होम /न्यूज /बिहार /Good News: नालंदा के इतिहास को फिर से संजोया जाएगा, इंडोनेशिया यूनिवर्सिटी के साथ हो रही ये पहल

Good News: नालंदा के इतिहास को फिर से संजोया जाएगा, इंडोनेशिया यूनिवर्सिटी के साथ हो रही ये पहल

ऑनलाइन मीटिंग में बात करती नालंदा विश्वविद्यालय के कुलपति.

ऑनलाइन मीटिंग में बात करती नालंदा विश्वविद्यालय के कुलपति.

नालंदा विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. सुनैना सिंह ने बताया कि एक अनुसंधान केंद्रित विश्वविद्यालय होने के नाते हम पुरातत् ...अधिक पढ़ें

    रिपोर्ट- मो.महमूद आलम

    नालंदा. नालंदा के छात्रों के लिए खुशखबरी है. बहुत जल्द नालंदा विश्वविद्यालय और जांबी विश्वविद्यालय इंडोनेशिया के बीच आपस में शैक्षणिक सहयोग को कार्यान्वित करने पर विचार किया जा रहा है. इसको लेकर नालंदा विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. सुनैना सिंह और जांबी विश्वविद्यालय के रेक्टर प्रो. एच. सुत्रिसनो के बीच हुई एक ऑनलाइन मीटिंग में विभिन्न शैक्षणिक गतिविधियों की साझेदारी की संभावना पर चर्चा हुई.

    नालंदा विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. सुनैना सिंह ने बताया कि एक अनुसंधान केंद्रित विश्वविद्यालय होने के नाते हम पुरातत्व, इतिहास और पर्यटन पर आधारित एक अद्यतन शैक्षणिक संरचना विकसित करने की दिशा में काम कर सकते हैं. ये तीन आयाम हैं, जो भारत और इंडोनेशिया की साझा सांस्कृतिक विरासत को जोड़ सकते हैं. हम जल्द ही इन विषयों पर जांबी विश्वविद्यालय के साथ शैक्षणिक सहयोग की संभावनाओं को तलाशेंगे. इस बैठक के दौरान शैक्षणिक अनुसंधान की गतिविधियों से संबंधित कई मुद्दों पर बातचीत हुई.

    1963 में स्थापित जांबी विश्वविद्यालय एआईएनयू के सदस्य भी

    कुलपति ने आगे बताया कि अकादमिक सहयोग के अलावा जांबी विश्वविद्यालय ने भारतीय ज्ञान परंपरा के स्वदेशी स्रोतों की खोज में भी रुचि दिखाई. वर्ष 1963 में स्थापित जांबी विश्वविद्यालय आसियान इंडिया नेटवर्क ऑफ यूनिवर्सिटी (ए आई एन यू) का सदस्य भी है. यह विश्वविद्यालय इंडोनेशिया के जांबी शहर में स्थित उच्च शिक्षा का एक प्रतिष्ठित संस्थान है. इससे दोनों देशों के मैत्री संबंध भी अच्छे होंगे, साथ ही देश के प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय के इतिहास को भी इससे सहेजा जा सकता है.

    नालंदा विश्वविद्यालय एशियाई ज्ञान का प्रतीक है

    कुलपति ने आगे बताया कि अभी नव-नालंदा विश्वविद्यालय में कुछ पाठ्यक्रमों की पढ़ाई शुरू हो चुकी है, जिसमें कई देशों के छात्र अपने रुचि वाले विषयों की पढ़ाई कर रहे हैं. तो कुछ कोर्स अभी ऑनलाइन के माध्यम से चल रहे हैं. नालंदा विश्वविद्यालय एशियाई ज्ञान का प्रतीक है. यहां कई विषयों पर शोध करने विदेशी छात्र पढ़ाई कर रहे हैं. यह विश्वविद्यालय एक बार फिर से नए अवतार में इतिहास दोहराने को तैयार है.

    Tags: Bihar News in hindi, Nalanda news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें