लाइव टीवी

मुजफ्फरपुर: 23 जनवरी से शुरू होगा नीलगायों को मारने का काम, किसानों के आंदोलन के बाद वन विभाग का फैसला

Praveen Thakur | News18 Bihar
Updated: January 19, 2020, 11:35 AM IST
मुजफ्फरपुर: 23 जनवरी से शुरू होगा नीलगायों को मारने का काम, किसानों के आंदोलन के बाद वन विभाग का फैसला
23 जनवरी से नीलगायों व जंगली सूअरों को मारने का सिलसिला शुरू होगा.

वन विभाग के अधिकारियों के अनुसार फिलहाल जिले में 3000 से अधिक नीलगाय और 1000 से अधिक जंगली सूअर होने की संभावना व्यक्त की गई है.

  • Share this:
मुजफ्फरपुर. जंगली जानवरों द्वारा फसलों को लगातार नुकसान किए जाने के बीच किसानों की मांग के मद्देनजर जिला प्रशासन ने नीलगायोंं को मारने का निर्णय लिया है. 23 जनवरी से जिले में जंगली जानवर को मारने का अभियान शुरू किया जाएगा. किसानों के आन्दोलन की चेतावनी के बाद वन विभाग ने यह कवायद शुरू कर दी है और वन विभाग ने राज्य सरकार से भी अनुमति ले ली है. बताया जा रहा है कि 23 जनवरी को जिले के किसी एक प्रखण्ड से नीलगायों को मारने का अभियान शुरू किया जाएगा. उसके बाद बाकी के 15 प्रखण्डों में भी वन विभाग अभियान चलाएगा.

दर्पिसल छले एक दशक से जिले के किसान जंगली जानवरों के आतंक से परेशान हैं.  3 साल पहले केंद्र सरकार ने जंगली जानवरों को मारने के लिए 2 साल का वक्त दिया था, लेकिन किसानों की समस्या धरी की धरी रह गई. उधर जंगली जानवरों का आतंक जारी रहा.

वन विभाग के अधिकारी ने कहा...
मुजफ्फरपुर के जिला वन पदाधिकारी सुधीर करने न्यूज़ 18 से बातचीत में बताया कि 22 जनवरी को अंतिम तौर पर जंगली जानवरों को मारने की रणनीति शूटरों के साथ बनाई जाएगी और 23 जनवरी से जिले में इस अभियान को शुरू किया जाएगा . किसानों के सहयोग से जिले में जंगली जानवरों के आतंक को खत्म किया जाएगा.

किस प्रखण्ड से होगी शुरुआत?
वन विभाग के अधिकारी जंगली जानवरों को मारने के लिए शूटरों के साथ 22 जनवरी को रणनीति बनाएंगे और तय किया जाएगा कि किस प्रखण्ड से इसकी शुरुआत की जाए. बता दें कि मुजफ्फरपुर का सबसे अधिक प्रभावित इलाका सरैया प्रखंड माना जा रहा है जहां जंग नीलगाय का सबसे अधिक आतंक है.

नीलगायों का झुंड अक्सर आलू और मक्के के खेतों को निशाना बनाता है.
बताया जा रहा है कि इसके बाद जिले के साहिबगंज, पारू, मोतीपुर, कांटी, औराई और मीनापुर इलाकों के अलावा जिले के उन तमाम इलाकों में वन विभाग जंगली सूअरों और नीलगायों को मारने का अभियान तेज करेगा जहां किसानों की लाख कोशिशों के बावजूद फसलों का नुकसान थम नहीं रहा.

हैदराबाद से मंगवाए गए शूटर 
नीलगाय और जंगली सूअर को मारने के लिए हैदराबाद से विशेषज्ञ शूटर को मंगाया गया है. असगर अली और मोहम्मद अली जिले के जंगली जानवरों को सफाई करने का अभियान करेंगे. वन विभाग के अधिकारियों के अनुसार दोनों सूटर प्रोफेशनल हैं और सटीक निशाना लगाकर किसानों को राहत पहुंचाएंगे.

20 को डीएम से मिलेंगे किसान
वन विभाग के अभियान को तेज करने के लिए किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल 20 जनवरी को मुजफ्फरपुर के डीएम आलोक रंजन घोष से मिलेगा . पूर्व मंत्री अजीत कुमार के नेतृत्व में किसानों का यह शिष्टमंडल जंगली जानवरों के आतंक से किसानों को राहत देने के लिए चलाए जा रहे अभियान को तेज करने के लिए अपना सहयोग देंगे.

बता दें कि इससे पहले पूर्व मंत्री अजीत कुमार के नेतृत्व में मुजफ्फरपुर में किसानों का आंदोलन किया गया था और किसानों ने 21 जनवरी से जिले का चक्का जाम करने की चेतावनी दी थी. वन विभाग के अधिकारियों के अनुसार फिलहाल जिले में 3000 से अधिक नीलगाय और 1000 से अधिक जंगली सूअर होने की संभावना व्यक्त की गई है.

ये भी पढ़ें

तेजस्वी का CM नीतीश पर तंज-दाग़दार चेहरे पर हाई रेजोल्यूशन फ़िल्टर...

लालू बनाम नीतीश: कौन होगा बिहार में 2020 का सुल्तान?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 19, 2020, 11:30 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर