Home /News /bihar /

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन योजना घोटाले के तार नये इलाकों से जुड़े, न्यूज 18 की पड़ताल में सामने आया था फर्जीवाड़ा

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन योजना घोटाले के तार नये इलाकों से जुड़े, न्यूज 18 की पड़ताल में सामने आया था फर्जीवाड़ा

मुजफ्फरपुर के सिविल सर्जन ने न्यूज 18 पर खबर चलने के बाद 4 सदस्यीय जांच टीम का गठन किया.

मुजफ्फरपुर के सिविल सर्जन ने न्यूज 18 पर खबर चलने के बाद 4 सदस्यीय जांच टीम का गठन किया.

News 18 की पड़ताल में सामने आया कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन योजना (National Health Mission scheme ) के तहत बुजुर्ग और उम्रदराज महिलाओं के खाते में योजना मद की राशि डालकर पैसे का बंदरबांट की जा रही है.

मुजफ्फरपुर. न्यूज 18 के द्वारा मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) के मुशहरी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से जुड़े राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन योजना (National Health Mission) में गड़बड़ी का मामला खुलासा किये जाने के बाद अब नए इलाकों में भी फर्जीवाड़े के मामले सामने आ रहे हैं.  न्यूज 18 की पड़ताल में पता चला है कि मुशहरी के रहुआ पंचायत के छोटी कोठिया के अलावा कई पंचायतों में योजना में फर्जीवाड़ा किया गया है. रजवाड़ा पंचायत के कई गांव में न्यूज 18 की पड़ताल में 10 से अधिक महिलाओं के खाते में बार-बार प्रोत्साहन राशि भेजने और निकालने का मामला पता चला है. इससे पहले रहुआ पंचायत के छोटी कोठिया गांव में 65 साल की बुजुर्ग महिलाओं के खाते में बार बार 14 सौ रुपये की प्रोत्साहन राशि भेजने के मामले को न्यूज 18 ने उजागर किया था.  बता दें कि उन महिलाओं के खाते में बार-बार प्रोत्साहन राशि भेजी गई  और उसका उठाव भी किया गया  जिनका योजना से कोई सरोकार नहीं था. इनमें से सभी महिलाओं का प्रसव हाल के वर्षों में नहीं हुआ है और वह अस्पताल तक नहीं गई थीं. इनमें से अधिकांश महिलाएं बुजुर्ग हैं जिन्हें सरकार वृद्धावस्था पेंशन भी देती है. अब तक 20 महिलाओं के खाते में 13 महीने  में 8 बार तक प्रोत्साहन राशि भेजने का खुलासा हो चुका है.

प्रशासन की जांच में NHM फर्जीवाड़े की पुष्टि

न्यूज 18 के एक्सक्लूसिव खुलासे के बाद मुजफ्फरपुर जिला प्रशासन ने एडीएम राजेश कुमार के नेतृत्व में 4 सदस्यीय जांच टीम का गठन किया था. जांच टीम ने न्यूज में दिखाए गए महिलाओं के खाते की जांच, महिलाओं से पूछताछ और मुशहरी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जाकर अधिकारियों से पूछताछ की थी और बैंक के खाते को खंगाला था. अपनी जांच में पाया कि सही में ऐसे महिलाओं के खाते में योजना से जुड़ी प्रोत्साहन राशि भेजी गई जिनका उनसे कोई सरोकार नहीं था. खातों में साल भर के भीतर कई बार प्रोत्साहन राशि भेजकर राशि का उठाव कर लिया गया. यह जांच रिपोर्ट शनिवार को ही जांच टीम ने सौंप दी है, लेकिन 4 दिन बाद भी किसी प्रकार की विस्तृत जांच टीम नहीं बनाई गई है ना ही किसी दोषियों के खिलाफ किसी प्रकार की कार्रवाई की गई है. इस मामले में मुशहरी के लेखापाल अवधेश कुमार फरार हैं जबकि मुशहरी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी मुसहरी थाने में लेखपाल के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई है.

इस तरह महिलाओं के खाते में भेजी गई राशि

लीला देवी के खाते में 8 बार, सोनिया और सोनी देवी के खाते में चार चार बार और शांति देवी के खाते में 6 बार प्रसव के बदले 14 सौ रुपये की प्रोत्साहन राशि भेजी गई. यह कहानी रहुआ पंचायत के छोटी कोठिया गांव की है लेकिन जब न्यूज 18 की टीम ने पड़ताल को आगे बढ़ाया है तो पता चला है कि श्रुति देवी, राधा देवी, आरती देवी अनीता देवी, सुमिता देवी, सरिता देवी,रं जू देवी जैसी कई महिलाएं हैं, जिनका हाल के दिनों में प्रसव नहीं हुआ है. लेकिन,  इनके खाते में 4 बार से अधिक बाढ़ प्रसव के बदले भेजी जाने वाली सरकार की प्रोत्साहन राशि आई है. खाते में बार-बार 14 सौ की राशि आई और निकाली गई.

पीएचसी की मिलीभगत से हुआ बड़ा फर्जीवाड़ा

माना जा रहा है कि गांव के आसपास स्थित बैंक के सीएसपी केंद्र में महिलाओं का खाता आधार कार्ड के जरिए खोला गया और फिर इसी केंद्र से खाता संख्या को मुशहरी पीएससी तक पहुंचा दिया गया. जिसके बाद बार-बार खाता धारियों के खाते में प्रोत्साहन राशि 2018 से अब तक आ रही है और इसका उपयोग भी किया जा रहा है.  लेकिन मामले के खुलासे के बाद भी जांच में गंभीरता नहीं दिखाई जा रही है. माना जा रहा है कि फर्जीवाड़ा का खेल पुराना है और इसमें करोड़ों की सरकारी राशि का गबन किया गया है. ये भी माना जा रहा है कि अगर सही से जांच हुई तो कई लोग जांच होने पर सीधे तौर पर चपेट में आएंगे.

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने दिया था जांच के आदेश

न्यूज़ पर खबर दिखाए जाने के बाद स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने स्वास्थ्य विभाग के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार को इस मामले की पड़ताल का जिम्मा दिया था लेकिन 4 दिन बाद भी स्वास्थ्य विभाग की अब तक मुजफ्फरपुर नहीं पहुंचे हैं और चुनावी साल  में सरकार के साथ-साथ प्रशासन भी जांच में विशेष रूचि नहीं दिखा रही है. इस मामले में 27 अगस्त को भाकपा माले द्वारा मुसहरी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर धरना और प्रदर्शन का कार्यक्रम आयोजित किया गया है जिसमें उच्च स्तरीय जांच की मांग की जाएगी.

Tags: Bihar News, Corruption, Fraud, Muzaffarpur news, National Health Mission, मुजफ्फरपुर

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर