लाइव टीवी

पश्चिम बंगाल से अगवा CA बिहार से बरामद, 47 लाख की फिरौती के साथ पकड़े गए किडनैपर
Muzaffarpur News in Hindi

SUDHIR KUMAR | News18 Bihar
Updated: January 13, 2020, 9:59 AM IST
पश्चिम बंगाल से अगवा CA बिहार से बरामद, 47 लाख की फिरौती के साथ पकड़े गए किडनैपर
दार्जलिंग से अगवा व्यवसायी को मुक्त कराने की जानकारी देते मुजफ्फरपुर के एसपी

अपहर्ता (Kidnapper) किशन अग्रवाल को यूपी (UP) और गोपालगंज में लगातार एक जगह से दूसरी जगह घुमा रहे थे. शनिवार को परिजनों नें जब पचास लाख रुपये दे दिए तो किशन अग्रवाल की आड़ लेकर वो उनको बिहार (Bihar) छोड़ने की तैयारी में थे

  • Share this:
मुजफ्फरपुर. बिहार की मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) पुलिस ने पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी से अगवा चार्टर्ड एकाउन्टेन्ट (CA) किशन अग्रवाल को मु्क्त कराने में कामयाबी हासिल की है. किशन अग्रवाल को पांच करोड़ की फिरौती (Ransom) के लिए पिछले मंगलवार को एक अंतरराज्यीय अपहरण गिरोह (Kidnapping Case) ने अगवा कर लिया था. मुजफ्फरपुर पुलिस ने इस गिरोह के सरगना रंजीत गिमिरे समेत उसके तीन अन्य गुर्गों को भी गिरफ्तार कर लिया है और उनके पास से 47 लाख 74 हजार की फिरौती की राशि भी बरामद की है.

पचास लाख ले चुके थे अपहर्ता

परिजनों ने किशन अग्रवाल को छोड़ने के लिए पचास लाख की राशि इस गिरोह को दी थी. यह गिरोह सिल्लीगुड़ी का रंजीत गिमिरे नाम का सर्गना चलाता है जिसमें गोपालगंज का फैज अहमद, तिनसुकिया आसाम का रोबिन उरंग और अनवर हुसैन शामिल हैं. मंगलवार की सुबह इस गिरोह ने किशन अग्रवााल तब अगवा कर लिया था जब वो बाजार जा रहे थे.

लगातार बदल रहे थे लोकेशन



अपहर्ता किशन अग्रवाल को उठाकर गोपालगंज ले आए थे और उनकी पत्नी को फोन करके पांच करोड़ की फिरौती मांग रहे थे. इस दौरान अपराधी किशन अग्रवाल को यूपी और गोपालगंज में लगातार एक जगह से दूसरी जगह घुमा रहे थे. शनिवार को परिजनों नें जब पचास लाख रुपये दे दिए तो किशन अग्रवाल की आड़ लेकर वे बिहार छोड़ने की तैयारी में थे लेकिन सिक्किम की जिस गाड़ी से अपराधी किशन को लेकर भागे थे उसे ट्रेस कर लिया गया था. इसी आधार पर सिल्लीगुड़ी के पुलिस कमिश्नर नें गाड़ी को गोपालगंज में लोकेट कर लिया.

एनएच-28 पर हुई कार्रवाई

मुजफ्फरपुर पुलिस गोपालगंज पुलिस मोतीहारी पुलिस ने मिलकर अपहर्ताओं की गाड़ी को मोतीपुर में एनएच-28 पर दबोच लिया. एसएसपी जयंतकांत ने बताया कि मोतीपुर थाना के इंस्पेक्टर अनिल, सिपाही आदित्य आनंद और चौकीदार नवल किशोर ने काफी रिस्क लेकर तेज गति के भाग रही कार को खदेड़कर पकड़ा. इस काम में मोतीपुर के कुछ स्थानीय युवकों नें भी दिलेरी से पुलिस का साथ दिया. रिहा कराए गये किशन अग्रवाल बीमार हैं और सिल्लीगुड़ी पुलिस उन्हें अपने साथ बंगाल ले गई है.

ये भी पढ़ें- बांका में वार्ड सदस्य के पति को गोलियों से भूना, मौके पर हुई मौत

ये भी पढ़ें- पप्पू यादव बोले- योगी मेरे राज्य में होते तो सीने की सारी हड्डियां तोड़ देता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 13, 2020, 9:53 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर