Home /News /bihar /

मुजफ्फरपुर बालिका गृह परिसर की खुदाई में बच्ची को मारकर गाड़ने के नहीं मिले सबूत

मुजफ्फरपुर बालिका गृह परिसर की खुदाई में बच्ची को मारकर गाड़ने के नहीं मिले सबूत

शेल्टर होम रेप पीड़ित लड़कियों ने कोर्ट के समक्ष बताया था कि उनके साथ रहने वाली एक लड़की की शेल्टर होम कर्मचारियों ने इतनी पिटाई की थी कि उसकी मौत हो गई. इसके बाद उन्होंने उसका शव परिसर में ही दफना दिया था.

शेल्टर होम रेप पीड़ित लड़कियों ने कोर्ट के समक्ष बताया था कि उनके साथ रहने वाली एक लड़की की शेल्टर होम कर्मचारियों ने इतनी पिटाई की थी कि उसकी मौत हो गई. इसके बाद उन्होंने उसका शव परिसर में ही दफना दिया था.

शेल्टर होम रेप पीड़ित लड़कियों ने कोर्ट के समक्ष बताया था कि उनके साथ रहने वाली एक लड़की की शेल्टर होम कर्मचारियों ने इतनी पिटाई की थी कि उसकी मौत हो गई. इसके बाद उन्होंने उसका शव परिसर में ही दफना दिया था.

    बिहार के मुजफ्फरपुर स्थित बालिका गृह में यौन शोषण का विरोध करने पर एक किशोरी की हत्या कर उसके शव को दफनाए जाने के आरोप की सच्चाई जानने के लिए सोमवार को प्रशासन ने परिसर की खुदाई कराई.  हालांकि पुलिस को खुदाई में किसी भी किशोरी के शव का अवशेष नहीं मिला. फिलहाल खुदाई की गई मिट्टी को फांरेंसिनिक जांच के लिए भेज दिया गया है. इस दौरान मुजफ्फरपुर की एसएसपी हरप्रीत कौर ने बच्चियों से करीब दो घंटे तक बातचीत और कार्यालय की 8 फाइलें अपने साथ ले गईं.

    इस बालिका गृह में पिछले दिनों बच्चियों के बलात्कार का भी मामला सामने आया है. इन रेप पीड़ित लड़कियों ने कोर्ट के समक्ष बताया था कि उनके साथ रहने वाली एक लड़की की शेल्टर होम कर्मचारियों ने इतनी पिटाई की थी कि उसकी मौत हो गई. इसके बाद आनन-फानन में उन्होंने उसका शव परिसर में ही दफना दिया था.

    ये भी पढ़ें- मुजफ्फरपुर शोषण कांड में नया खुलासा, पिटाई से हुई थी लड़की की मौत

    बता दें कि मुंबई की संस्था टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइसेंज़ (TISS) की टीम ने बालिका गृह के सोशल ऑडिट रिपोर्ट में 21 लड़कियों के साथ यौन शोषण का खुलासा किया था. इस बीच यह भी बताया जा रहा है कि वर्ष 2013 से 2018 के बीच यहां से छह लड़कियां गायब हो गईं. इन लड़कियों के गायब होने का कोई पुलिस रिकॉर्ड नहीं है.

    इस बीच मधेपुरा से सांसद पप्पु यादव ने लोकसभा में मुजफ्फरपुर स्थित शेल्टर होम में रेप का मामला उठाते हुए सीबीआई से इसकी जांच कराने की मांग की है. इस शेल्टर होम में रहने वाली 21 बच्चियों के साथ बलात्कार की पुष्टि हुई है. वहीं इस मामले में सेवा संकल्प एवं विकास समिति के रसूखदार संचालक ब्रजेश ठाकुर समेत 11आरोपी जेल में हैं. इनमें आठ महिलाएं भी शामिल हैं.

    इस मामले में जिला बाल कल्याण समिति के एक सदस्य विकास और जिला बाल संरक्षण पदाधिकारी रवि रौशन को भी पुलिस ने जेल भेज दिया है, जबकि जिला बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष दिलीप वर्मा फरार चल रहे हैं. बालिका गृह यौन शोषण मामले में कई बड़े सफेदपोश और रसूखदार पुलिस की रडार पर हैं.  (मुजफ्फरपुर से प्रवीण ठाकुर की रिपोर्ट) 

    Tags: Bihar News, Muzaffarpur news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर