नालंदा: वोटरों को 'बहकाने' के लिए लाई जा रही थी शराब, 4 थानों की पुलिस ने धावा बोल 2 को किया गिरफ्तार

शराब की ये खेप झारखंड के कोडरमा से नूरसराय थाना क्षेत्र के जगदीशपुर तियारी में लाया गया था. बरामद किए गए 126 कार्टन में विभिन्न कम्पनियों के विदेशी शराब थे जो अलग-अलग जगहों पर सप्लाई किए जााने थे.

News18 Bihar
Updated: April 24, 2019, 2:33 PM IST
नालंदा: वोटरों को 'बहकाने' के लिए लाई जा रही थी शराब,  4 थानों की पुलिस ने धावा बोल 2 को किया गिरफ्तार
बिहार के नालंदा में शराब की खेप के साथ दो गिरफ्तार
News18 Bihar
Updated: April 24, 2019, 2:33 PM IST
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह क्षेत्र नालंदा लोकसभा सीट पर 19 मई को चुनाव होना है, लेकिन वोटरों को लुभाने के लिए अभी से तमाम हथकंडे अपनाए जा रहे हैं. बिहार में शराबबंदी के बीच अवैध शराब एक बड़ा माध्यम है जिससे वोटरों को लुभाया जा सके. इसी सिलसिले में वोटरों के बीच शराब परोसने के लिए लाए गए शराब के 126 कार्टन बरामद किए गए हैं और एक धंधेबाज गिरफ्तार कर लिया गया है.

पुलिस के अनुसार शराब की ये खेप झारखंड के कोडरमा से नूरसराय थाना क्षेत्र के जगदीशपुर तियारी में लाया गया था. बरामद किए गए 126 कार्टन में विभिन्न कम्पनियों के विदेशी शराब थे जो अलग-अलग जगहों पर सप्लाई किए जााने थे, लेकिन पुलिस ने उसे बरामद कर लिया. साथ ही एक कंटेनर वाहन को जब्त कर चालक और खलासी को मौके पर से गिरफ्तार कर लिया गया है.

ये भी पढ़ें- 'महागठबंधन की सरकार आई तो हर दिन अलग-अलग पीएम होंगे, रविवार को देश छुट्टी पर रहेगा'

नालंदा जिले के विधि व्यवस्था डीएसपी संजय कुमार ने बताया की गुप्त सूचना मिली कि नूरसराय के जगदीशपुर तियारी गांव के विगहा पर खंधा में एक सरकारी ट्यूवेल पर शराब की बड़ी खेप उतारी जा रही है. इसके बाद चार थानों की पुलिस ने चारों ओर से इलाके की घेराबन्दी करते हुए शराब की बड़ी खेप बरामद करने में सफलता पाई.

ये भी पढ़ें- सीवान में दांव पर बाहुबली शहाबुद्दीन की साख, पिता की गैरमौजूदगी में मां के सारथी बने ओसामा

दो लोगों को तो गिरफ्तार कर लिया गया, लेकिन अंधेरे का फायदा उठाकर स्थानीय धंधेबाज भागने में सफल रहा.  इस सम्बंध में गिरफ्तार चालक व खलासी ने न्यूज़ 18 को बताया कि ये लोग झारखंड के कोडरमा से शराब लेकर बिहार के लिए चलते हैं.

नवादा जिले के रजौली चेकपोस्ट और एक अन्य रास्ते पर वहां तैनात सिपाही को मात्र सौ रुपये दे देते हैं जिसके बाद वाहन वहां से पार करा दिया जाता है. इसके बाद बिहार के कई जिलों में शराब की खेप आराम से पहुंचा दिया जाता है.
रिपोर्ट- अभिषेक कुमार

ये भी पढ़ें-

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...