Assembly Banner 2021

नालंदा के बाल गृह में जिंदगी की डोर भूंजे से बंधी हुई है, एक की मौत

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर

एक दिन पहले ही बिहार के नालंदा जिले के लहेरी थाना क्षेत्र के कमरुद्दीनगंज स्थित समाज कल्याण विभाग के द्वारा संचालित बाल गृह में एक बच्चे की मौत का मामला सामने आया था.

  • Share this:
बिहार में नालंदा जिले के लहेरी थाना क्षेत्र के कमरुद्दीनगंज स्थित समाज कल्याण विभाग के द्वारा संचालित बाल गृह में एक अनाथ बच्चे की मौत का मामला अभी ठंडा भी नही पड़ा कि दूसरे बच्चे की तबियत बिगड़ गई और वह सदर अस्पताल बिहारशरीफ में इलाजरत है.

बाल गृह का संचालन भारतीय जन उत्थान परिषद संस्था कर रही है. बच्चे की स्थिति यह बता रही है कि बाल गृह में सरकार द्वारा निर्धारित मेन्यू के अनुसार भोजन नहीं मिलता है. सदर अस्पताल में भर्ती बच्चे ने इस बात की पुष्टि न्यूज18 के सामने की.

ये भी पढ़ें- नालंदा : बाल गृह से अस्पताल ले जाते समय 14 वर्षीय किशोर की मौत



एक दिन पहले ही बाल गृह में एक बच्चे की मौत के बाद प्रशासनिक अधिकारियों में खलबली मच गई थी जिसके बाद भी कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा है. सदर अस्पताल में भर्ती राहुल कुमार के अनुसार भोजन में भूंजा और चावल मिलता है लेकिन पौष्टिक खाना नसीब ही नहीं है.
वहीं, इस बच्चे को भूख से बिलखते देख अन्य मरीज ने उसे पेट भरने के लिए बाहर से दूध और बिस्कुट खरीद खाने के लिए दिया.

इसे भी पढ़ें- 'दिल्ली दरबार' की तैयारी में हैं बिहार सरकार के ये मंत्री, सीट को लेकर ठोका दावा

अब देखना यह है कि संस्था संचालक भूंजा खिला इन अनाथ बच्चों के जीवन के साथ कब तक खिलवाड़ करते रहेंगे. सरकार और जिला प्रशासन के अधिकारी अगर इन मामलों को गंभीरता से नहीं लेंगे तो बाल गृह से एक के बाद एक बच्चे की मौत का सिलसिला जारी रहेगा.

(नालंदा से अभिषेक कुमार की रिपोर्ट)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज