AES से बच्चों की मौत पर बोले बीजेपी MP- संसद में उठाएंगे मुद्दा

अजय निषाद का कहना है कि एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम (AES) का वास्तविक कारण अभी पता नहीं चल सका है. डॉक्टर और सरकार कोशिशों में लगे हैं.

News18 Bihar
Updated: June 18, 2019, 12:37 PM IST
AES से बच्चों की मौत पर बोले बीजेपी MP- संसद में उठाएंगे मुद्दा
अजय निषाद का कहना है कि इंसेफलाइटिस के मामले हर साल आते हैं लेकिन इस साल इसकी संख्या में इजाफा हुआ है.
News18 Bihar
Updated: June 18, 2019, 12:37 PM IST
मुजफ्फरपुर से बीजेपी सांसद अजय निषाद ने कहा है एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम (AES) या चमकी बुखार के मसले को संसद में उठाएंगे. निषाद का कहना है कि इंसेफलाइटिस के मामले हर साल आते हैं लेकिन इस साल इसकी संख्या में इजाफा हुआ है. उन्होंने कहा कि संभव है इसका कारण प्रचंड गर्मी हो. कुछ लोगों का कहना है कि यह लीची की वजह से हो रहा है और कुछ लोग कह रहे हैं कि इसका कारण कुपोषण है. लेकिन इसका वास्तविक कारण अभी पता नहीं चल सका है. डॉक्टर और सरकार कोशिशों में लगे हैं, हम इस मुद्दे को संसद में उठाएंगे.

गौरतलब है कि बिहार में हो रही बच्चों की मौत ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है. लगातार हो रही मासूमों की मौत सिस्टम के सामने किसी पहेली सरीखी साबित हो रही है, जिसे न तो डॉक्टर और न ही कोई सरकार सुलझा पा रही है. अबूझ पहेली का रूप अख्तियार कर चुकी एईएस नाम की इस बीमारी पर काबू पाने के दावे तो हर साल किए जाते हैं लेकिन ये बातें इस बीमारी के आने पर पूरी तरह से बेईमानी साबित हो जाती हैं.



अब तक 125 की मौत

एईएस से होने वाली मौत की बात करें तो अकेले इस साल एईएस से बिहार में अब तक 125 बच्चों की मौत हो चुकी है, जबकि कई अभी भी मौत के मुंह में हैं. हर मिनट अस्पताल से किसी मां के चीखने या फिर रोने की आवाज निकल कर आती है. मुजफ्फरपुर शहर के दो अस्पतालों के आईसीयू पूरी तरह से बच्चों से भरे हैं और इन आईसीयू में एक-एक बेड पर तीन-तीन बच्चों का इलाज हो रहा है.
ये भी पढ़ें:

बिहार में जानलेवा बनी गर्मी, 22 जून तक बंद किये गए सभी सरकारी स्कूल
Loading...

AES का कहरः केंद्र की बिहार को सलाह, CM नीतीश ने बुलाई बैठक
First published: June 17, 2019, 6:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...