लाइव टीवी

बिचौलिया खा गया 50 लाख का लोन! भूमिहीन परिवारों को बैंक ने थमाया नोटिस

News18 Bihar
Updated: April 13, 2018, 10:13 PM IST

महादलित परिवारों ने आरोप लगाते हुए कहा कि गांव की वर्तमान मुखिया के पति रामस्वरूप द्वारा आठ साल पहले उन लोगों को लोन दिलाने के नाम पर सभी कागजातों पर अंगूठा लगवाया गया था.

  • Share this:
नालंदा जिले के सिलाव प्रखंड के नानन्द पंचायत के धरहरा डीह गांव में लोन गबन का एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. ग्रामीण बैंक ने 105 भूमिहीन महादलित परिवारों को लोन वापसी का नोटिस भेजा है जबकि परिवारों का कहना है कि उन्हें लोन मिला ही नहीं.

2007-08 में गांव के ही वर्तमान मुखिया के पति रामस्वरूप उर्फ सुजीत रविदास ने 105 महादलित परिवारों को केसीसी लोन दिलाया था. अब ग्रामीण बैंक ने इन परिवारों को लोन वापसी का नोटिस भेजा है. लेकिन परिवारों का कहना है कि उन्हें तो लोन मिला ही नहीं था.

महादलित परिवारों ने आरोप लगाते हुए कहा कि गांव की वर्तमान मुखिया के पति रामस्वरूप द्वारा आठ साल पहले उन लोगों को लोन दिलाने के नाम पर सभी कागजातों पर अंगूठा लगवाया गया था. लेकिन इसके बाद लोन नहीं मिला. लोगों ने प्रशासन से इस पूरे मामले की जांच करने की अपील की है.

बता दें कि गांव की मुखिया कंचन देवी ने खुद इस बात को स्वीकार किया है कि उनके पति पूर्व में बिचौलिए का काम करते थे. वहीं लोगों को लोन का नोटिस मिलने के बाद उनके पति रामस्वरूप गांव छोड़कर फरार हो गए हैं.

जहां एक तरफ ग्रामीणों का कहना है कि उन्हें लोन मिला ही नहीं वहीं दूसरी तरफ बैंक अधिकारी का कहना है कि लोन उन्हीं लोगों को दिया गया जिनके अंगूठे के निशान कागजातों पर हैं. यहीं नहीं बैंक अधिकारी ने ग्रामीणों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की भी बात की है. अब इस घटना के बाद से पूरे गांव में तनाव है जिससे आशंका जताई जा रही है कि इस मामले की वजह से गांव में कोई बड़ी घटना घट सकती है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नालंदा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 13, 2018, 7:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर