Assembly Banner 2021

गोल्ड लॉकेट के लिए हुई थी 7 साल के मासूम की हत्या, गांववालों ने आरोपी के घर के बाहर ही बना दी स्मारक

बिहार के मुजफ्फरपुर में हत्या के आरोपी के घर के बाहर बना स्मारक

बिहार के मुजफ्फरपुर में हत्या के आरोपी के घर के बाहर बना स्मारक

Muzaffarpur News: आरोपी के घर के बाहर स्मारक बनवाने का ये मामला बिहार के मुजफ्फरपुर जिले से जुड़ा है. पुलिस ने इस मामले का खुलासा सीसीटीवी के सहारे किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 1, 2021, 12:50 PM IST
  • Share this:
मुजफ्फरपुर. बिहार के मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) में गांव वालों ने एक हत्यारे को एक ऐसी सजा सुनाई है जिसे जानकर हर कोई हैरान है. गांव वालों ने हत्यारे के दरवाजे पर ही 7 वर्षीय मासूम का स्मारक (Memorial) बना दिया जिसे हत्यारोपी ने महज एक सोने के लॉकेट की लालच में मौत के घाट उतार दिया था. मामला जिले के सकरा थाना इलाके के मुरौल गांव का है. गांव वालों का कहना है कि हत्या आरोपी और उसके परिजनों को हर दिन यह एहसास होगा कि उसी ने एक मासूम को मार डाला था.

दरअसल जिले के सकरा थाना के मुरौल गांव में बीते 24 फरवरी को सत्येंद्र शाह के बेटे 24 वर्षीय चंदन ने गांव के ही एक बच्चे आदित्य को मार डाला था. आदित्य गांव के ही राजदेव यादव का इकलौता बेटा था. दरअसल चंदन जुए में बहुत बड़ी राशि हार चुका था इसकी भरपाई के लिए उसने आदित्य के गले में लटक रहे सोने के लॉकेट को हथियाने की साजिश रची. गांव में ही एक उर्स का मेला लगा था. मेला दिखाने के बहाने चंदन आदित्य को अपनी साइकिल पर बिठाकर ले गया. मेले में उसने आदित्य को आइसक्रीम खिलाई और वहां से गांव के बाहर एक तालाब के किनारे ले गया.

चंदन आदित्य के गले से उसके सोने की लॉकेट छीन ली और कहा कि किसी को मत बताना लेकिन आदित्य ने पूरी बात अपने माता-पिता को बता देने की चेतावनी दी. अपनी करतूत को छिपाने के लिए चंदन ने आदित्य को तालाब में धकेल दिया जिसमें डूब कर उसकी मौत हो गई. आदित्य के परिजन बच्चे को खोजने में परेशान रहे. सकरा थाने में आदित्य की गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज कराई गई. पुलिस की छानबीन जारी थी कि गांव के तालाब में एक बच्चे की शव मिलने की सूचना से सनसनी फैल गई.



इसी बीच आदित्य की खोज में मेले में लगाए गए सीसीटीवी की पड़ताल की गई. सीसीटीवी कैमरे कैमरे ने चंदन के पूरे करतूत का पर्दाफाश कर दिया. ग्रामीणों ने चंदन को पकड़ा और मारपीट की तो उस ने स्वीकार कर लिया के उसी ने आदित्य को मारा है. उसके बाद चंदन की निशानदेही पर आदित्य का शव तालाब से बरामद कर लिया गया.
पुलिस ने चंदन और विक्की को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है जबकि लॉकेट खरीदने वाले ज्वेलरी छानबीन की जा रही है. गांव वालों ने चंदन को अपने तरीके से सजा देने का फैसला कर लिया है और इसके तहत चंदन के दरवाजे पर हत्या के शिकार आदित्य का स्मारक बना दिया गया है. आदित्य के पिता राजदेव राय कहते हैं कि यह बहुत जरूरी है क्योंकि इसी से गांव के लोगों को पता चलेगा चलता रहेगा कि चंदन ने 7 साल के आदित्य को मार डाला था. ग्रामीण राजीव कुमार और पवन राय ने बताया कि कानून अपने तरीके से चंदन को सजा देगा लेकिन चंदन के दरवाजे पर आदित्य का स्मारक उसे हमेशा उसके गुनाहों के एहसास दिलाता रहेगा।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज