Home /News /bihar /

बिहार: चमकी से अब तक 85 बच्चों की मौत, स्वास्थ्य मंत्री की मौजूदगी में दो मासूमों ने तोड़ा दम

बिहार: चमकी से अब तक 85 बच्चों की मौत, स्वास्थ्य मंत्री की मौजूदगी में दो मासूमों ने तोड़ा दम

skmch में मौजूद स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और अश्विनी चौबे

skmch में मौजूद स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और अश्विनी चौबे

मुजफ्फरपुर में एईएस से हुई बच्चों की मृत्यु पर संवेदना जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री ने इस भयंकर बीमारी से मृत हुए बच्चों के परिजनों को मुख्यमंत्री राहत कोष से शीघ्र ही चार-चार लाख रुपये अनुग्रह अनुदान देने का निर्देश दिया है.

    बिहार में चमकी बुखार यानी एईएस से होने वाली मौतों का सिलसिला लगातार जारी है. इस क्रम में रविवार को दो बच्चियों ने अस्पताल में स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन और अश्विनी चौबे समेत बिहार के मंत्री मंगल पांडेय की मौजूदगी में दम तोड़ दिया.

    पांच साल की थी मासूम
    दिल्ली से मुजफ्फरपुर पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टरों की टीम के साथ आईसीयू का जायजा ही ले रहे थे कि इसी दौरान बच्ची की मौत हो गई. मृतक बच्ची निशा की उम्र 5 साल बताई जाती है जो कि राजेपुर की रहने वाली थी. बच्ची की मौत होते ही उसकी मां दहाड़ मारकर रोने लगी और आईसीयू में चीख पुकार मच गई. मंत्रियों की मौजूदगी में ही एक और बच्ची की मौत हुई, जिसका नाम मुन्नी कुमारी बताया जाता है. 5 साल की मुन्नी कोदरिया की रहने वाली थी. मुन्नी की मौत के बाद उसकी मां का रो-रोकर बुरा हाल था.

    85 जा पहुंचा आंकड़ा
    इन दोनों बच्चियों की मौत स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन, मंगल पांडेय और अश्विनी चौबे की मौजूदगी में हुई. इस मौत के साथ ही आंकड़ा बढ़कर 85 हो गया है. मुजफ्फरपुर समेत राज्य के 12 जिलों में इस बीमारी का कहर लगातार बढ़ रहा है और अब तक कई मासूम तड़प-तड़प कर दम तोड़ चुके हैं.

    मृतक के परिजनों को मुआवजा
    मुजफ्फरपुर में एईएस से हुई बच्चों की मृत्यु पर संवेदना जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री ने इस भयंकर बीमारी से मृत हुए बच्चों के परिजनों को मुख्यमंत्री राहत कोष से शीघ्र ही चार-चार लाख रुपये अनुग्रह अनुदान देने का निर्देश दिया है. इसके साथ ही उन्होंने स्वास्थ्य विभाग, जिला प्रशासन एवं चिकित्सकों को इस भयंकर बीमारी से निपटने के लिए हरसंभव कदम उठाने के निर्देश दिए हैं.

    ये हैं बुखार के लक्षण
    घातक चमकी बुकार में पीड़ित को लगातार तेज बुखार रहने के साथ बदन में ऐंठन होती रहती है. दांत पर दांत दबाए रखने के अलावा सुस्‍ती भी छाई रहती है. अत्‍यधिक कमजोरी की वजह से बेहोशी की भी शिकायत रहती है.

    इससे बचने के लिए अपनाएं यह तरीका
    चमकी बुखार से पीड़ित इंसान के शरीर में पानी की कमी न होने दें. बच्चों को सिर्फ स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक भोजन ही दें. इसके अलावा रात को खाना खाने के बाद हल्का फुल्का मीठा जरूर दें. विशेषज्ञों की मानें तो चमकी बुखर से ग्रस्त बच्चों में हाइपोग्लाइसीमिया यानी शुगर की कमी देखी जा रही है. फिलहाल जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को हाई अलर्ट पर रखा गया है. यहां चमकी बुखार से पीड़ित बच्चों के इलाज के लिए समुचित व्यवस्था की गई है. डॉकटर्स का कहना है कि बच्चों को थोड़ी-थोड़ी देर बार तरल पदार्थ देते रहें, ताकि उनके शरीर में पानी की कमी न हो.

    इनपुट- रवि एस नारायण

    Tags: Bihar News, Muzaffarpur news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर