Home /News /bihar /

'आंखफोड़वा' कांड: डॉक्टरों की लापरवाही से आंख गंवाने वाले मरीजों का मुफ्त इलाज करवाएगी बिहार सरकार

'आंखफोड़वा' कांड: डॉक्टरों की लापरवाही से आंख गंवाने वाले मरीजों का मुफ्त इलाज करवाएगी बिहार सरकार

डॉक्टरों की लापरवाही की वजह से आंखों की रौशनी गंवाने वाले मरीजों का मुफ्त इलाज करवाएगी बिहार सरकार

डॉक्टरों की लापरवाही की वजह से आंखों की रौशनी गंवाने वाले मरीजों का मुफ्त इलाज करवाएगी बिहार सरकार

Muzaffarpur Eye Hospital: मुजफ्फरपुर के अस्पताल में ऑपरेशन के दौरान लगभग 15 लोगों को अपनी आंखों को रौशनी गंवानी पड़ी थी. डॉक्टरों की इस बड़ी लापरवाही की वजह से राज्य में खूब हंगामा बरपा था. विपक्षी पार्टियां लगातार पीड़ित मरीजों के लिए आर्थिक मदद और दोषियों पर कार्रवाई की मांग कर रही थी. ऐसे में बिहार सरकार ने मरीजों को थोड़ी रहत देते हुए फैसला किया है कि उन सभी का इलाज मुफ्त किया जाएगा। इन सभी मरीजों का इलाज आईजीआईएमएस में किया जाएगा.

अधिक पढ़ें ...

पटना. समय-समय पर बिहार के डॉक्टरों का कारनामा देखने को मिलता है. स्वास्थ्य व्यवस्था के मामले में बिहार की हालत अब भी लचीली है. हाल में मुजफ्फरपुर  (Muzaffarpur Eye Hospital) में डॉक्टरों की भारी लापरवाही देखने को मिली थी. यहां डॉक्टरों की गलती से वजह से कई मरीजों को अपनी आंखों की रोशनी गंवानी पड़ी थी. मामला सामने आने के बाद हर तरफ हाहाकार मच गया था. इस हंगामे को देखते राज्य सरकार ने बड़ा फैसला किया है.  डॉक्टरों की लापरवाही की वजह से आंखों की रौशनी खोने वाले मरीजों का अब मुफ्त इलाज होगा. सरकार के इस फैसले ने पीड़ित मरीजों को थोड़ी राहत दी है.

बिहार सरकार ने घोषणा की है कि करीब 15 मरीज जिनकी आंखों की रौशनी खत्म हो गई है उनका आइजीआइएमएस में मुफ्त इलाज करवाया जाएगा. इसे लेकर अस्पताल प्रबंधन ने सभी तैयारी पूरी कर ली है और अलग से एक डॉक्टरों की कमेटी का गठन किया गया है.

आइजीआइएमएस के अधीक्षक डॉ मनीष मंडल ने बताया कि आज 12 बजे के बाद सभी मरीज पटना पहुंचेंगे और उनका इलाज शुरू हो सकेगा. सिविल सर्जन मुजफ्फरपुर के मुताबिक, 4 डॉक्टर समेत कुल 9 लोगों के खिलाफ एफआईआर भी कराई गई है, जिससे दोषियों को सजा मिल सके.

विपक्ष ने उठाया था मुद्दा
बता दें कि मुजफ्फरपुर में डॉक्टरों की इस लापरवाही को लेकर विपक्ष ने खूब हंगामा भी किया था. इस मुद्दे को विपक्ष ने विधान परिषद में भी उठाया था. विपक्ष ने पीड़ित मरीजों के लिए आर्थिक मदद और दोषियों पर कार्रवाई की मांग की थी. बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने भी कार्रवाई की मांग की थी और सरकार से पीड़ितों को आर्थिक मदद और उनके परिवार के सदस्यों को नौकरी देने की भी मांग की थी. वहीं घटना सामने आने के बाद पूरे मामले पर स्वाथ्य विभाग ने भी जांच का आदेश दिया था.

गौरतलब कि बीते 22 नवंबर डॉक्टरों की लापरवाही का कांड सामने आया था, जिसमें 15 मरीजों की आंखों की रोशनी चली गई थी. मुजफ्फरपुर में मोतियाबिंद की शिविर के दौरान कुल 65 मरीजों का ऑपरेशन किया गया था, जिनमें  26 मरीज इसी शहर के थे जबकि बाकी अलग जिले के है.

Tags: Bihar News in hindi, Muzaffarpur news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर