मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामला: कोर्ट ने चार आरोपियों की रिमांड अवधि बढ़ाई

मुजफ्फरपुर की एक अदालत ने चार आरोपियों की रिमांड अवधि 28 सितंबर तक बढ़ाई. सीबीआई ने इन आरोपियों से पूछताछ के लिए और समय मांगा था.

भाषा
Updated: September 25, 2018, 5:15 AM IST
मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामला: कोर्ट ने चार आरोपियों की रिमांड अवधि बढ़ाई
न्यूज 18 क्रिएटिव
भाषा
Updated: September 25, 2018, 5:15 AM IST
बिहार के मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण मामले में कोर्ट ने सोमवार को चार आरोपियों की रिमांड अवधि बढ़ा दी. अदालत ने हाल ही में गिरफ्तार की गईं बाल संरक्षण इकाई की निलंबित सहायक निदेशक रोजी रानी सहित चार आरोपियों की रिमांड 28 सितंबर तक लिए बढ़ा दी.

विशेष पोस्को अदालत के न्यायाधीश आरपी तिवारी ने रोजी रानी, मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के करीबी गुड्डू कुमार, विजय कुमार तिवारी और संतोष कुमार की रिमांड अवधि मामले में सुनवाई की अगली तारीख 28 सितंबर तक बढ़ा दी. सीबीआई ने कोर्ट से इन चारों आरोपियों से पूछताछ के लिए रिमांड अवधि बढ़ाने के लिए आग्रह किया था. रोजी रानी पर आरोप है कि उन्होंने 2015-17 के दौरान सामाजिक कल्याण विभाग में सहायक निदेशक के रूप में तैनात रहते हुए कुछ पीड़ितों की शिकायतों के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की थी.

इससे पहले अगस्त के महीने में रोजी को स्वयंसेवी संगठनों सेवा संकल्प एवं विकास समति के निरीक्षण में लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित कर दिया गया था. वहीं विजय तिवारी इस कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर का ड्राइवर है, जबकि गुड्डू उसकी प्रिटिंग प्रेस में मशीन सफाई का काम करता था और चौथा आरोपी संतोष लीगल स्टाफ के तौर पर काम करता था.

ये भी पढ़ें: जानिए: मुजफ्फरपुर के बालिका गृह शोषण मामले में कब- कब क्या हुआ

बिहार की समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा इस मामले को लेकर इस्तीफा दे चुकी हैं जबकि उनके पति चंद्रशेखर वर्मा अभी फरार चल रहे हैं. सीबीआई ने चंद्रशेखर वर्मा के विरुद्ध चेरिया बरियारपुर थाना में आग्नेयास्त्र रखने को लेकर एफआईआर दर्ज कराई थी.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर