4 हजार प्रवासी मजदूरों को लेकर गुजरात, राजस्थान और केरल से कल मुजफ्फरपुर पहुंचेंगी ट्रेन
Muzaffarpur News in Hindi

4 हजार प्रवासी मजदूरों को लेकर गुजरात, राजस्थान और केरल से कल मुजफ्फरपुर पहुंचेंगी ट्रेन
बाहर से आने वाले मजदूरों की जांच के लिए मुजफ्फरपुर जंक्शन पर बनाया गया गोला

दूसरे राज्यों से आने वाले मजदूरों की स्क्रीनिंग (Corona Screnning) मुजफ्फरपुर जंक्शन (Muzaffarpur) पर ही होगी इसके लिए इसके लिए 16 चिकित्सकों की तैनाती की गई है साथ ही दूसरे स्वास्थ्य कर्मी भी चिकित्सकों के सहयोग में रहेंगे.

  • Share this:
मुजफ्फरपुर. कोरोना बंदी में दूसरे राज्यों में मजदूरी करने गए मजदूरों (Migrant Labors) को केंद्र सरकार की सहमति के बाद अब वापस उसके घर लाने की कवायद तेज हो गई है. इस कड़ी में मंगलवार को मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur Junction) में तीन विशेष श्रमिक ट्रेनें (Migrant Special Train) पहुंचेंगी. ये विशेष ट्रेन गुजरात के साबरमती ,राजस्थान के जोधपुर और केरल के एर्नाकुलम से रवाना हुई हैं.

कब आएगी कौन सी ट्रेन

पहली ट्रेन मंगलवार के सुबह 4बजे मुजफ्फरपुर जंक्शन पर पहुंचेगी जबकि दूसरी और तीसरी ट्रेन शाम के 5 बजे और 7 बजे मुजफ्फरपुर जंक्शन पहुंचेगी. इन तीनों ही ट्रेनों में उत्तर बिहार के 4000 के आसपास श्रमिक सवार हैं जिन्हें मुजफ्फरपुर जिला प्रशासन अलग-अलग बसों के जरिए उनके गृह जिले तक भेजेगी, जिसके बाद मजदूरों के प्रखंड में स्थित क्वॉरेंटाइन सेंटर में भेजा जाएगा. मजदूरों को 21 दिनों तक क्वॉरेंटाइन सेंटर में रहना पड़ेगा



रेलवे और स्थानीय प्रशासन ने किया इंतजाम
दूसरे राज्यों से आने वाले मजदूरों के बीज को देखते हुए कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए विशेष प्रबंध किए गए हैं. मुजफ्फरपुर जंक्शन पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए गोल-गोल घेरा बनाया गया है जिसमें एक से दूसरे मजदूरों की दूरी कम से कम 6 फीट तक होगी साथ ही आरपीएफ के जवानों के द्वारा जंक्शन पर बैरिकेडिंग भी की गई है ताकि किसी प्रकार कोरोना का संक्रमण एक दूसरे से नहीं फैल सके. मुजफ्फरपुर जिला प्रशासन रेलवे आरपीएफ और जीआरपी के जवान सोमवार से ही मुजफ्फरपुर जंक्शन पर सारी व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने में जुटे हैं.

16 चिकित्सकों की तैनाती

दूसरे राज्यों से आने वाले मजदूरों की स्क्रीनिंग मुजफ्फरपुर जंक्शन पर ही होगी इसके लिए इसके लिए 16 चिकित्सकों की तैनाती की गई है साथ ही दूसरे स्वास्थ्य कर्मी भी चिकित्सकों के सहयोग में रहेंगे. थर्मल स्कैनर के जरिए सभी मजदूरों की स्क्रीनिंग होगी साथ ही साथ कोरोना के लक्षणों के बारे में भी पूछताछ की जाएगी. जंक्शन पर एंबुलेंस की भी तैनाती की गई है. यदि कोई भी मजदूर कोरोना के लक्षणों के साथ पाया जाता है तो उन्हें तत्काल सैंपल जांच के लिए एसकेएमसीएच भेजा जाएगा साथ ही स्टेशन परिसर को सेनीटाइज भी किया गया है. मजदूरों के जंक्शन पर पहुंचते हैं रेलवे और स्थानीय प्रशासन एक दूसरे के सहयोग से सभी मजदूरों को उनके गृह जिले तक पहुंचाने की कवायद करेंगे जिसके बाद प्रखंड में बनाए गए कॉल सेंटर में सभी मजदूरों को 21 दिनों के लिए जाना पड़ेगा.

300 मजदूर लौटे

पिछले 3 दिनों के भीतर मुजफ्फरपुर में ट्रेनों के जरिए दूसरे राज्यों से 300 मजदूर अपने गृह प्रखंड तक लौट चुके हैं. इन मजदूरों को राजस्थान से लाया गया है. रेलवे द्वारा दानापुर जंक्शन पर पहुंचने के बाद मुजफ्फरपुर बसों के द्वारा इन्हें लाया गया है इसके बाद उनके अपने प्रखंड में ऑनलाइन सेंटर में सभी लोगों को भेजा जा चुका है.

ये भी पढ़ें- CM नीतीश ने किया ऐलान- छात्र-मजदूरों से नहीं लेंगे किराया, हजार रुपए भी देंगे

ये भी पढ़ें- JDU विधायक के परिवार की दबंगई, किसान को खेत में ही पीटकर किया अधमरा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज