मुजफ्फरपुर: दहेज प्रताड़ना से तंग आकर महिला ने 15 महीने की बेटी के साथ आत्महत्या की

उन्होंने आरोप लगाया कि ससुराल वाले हाल के दिनों में अकसर दहेज के तौर पर पलंग और अलमारी की मांग करते थे. (सांकेतिक तस्वीर)
उन्होंने आरोप लगाया कि ससुराल वाले हाल के दिनों में अकसर दहेज के तौर पर पलंग और अलमारी की मांग करते थे. (सांकेतिक तस्वीर)

मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) जिले के कुढ़नी थाना अंतर्गत लदौरा गांव निवासी सुगनी देवी का दो वर्ष पूर्व सुजीत के साथ विवाह हुआ था और उनकी 15 महीने की एक बेटी थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 6, 2020, 7:24 AM IST
  • Share this:
मुजफ्फरपुर. बिहार के मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) जिले के काजी मोहमदपुर थाना क्षेत्र (Mohammadpur Police Station Area) में एक नवविवाहिता महिला ने कथित तौर पर ससुराल वालों की दहेज प्रताड़ना से तंग आकर अपनी 15 महीने की पुत्री के साथ आत्महत्या (Suicide) कर ली. काजी मोहमदपुर थाना के अवर निरीक्षक मोहम्मद नसीम अंसारी ने बताया कि मृतकों में राम राजी रोड निवासी सुजीत की पत्नी सुगनी देवी (22) और उनकी 15 महीने की पुत्री शामिल हैं. उन्होंने बताया कि इस मामले में महिला के पति और सास को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ की जा रही है. नसीम ने बताया कि प्रथमदृष्टया यह आत्महत्या का मामला प्रतीत होता है. दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए श्रीकृष्ण मेडिकल कालेज अस्पताल भेजे जाने के साथ मामले में छानबीन शुरू कर दी गयी है.

उन्होंने बताया कि मुजफ्फरपुर जिले के कुढ़नी थाना अंतर्गत लदौरा गांव निवासी सुगनी देवी का दो वर्ष पूर्व सुजीत के साथ विवाह हुआ था और उनकी 15 महीने की एक बेटी थी. विवाहिता के पिता ने आरोप लगाया कि दहेज की मांग पूरी नहीं होने के कारण उनकी पुत्री और उसकी बच्ची को जिंदा जलाकर मार दिया गया. उन्होंने आरोप लगाया कि ससुराल वाले हाल के दिनों में अकसर दहेज के तौर पर पलंग और अलमारी की मांग करते थे.

साला-जीजा के बीच जमीनी विवाद में हत्या
बता दें कि कल ही खबर सामने आई थी कि मुजफ्फरपुर में साला-जीजा के बीच जमीनी विवाद में एक प्रॉपर्टी डीलर (Property Dealer) की हत्या कर दी गयी. हत्या का आरोप एक निलंबित मजिस्ट्रेट पर लगा है जिसे पत्नी के साथ पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. आरोपी रिटार्यड जज का बेटा है. घटना मिठनपुरा थाना के रामबाग मोहल्ले की है. मृतक की पहचान कन्हौली निवासी प्रॉपर्टी डीलर नरेन्द्र नाथ के रुप में हुई है.
काफी समय से विवाद चल रहा था


मिठनपुरा थाना से मिली जानकारी के मुताबिक आरोपी निलंबित मजिस्ट्रेट आशुताष कुमार और उनके जीजा के बीच जमीन को लेकर काफी समय से विवाद चल रहा था. दोनों के बीच कई बार पंचायत हो चुकी थी. रविवार की रात भी आरोपी के घर पर दोनो पक्ष बैठे थे. विवाद को सुलझाने का प्रयास किया जा रहा था. मृतक नरेन्द्र नाथ भी पंचायत करने आए थे. इसी दौरान दोनो पक्षों के बीच बहस हुई और देखते देखते यह बहस खूनी विवाद में बदल गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज