बिहार के इस गांव में हिंदू निभाते हैं अज़ान की रस्म, जानें वजह...

News18 Bihar
Updated: August 30, 2019, 10:37 AM IST
बिहार के इस गांव में हिंदू निभाते हैं अज़ान की रस्म, जानें वजह...
बिहार के नालंदा के एक गांव मांडी में हिंदू समुदाय निभाते हैं अजान की रस्म.

इस गांव की मस्जिद में मुस्लिम नहीं, बल्कि हिंदुओं के कारण अज़ान की परंपरा निभाई जाती है.

  • Share this:
देश में बात- बात पर हिंदू और मुस्लिमों (Hindu -Muslim) के बीच तनाव पैदा करने की खबरें तो आपने काफी देखी और पढ़ी होंगी. लेकिन, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार( Nitish Kumar) के गृह जिला नालंदा के बेन प्रखंड में एक ऐसा गांव है जहां सांप्रदायिक सौहार्द (Communal harmony) की बेजोड़ मिसाल मिलती है.

हिंदुओं के कारण होती है अजान
दरअसल इस गांव की मस्जिद में मुस्लिम नहीं, बल्कि हिंदुओं के कारण अजान की परंपरा निभाई जाती है. खास बात ये कि यह कि अजान की ये परंपरा वर्षों के कायम है. नालंदा जिले में बेन प्रखंड का मांडी गांव में मुस्लिम  समुदाय के एक भी लोग नहीं रहते, लेकिन यहां हर दिन अजान होती है. सालों से जारी इस परंपरा को यहां के हिंदू समुदाय के लोग निभाते आ रहे हैं.

Nalanda
बिहार के नालंदा में हिंदू समुदाय के लोग अजान की रस्म निभाते हैं.


रोजी-रोटी के लिए मुस्लिमों ने किया पलायन
गौरतलब है कि वर्षों पहले इस गांव में मुस्लिम समुदाय के लोग भी रहते थे, लेकिन धीरे-धीरे इस समाज के लोग रोजी-रोटी के जुगाड़ में यहां पलायन कर गए. आज स्थिति यह हो गयी कि दो सौ साल पूर्व बनी एक मस्जिद को देखभाल करने वाला भी अब कोई नहीं बचा था. लेकिन, यहां के हिंदू समाज के लोगों ने मस्जिद में अजान की परंपरा को कायम रखने की जिम्मा उठाया.

टेप रिकॉर्डर से होती है अजान
Loading...

सांप्रदायिक सौहार्द्र की मिसाल पेश करने का जरिया आज की आधुनिक तकनीक भी बनी है, जिस कारण बिना किसी परेशानी के यह रिवाज बदस्तूर है. हिंदू समाज के लोग मस्जिद में पेन ड्राइव और टेप रिकॉर्डर से नमाज की आवाज को प्ले कर न केवल अनूठी परंपरा का निर्वहन कर रहे हैं बल्कि वैसे लोगों को आईना भी दिखा रहे हैं जो मुस्लिम और हिंदू के नाम पर समाज में विभेद पैदा करते हैं.

Nalanda
मांडी के इस मस्जिद में हिंदू समुदाय के लोग पांचो वक्त नमाज के लिए टेप रिकॉर्डर बजाते हैं.


मस्जिद की देख-रेख करते हैं हिंदू
हिंदू समाज के बखोरी जमादार, गौतम प्रसाद समेत अन्य लोगों इस मस्जिद में पांचों बार अजान देने के लिए टेप रिकार्डिंग बजाते हैं. इतना ही नहीं इस मस्जिद में नियमानुसार साफ-सफाई भी होती है. गांव वालों के सहयोग से यहां फिलहाल मरम्मत के कार्य भी किए जा रहे हैं.

गांव की खास बात ये है कि यहां जब भी कोई भी शुभ कार्य होता है तो यहां के लोग इस मस्जिद में पहले जाकर इबादत करते हैं.

(रिपोर्ट- अभिषेक कुमार)

ये भी पढ़ें-

ठेकेदार हत्याकांड: आखिर फरार क्यों हुए आरोपी चीफ इंजीनियर?

नहीं दी रिश्वत तो ठेकेदार को जिंदा जला डाला! SIT करेगी जांच

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नालंदा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 30, 2019, 10:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...