लाइव टीवी

पैसे के अभाव में टीचर की पत्नी की मौत, कई महीनों से नहीं मिली थी सैलरी

News18 Bihar
Updated: February 22, 2019, 9:42 AM IST

शिक्षाधिकारी विनय कुमार ने कहा कि मुजफ्फरपुर में शिक्षकों के बकाए वेतन की राशि एक अरब से भी ज्यादा है. अब ऐसे में समझा जा सकता है कि वेतन भूगतान का मामला कितना लंबित चल रहा है.

  • Share this:
बिहार के मुजफ्फरपुर में उचित इलाज के अभाव में एक शिक्षक की पत्नी की मौत हो गई. कहा जा रहा है कि शिक्षक को कई माह से वेतन नहीं मिला था. ऐसे में वे पैसों के आभाव में अपनी पत्नी का इलाज नहीं करवा पाए. पीड़ित शिक्षक का नाम प्रवीण वर्मा है. उनका कहना है कि हमारी तरह जिले में हजारों शिक्षक ऐसे हैं जिन्हें समय पर वेतन नहीं मिल रहा है.

जानकारी के मुताबिक, प्रवीण वर्मा जिले के बड़ा दाउद मध्य विद्यालय में नियोजित शिक्षक हैं. इनके चेहरे की दशा इनकी तकलीफ की दास्तां बताती है, क्योंकि इनकी पत्नी अब इस दुनिया में नहीं रही. वर्मा को मलाल है कि बीते 15 फरवरी को उचित इलाज के आभाव में उनकी पत्नी स्वर्ग सिधार गई क्योंकि इनके पास इलाज के लिए पूरे पैसे नहीं थे. इस घटना से वर्मा जी के दो मासूम बेटे भी मां के प्यार से महरूम हो गये हैं. उन्होनें इसके खिलाफ महामहीम राज्यपाल को आवेदन भेज कर शिकायत की है.

वहीं, मुजफ्फरपुर में नियोजित शिक्षकों के वेतन भूगतान का मसला आन्दोलन की ओर बढ़ रहा है क्योंकि भूगतान में भेदभाव किया जा रहा है. कुछ शिक्षकों का भूगतान कर दिया गया है जबकि बड़ी संख्या में शिक्षक वंचित हैं. इस संबंध में जब उच्चाधिकारी विनय कुमार से बात हुई तो उन्होंने चौकाने वाली बात कही. उन्होंने कहा कि मुजफ्फरपुर में शिक्षकों के बकाए वेतन की राशि एक अरब से भी ज्यादा है. अब ऐसे में समझा जा सकता है कि वेतन भूगतान का मामला कितना लंबित चल रहा है.

रिपोर्ट- सुधीर कुमार

ये भी पढ़ें- 

लोकसभा चुनाव: BJP के लिए ‘हुकुम’ का इक्का साबित हो सकते हैं नारायण
ये इंसान नहीं चलता-फिरता है कम्प्यूटर, क्रिकेट के हर सवाल का जवाब है इनके पास


 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 22, 2019, 8:05 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर