बिहार: चमकी बुखार का कहर जारी, 62 पहुंचा बच्चों की मौत का आंकड़ा

शुक्रवार की सुबह बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे हालात का जायजा लेने मुजफ्फरपुर पहुंचे थे. उन्होंने स्वीकार किया कि AES से अबतक 57 बच्चों की मौत हुई है. उन्होंने बताया कि SKMCH में 47 और केजरीवाल अस्पताल में 10 बच्चों की मौत हुई है. हालांकि न्यूज 18 के पास पुख्ता जानकारी है कि अब तक 62 बच्चों की मौत हो चुकी है.

News18 Bihar
Updated: June 14, 2019, 1:22 PM IST
बिहार: चमकी बुखार का कहर जारी,  62 पहुंचा बच्चों की मौत का आंकड़ा
मुजफ्फरपुर के SKMCH में AES पीड़ित बच्चों का इलाज
News18 Bihar
Updated: June 14, 2019, 1:22 PM IST
बिहार में एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम यानि एईएस का कहर लगातार जारी है. मुजफ्फरपुर के  SKMCH में दो और बच्चों ने दम तोड़ दिया है. यानि अब तक कुल 62 बच्चों की मौत हो चुकी है. वहीं
5 नए बीमार बच्चों को  SKMCH में भर्ती करवाया गया है.  इस जानलेवा बीमारी के कारण पिछले 24 घंटे में 10 और बच्चों ने दम तोड़ दिया है. वहीं, 28 नये बच्चे मुजफ्फरपुर के SKMCH और केजरीवाल अस्पताल में भर्ती किए गए हैं. जबकि कई बच्चे पहले से अस्पताल में भर्ती हैं. हालांकि सरकारी आंकड़ों के अनुसार ये संख्या 57 बताई जा रही है.

स्वास्थ्य मंत्री ने माना 57 बच्चों की हुई मौत

वहीं शुक्रवार की सुबह बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे हालात का जायजा लेने मुजफ्फरपुर पहुंचे थे. उन्होंने स्वीकार किया कि AES से अबतक 57 बच्चों की मौत हुई है. उन्होंने बताया कि SKMCH में 47 और केजरीवाल अस्पताल में 10 बच्चों की मौत हुई है. हालांकि न्यूज 18 के पास पुख्ता जानकारी है कि अब तक 62 बच्चों की मौत हो चुकी है.

बहरहाल मंगल पांडे ने हालात का जायजा लेने के बाद कहा कि शुक्रवार से अतिरिक्त 6 एम्बुलेंस लगाई जा रही है. इसके साथ ही 100 बेड के नए वार्ड की जल्द शुरुआत होगी.  SKMCH पहुंचे मंत्री ने PICU में भर्ती बच्चों के परिजनों से मुलाकात की. जिला प्रशासन और डॉक्टरों के साथ बैठक में मंत्री ने दिए कई आवश्यक निर्देश भी दिए.

30 बच्चों को मिली अस्पताल से छुट्टी
हालांकि इस बीच एक अच्छी खबर ये है कि 24  घंटे के भीतर 30 बच्चों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है. अस्पताल की एम्बुलेंस से बच्चों को निःशुल्क घर भेजा जा रहा है साथ ही SKMCH की पहल से बीमार बच्चों के माता-पिता को मुफ्त में भोजन दिया जा रहा है.
वापस लौटी केंद्रीय जांच टीम
गौरतलब है कि बुधवार और गुरुवार को सात सदस्यीय केंद्रीय जांच टीम मुजफ्फरपुर के दौरे पर थी. यह टीम भी दो दिनों तक जांच करने के बाद लौट चुकी है. अब सबकी नजरें इस टीम की रिपोर्ट पर लगी हुई हैं कि कौन से कारण हैं जो इन इलाकों में ही ये बीमारी हो रही है और इसका निदान क्या है.

स्वास्थ्य मंत्री का दौरा रद्द
बता दें कि इसकी गंभीरता को देखते हुए ही बुधवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन का बिहार आने वाले थे, लेकिन किन्हीं कारणों से उनका ये दौरा रद्द हो गया. बताया जा रहा है कि केंद्रीय टीम की रिपोर्ट आने के बाद मंत्रियों के बिहार दौरे का कार्यक्रम फिर से तय हो सकता है.

इनपुट- सुधीर कुमार

ये भी पढ़ें- NRS हमले के विरोध में हड़ताल पर गए बिहार के जूनियर डॉक्टर्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...