मुजफ्फरपुर में दो मोहल्ले के बीच हिंसक झड़प, फायरिंग के बाद युवक की पीट-पीटकर हत्या

मुजफ्फरपुर में हुई हिंसक झड़प की जानकारी देते एसएसपी
(फाइल फोटो)
मुजफ्फरपुर में हुई हिंसक झड़प की जानकारी देते एसएसपी (फाइल फोटो)

मुजफ्फरपुर के एसएसपी जयंतकांत ने बताया कि मृतक के बहनोई उमेश गुप्ता के बयान पर 18 नामजद और 20 अज्ञात पर एफआईआर दर्ज किया गया है साथ ही चौकीदार समेत पांच की गिरफ्तारी की गयी है.

  • Share this:
मुजफ्फरपुर. बिहार के मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) में दो मोहल्ले के लोगों के बीच हुई हिंसक झड़प में एक युवक की पीट-पीटकर हत्या (Murder) कर दी गई. घटना सकरा इलाके की है जहां बाइक से ठोकर लगने के मामूली विवाद ने तूल पकड़ लिया. इसके बाद यादव और सोनार टोले में खूनी भिड़ंत हो गयी और सोनारपट्टी के एक युवक को पीट पीटकर मार डाला गया.

पुलिस पर भी किया पथराव

घटना सकरा थाना के दोनमा गांव की है. घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस पर भी पथराव किया गया जिसमें दारोगा ललन सिंह समेत कई पुलिस कर्मी घायल हैं. हालात को काबू में करने के लिए पुलिस को गोली भी चलानी पड़ी लेकिन पुलिस इसकी पुष्टि नहीं कर रही है. मृतक युवक 23 साल का जितेन्द्र लॉकडाउन की वजह से अपनी बहन के घर फंसा था और वो बेकसूर हो कर भी मारा गया. हत्या की साजिश रचने का आरोप सकरा थाना के स्थानीय चौकिदार राजकुमार पर लगा है.



चौकीदार समेत पांच गिरफ्तार
इस आरोप में चौकीदार राजू समेत पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है. जानकारी के मुताबिक यादव टोला का रुपेश 19 मई के दिन में बाइक से निकला था. सोनारपट्टी में उसकी बाइक से एक युवक सुनील को ठोकर लग गयी. 20 मई को जब रुपेश सोनरपट्टी से गुजर रहा था तो उसे कुछ लोगों नें रोक लिया और पूछताछ करने लगे. इसी दौरान किसी ने उसकी पिटाई भी कर दी. रुपेश ने घर लौट कर परिजनों को इसकी जानकारी दी जिसके बाद शाम में यादव टोले को दर्जनों लोग सोनारपट्टी में घुस गये और हमला कर दिया.

लॉकडाउन की वजह से बहन के घर फंसा था मृतक

जवाब में सोनारपट्टी के लोग भी उतर आए और इसके बाद दोनों ओर से भिड़ंत हो गयी जिसमें दोनो ओर से फायरिंग की भी सूचना है. सोनरपट्टी के उमेश गुप्ता का साला जितेन्द्र समस्तीपुर से लॉकडाउन के पहले ही अपनी बहन के घर आया था. लॉकडाउन में वो यहीं फंस गया था और यहीं रहकर कंपटीशन की तैयारी करता था. आरोप है कि यादव टोले से आए लोगों नें जितेन्द्र पर हमला कर दिया. उसकी इतनी पिटाई हुई कि सकरा रेफरल अस्पताल ले जाने के रास्ते में उसकी मौत हो गयी.

कई थानों की पुलिस ने हालात पर किया काबू

मृतक के भांजे सोनू ने आरोप लगाया है कि पुलिस जब पहुंची तो जितेन्द्र की पिटाई चल रही थी लेकिन पुलिस नें यादवों के बदले सोनार टोले के लोगों को हीं खदेड़ दिया. उसके बाद पत्थरबाजी हो गयी जिसमें दारोगा ललन सिंह समेत कई पुलिसकर्मी घायल हो गये. घटना इतनी ज्यादा बढ़ गई कि शहर से सिटी एसपी, एसएसपी, एएसपी समेत कई थानों की पुलिस मौके पर पहुंचना पड़ा.

18 के खिलाफ नामजद एफआईआर

काफी मशक्कत के बाद पुलिस नें लोगों को शांत कराया. एसएसपी जयंतकांत ने बताया कि मृतक के बहनोई उमेश गुप्ता के बयान पर 18 नामजद और 20 अज्ञात पर एफआईआर दर्ज किया गया है साथ ही चौकीदार समेत पांच की गिरफ्तारी की गयी है. इलाके में पुलिस बल को तैनात कर दिया गया है जो शांति बहाल होने तक बनी रहेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज