल के बाहर अपने आंखों के ऑपरेशन के लिए कतार में लग कर इंतजार कर रहे हैं. अब ऐसे में एक बार फिर इस हॉस्पिटल की लापरवाही की वजह से लोग काफी नाराज हैं. बताया जाता है कि सोमवार को मरीजों के परिजनों ने अपने प्रियजनों के आंखों की रोशनी जाने के बाद अस्पताल में अपने गुस्से का इजहार किया था और प्रबंधन को खूब खरी-खोटी सुनाई थी.


    बता दें, इस आई हॉस्पिटल में करीब 65 लोगों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन (Cataract Surgery) हुआ था, जिसमें 24 से अधिक लोगों के आंखों की रोशनी चली गयी. वहीं इन्फेक्शन की वजह से अब तक 15 लोगों का ऑपरेशन कर उनकी आंखें निकाली जा चुकी हैं. मिली जानकारी के अनुसार 11 मरीजों की आंख एसकेएमसीएच में ऑपरेशन कर बाहर निकाली गयी, वहीं 4 मरीजों का ऑपरेशन जुरन छपरा स्थित आई हॉस्पिटल ने किया है. आज भी कई मरीज ऑपरेशन के लिए आई हॉस्पिटल के बाहर इंतजार कर रहे हैं, लेकिन यहां के प्रबंधन ने एक बार फिर लापरवाही दिखाते हुये हॉस्पिटल का गेट बंद कर दिया है. बता दें, आज एसकेएमसीएच (SKMCH) में भर्ती तीन मरीजों का ऑपरेशन कर आंख बाहर निकाली जाएगी.

    मानवाधिकार ने राज्य सरकार से मांगा जवाब
    इस पूरे मामले की गूंज अब सदन तक पहुंच चुकी है. सदन में विपक्ष लगातार इस बड़े मामले को लेकर राज्य सरकार पर हमलावर है. पूर्व सीएम राबड़ी देवी और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने इस लापरवाही के लिए पूरी तरह से राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराया है. वहीं इस मामले में मानवाधिकार आयोग ने भी अपनी नाराजगी जाहिर की है. बिहार मानवाधिकार आयोग के वकील एसके झा ने इस मामले को लेकर एक याचिका डाली थी, जिसके बाद अब मानवाधिकार आयोग ने सरकार से जवाब मांगा है. मानवाधिकार आयोग की ओर से बिहार के मुख्य सचिव को नोटिस जारी कर चार हफ्ते में जवाब मांगा गया है.

    SKMCH का दौरा करेगी जांच टीम
    वहीं पूरे घटना को लेकर राज्य के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय का कहना है कि स्पेशल टीम पूरे मामले की जांच कर रही है. आई हॉस्पिटल के ओटी मशीन का स्वाब लिया गया है. वहीं दूसरे पहलुओं पर भी जांच की जा रही है, जल्द ही पूरे मामले का रिपोर्ट आ जाएगा. वहीं आज स्वास्थ्य विभाग की तरफ से गठित टीम SKMCH का दौरा कर भर्ती मरीजों से बातचीत भी करेगी.

    Tags: Bihar News, Mangal Pandey, Muzaffarpur news, NHRC, Rabri Devi, SKMCH

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर