होम /न्यूज /बिहार /प्रचार के दौरान वोटर को दिल दे बैठे नेता जी, चुनाव हारे लेकिन जीत ली दिल की बाजी

प्रचार के दौरान वोटर को दिल दे बैठे नेता जी, चुनाव हारे लेकिन जीत ली दिल की बाजी

बिहार के नालंदा में पंचायत चुनाव के दौरान एक नेता वोटर को ही दिल दे बैठा और बाद में शादी रचा ली

बिहार के नालंदा में पंचायत चुनाव के दौरान एक नेता वोटर को ही दिल दे बैठा और बाद में शादी रचा ली

Nalanda Love Marriage: पंचायत चुनाव के दौरान प्रत्याशी ने पहली बार किशोरी को देखा था और इसी दौरान वो लड़की को अपना दिल ...अधिक पढ़ें

नालंदा. बिहार में जन प्रतिनिधियों की लव स्टोरी (Love Story) इन दिनों चर्चा में है. सीतामढ़ी में महिला मुखिया के आशिक संग फरार होने का मामला अभी शांत ही हुआ था कि नालन्दा (Nalanda) में एक नेता जी की दिल्लगी सामने आ गई. नेता जी ने चुनाव प्रचार के दौरान एक महिला वोटर पर ऐसा जादू चलाया कि चुनाव बाद वोटर को ही अपनी बीवी बना लिया, ये बात और है कि नेताजी को चुनाव में जीत नहीं मिली और उनको हार का सामना करना पड़ा.

दिल्लगी का ये मामला बिहार के नालंदा जिले से जुड़ा है जहां सरपंच के प्रत्याशी रहे नेता जी ने चुनाव के दौरान इश्क फरमाने के बाद अब किशोरी से शादी कर ली. खास बात ये है कि शादी का ये वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है. नालंदा जिले के करायपरसुराय थाना क्षेत्र के एक गांव में ये घटना हुई है. दरअसल वायरल वीडियो के बारे में बताया जाता है कि पंचायत चुनाव के दौरान ही नेता जी अपना दिल एक लड़की को दे बैठे, हालांकि वो चुनाव तो नहीं जीत सके लेकिन लड़की का प्यार पाने में सफल रहे.

पंचायत चुनाव में युवक रविकांत रविदास सरपंच पद के लिए चुनाव लड़ रहे थे. चुनाव प्रचार के दौरान ही उनकी आंखे गांव की एक लड़की से चार हो गयी. प्यार परवान चढ़ा तो दोनों में बातचीत होने लगी और इसके बाद चोरी छिपे मिलने का सिलसिला शुरू हुआ. घंटों मोबाइल पर दोनों के बीच बातचीत होती थी. इस बात का पता जब लड़की के परिजनों को लगा तो दोनों के मिलने और बातचीत पर पाबंदी लगा दी गई, इसके वाबजूद दोनों मौका पाकर मिलते और बातचीत किया करते थे.

पाबंदी बढ़ने पर दोनों ने साथ जीने-मरने का इरादा किया और घर से भाग गये. इस बात का पता जब युवती के परिजनों को लगा तो खोजबीन करते हुए पटना में एक साथ दोनों को पकड़ लिया. इसके बाद परिजन लड़की को घर ले जाने का प्रयास करने लगे लेकिन दोनों गांव नहीं जाने की जिद करने लगे. काफी मान-मनौव्वल के बाद दोनों गांव जाने को तैयार हुए. बताया यह भी जाता है कि गांव पहुंचते ही मंदिर में दोनों की शादी करा दी, जिसके बाद दोनों सदा के लिए एक हो गये. हालांकि सरपंच प्रत्याशी द्वारा किशोरी से शादी करना गांव सहित जिले भर में चर्चा का विषय बन गया है.

Tags: Bihar News, Bihar Panchayat Chunaw, Nalanda news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें