Home /News /bihar /

शेल्टर होम को ढाहने की कार्रवाई शुरू, पड़ोसियों की आपत्ति के बाद मैनुअली तोड़ा जा रहा भवन

शेल्टर होम को ढाहने की कार्रवाई शुरू, पड़ोसियों की आपत्ति के बाद मैनुअली तोड़ा जा रहा भवन

ब्रजेश ठाकुर का शेल्टर होम तोड़ने की प्रक्रिया शुरू

ब्रजेश ठाकुर का शेल्टर होम तोड़ने की प्रक्रिया शुरू

बालिका गृह को तोड़ने के लिए मंगलवार को सारी तैयारियां पूरी कर ली गई थी, लेकिन सामान निकालने और जब्ती सूची बनाने की प्रक्रिया लंबी चलने के कारण यह नहीं जा सका था. प्रक्रिया बुधवार को भी जारी रही, अंतत: आज इसे तोड़े जाने की कार्रवाई शुरू हो गई है.

अधिक पढ़ें ...
    मुजफ्फरपुर बालिका गृह भवन को तोड़ने के लिए टीम पहुंच गई है. भवन को तोड़ने के लिए गठित टीम का नेतृत्व कर रहे निगम के कार्यपालक अभियंता सुरेश कुमार सिन्हा कर रहे हैं. मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में सारी कार्रवाई को अंजाम दिया जा रहा है. आपको बता दें कि पहले इसे बुलडोजर से ध्वस्त किया जाना था, लेकिन पड़ोसियों की आपत्ति के बाद नगर निगम ने इसे मैनुअल तरीके से तोड़ने की तैयारी की है. दरअसल बालिका गृह तक पहुंचने का रास्ता भी बेहद संकरा है और एक साथ बिल्डिंग के गिरने से ये ब्लॉक हो सकता है.

    इसे तोड़ने के लिए मंगलवार को सारी तैयारियां पूरी कर ली गईं थी, लेकिन सामान निकालने और जब्ती सूची बनाने की प्रक्रिया लंबी चलने के कारण यह कार्य पूरा नहीं जा सका था. यह प्रक्रिया बुधवार को भी जारी रही. अंतत: आज इसे तोड़े जाने की कार्रवाई शुरू हो गई है.

    ये भी पढ़ें-  देर रात पटना की सड़कों पर निकले खेसारीलाल, पूछा- ठीक है!

    गौरतलब है कि मजिस्ट्रेट और पुलिस बल की तैनाती में शेल्टर होम से जब्त गिए जा रहे सामानों को एनआरडीए में रखा जा रहा है. आपको बता दें कि बालिका गृह में तैनात मजिस्ट्रेट जनार्दन प्रसाद ने सोमवार को इस बाबत बयान भी जारी किया था कि मंगलवार को इसे ध्वस्त किया जाएगा. हालांकि इसमें देरी हो गई और आज यह कार्रवाई शुरू की जा सकी है.

    ये भी पढ़ें- राम मंदिर के मुद्दे पर LJP-BJP में बढ़ी रार, चिराग पासवान बोले- संभलकर बयान दें BJP के नेता

    दरअसल साहू रोड पर मुजफ्परपुर शेल्टर होम केस के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर का शेल्टर होम उनकी मां मनोरमा देवी के नाम से है. यह बिल्डिंग बायलॉज के विरुद्ध बनाया गया है जिसपर सुप्रीम कोर्ट ने आपत्ति जताई थी.

    आपको बता दें कि चार मंजिले बालिका गृह भवन में बीते सात दिसंबर को सीबीआई और एफएसएल की टीम ने मुजफ्फरपुर पहुंचकर बालिका गृह का निरीक्षण किया था. इस दौरान पानी की टंकी तक को खंगाला गया था ताकि इस कार्रवाई में कोई सबूत नष्ट न हो.

    ये भी पढ़ें- शेल्टर होम केस: जल्दी ही चार्जशीट दायर कर सकती है CBI

    गौरतलब है कि बिल्डिंग बायलॉज के खिलाफ बने बालिका गृह के भवन को ध्वस्त करने का नगर आयुक्त ने आदेश दे दिया था. 10 नवंबर को जारी आदेश में कहा गया था कि भवन का नक्शा जी प्लस वन का पास था, जबकि भवन जी प्लस 3 की ऊंचाई का बना है. इस तरह पूरे भवन को ही अवैध मानते हुए उसे तोड़ देने का आदेश जारी कर दिया गया था.

    25 अक्तूबर को सुप्रीम कोर्ट में दर्ज एसएलपी में पारित आदेश के बाद नगर आयुक्त ने 10 नवंबर को बालिका गृह भवन को ध्वस्त करने का आदेश दिया था.
    इनपुट- प्रवीण कुमार ठाकुर

    ये भी पढ़ें-  राम मंदिर के मुद्दे पर LJP-BJP में बढ़ी रार, चिराग पासवान बोले- संभलकर बयान दें BJP के नेता

    Tags: Bihar News, Muzaffarpur news, Muzaffarpur Shelter Home Rape Case

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर