'नीतीश हटाओ-भविष्य बचाओ' यात्रा पर निकले कुशवाहा, बोले- CM के इस्तीफे तक जारी रहेगा विरोध

न्यूज 18 से बात करते हुए कुशवाहा ने कहा कि सालों से बच्चों की मौत चमकी बुखार से हो रही है, लेकिन नीतीश कुमार 14 साल तक मुख्यमंत्री रहते हुए भी इसकी रोकथाम के लिए कोई ठोस नीति नहीं बना पाए. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के इस्तीफे तक उनका आंदोलन जारी रहेगा.

News18 Bihar
Updated: July 2, 2019, 3:25 PM IST
'नीतीश हटाओ-भविष्य बचाओ' यात्रा पर निकले कुशवाहा, बोले- CM के इस्तीफे तक जारी रहेगा विरोध
'नीतीश हटाओ-भविष्य बचाओ' यात्रा पर निकले उपेंद्र कुशवाहा
News18 Bihar
Updated: July 2, 2019, 3:25 PM IST
'नीतीश हटाओ-भविष्य बचाओ'... राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा पद यात्रा का मुख्य नारा यही है. एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम यानी AES से हुई 174 से अधिक मासूमों की मौत के विरोध में कुशवाहा की ये यात्रा 6 जुलाई को पटना पहुंचेगी. इस दौरान वह कई गांवों और कस्बों में लोगों से मिलते हुए आगे बढ़ेंगे और नीतीश सरकार के खिलाफ जन समर्थन जुटाने की कोशिश करेंगे.

मुजफ्फरपुर से शुरू हुई पदयात्रा
कुशवाहा की 5 दिनों तक चलने वाली इस पदयात्रा की शुरुआत मुजफ्फरपुर के शहीद खुदीराम बोस स्मारक स्थल से हुई. यहा उन्होंने पहले शहीद खुदीराम बोस की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया. इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में रालोसपा के कार्यकर्ता शामिल रहे.

पटना में 6 जुलाई को समाप्त होगी यात्रा

पदयात्रा के पहले दिन 20 किलोमीटर की यात्रा तय कर मुजफ्फरपुर के सरैया स्थित सकरी में रात्रि विश्राम होगा. इसके बाद वैशाली के लालगंज और हाजीपुर में रात्रि विश्राम कर 5 जुलाई की रात्रि पटना में रात्रिविश्राम होगा.  6 जुलाई को पटना के शहीद स्मारक पर जाकर पदयात्रा की समाप्ति होगी.

पांच दिन की यात्रा में कई नुक्कड़ सभाओं को संबोधित करेंगे उपेंद्र कुशवाहा


AES से बच्चों की मौत सरकार को घेरा
Loading...

कुशवाहा बच्चों की मौत के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जिम्मेवार बताते हुए इस्तीफे की मांग कर रहे हैं. न्यूज 18 से बात करते हुए कुशवाहा ने कहा कि सालों से बच्चों की मौत चमकी बुखार से हो रही है, लेकिन नीतीश कुमार 14 साल तक मुख्यमंत्री रहते हुए भी इसकी रोकथाम के लिए कोई ठोस नीति नहीं बना पाए.

नुक्कड़ सभाओं में सरकार का विरोध
रालोसपा अध्यक्ष 5 दिनों की पदयात्रा कार्यक्रम में रोजाना चौक-चौराहों पर आयोजित नुक्कड़ सभा को भी संबोधित करेंगे. उनके सबंधोन में सालों से हो रही एईएस से बच्चों की मौत और सूबे की बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था ही केन्द्र में होगी.

उपेंद्र कुशवाहा ने ऐलान किया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इस्तीफे तक आंदोलन जारी रहेगा


CM नीतीश के इस्तीफे तक जारी रहेगा विरोध
कुशवाहा ने विपक्षी दलों को साथ लेकर मुख्यमंत्री के इस्तीफे तक आन्दोलन जारी रखने का ऐलान किया है. पम्पलेट बांटकर स्वास्थ्य क्षेत्र में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की विफलता को भी उजागर किया जा रहा है. डॉक्टर और नर्सों के स्वीकृत पदों में से आधे से भी काफी कम संख्या में चिकित्सकों और नर्सों की तैनाती पर सवाल खड़ा किया गया है.

डॉक्टरों की कमी का मुद्दा उठाया
पम्पलेट में बताया गया है कि राज्य में कुल स्वास्थ्य केन्द्र 11 हजार 861 हैं, लेकिन डॉक्टरों के स्वीकृत पद महज 9 हजार 563 हैं. राज्य में जितने डॉक्टर कार्यरत हैं उससे हरेक अस्पताल में एक चिकित्सक की तैनाती भी संभव नहीं है.  इसी तरह ग्रेड ए नर्स और एएनएम की बहाली के मामले में भी सरकार ने रुचि नहीं दिखाई है.

 रिपोर्ट- प्रवीण ठाकुर

ये भी पढ़ें-


बिहार में सूखा: जमीनी तहकीकात, जानिये क्यों बिगड़े हालात ?




विधान परिषद में गूंजा AES से मौत का मामला, स्वास्थ्य मंत्री बोले- कम हुई है बच्चों की मृत्यु दर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 2, 2019, 3:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...