Assembly Banner 2021

दरभंगा की पंचायत मुखिया नासरा बेगम को मिला 2020 का राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार, पूरे प्रदेश में हो रही चर्चा

बिहार की नासिरा बेगम को राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.

बिहार की नासिरा बेगम को राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.

दरभंगा (Darbhanga) जिले की केवटी पंचायत की महिला मुखिया नासरा बेगम को साल 2020 में राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार (National Panchayat Award) से सम्मानित किया गया है. इसके बाद से पूरे बिहार में नासरा बेगम की चर्चा हो रही है.

  • Share this:
दरभंगा. आम तौर पर गांव के मुखिया पर कई तरह के भ्रष्टाचार (Corruption) के आरोप लगते रहते हैं, लेकिन इसी मुखिया पद पर रहते हुए कई लोग अच्छे-अच्छे और बेहतर काम भी किया करते हैं. ऐसे ही बेहतर काम के लिए केवटी पंचायत की महिला मुखिया नासरा बेगम को वर्ष 2020 में राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार (National Panchayat Award) से सम्मानित किया गया है.

नासरा बेगम को यह पुरस्कार भारत सरकार के पंचायती राज मंत्रालय द्वारा मिला, जिसमें उन्हें न सिर्फ एक मोमेंटो दिया गया, बल्कि एक प्रशस्ती पत्र के अलावा पंचायत के विकास के लिए पांच लाख रुपये भी अलग से दिए गए. इस पुरस्कार की महत्वता इसलिए और भी ज्यादा बढ़ गई है कि यह पुरस्कार पूरे बिहार में पंचायत स्तर पर बेहतर काम के लिए किसी एक मुखिया को दिया गया है. यह सौभग्य है कि महिला मुखिया नासरा बेगम को यह पुरस्कार मिला है.

इस काम के लिए मिला सम्मान



दरअसल इनाम पाने वाली महिला मुखिया ने अपने कर्तव्य के साथ ही जनता की सेवा करके पंचायत स्तर पर अपने राजस्व को बढ़ावा देकर उससे होने वाली आमदनी से पंचायत का विकास किया है. नासिरा ने यह काम करके और ग्राम पंचायत के मुखिया के सामने मिसाल पेश की है. पंचायत की आमदनी बढ़ाने के लिए पंचायत में पड़ने वाले तालाबों की नीलामी के साथ ही गांव के हाट बाजारों की बन्दोबस्ती कर लाखों रुपये के राजस्व को बढ़ाया और इससे होने वाली आमदनी से गाव के विकास काम मे लगाया. अपने काम की बदौलत मुखिया जी को सरकार ने तो सम्मानित किया ही, इनाम पाने के बाद गाव के लोग भी नासरा बेगम से खुश हैं.
बिहार पंचायत चुनाव में BJP अपना रही 'गुजरात फॉर्मूला', जिला परिषद प्रत्याशी को समर्थन के पीछे बड़ी राजनीति

पंचायत में हुआ विकास कार्य

स्थानीय लोगों का कहना है कि नासिरा बेगम ने पंचायत में विकास योजनाओं को बेहतर ढंग से लागू किया है. यहां पंचायत की अधिकतर सड़कें पीसीसी कराई हैं. तालाबों का जीर्णोद्धार कर उन्हें सुंदर बनाया है. साथ ही उनमें साल भर पानी रहता है. केवटी रनवे पंचायत में हर घर नल का जल योजना को बेहतर ढंग से लागू किया गया है. इसकी वजह से यहां लोगों को स्वच्छ और शुद्ध पीने का पानी उपलब्ध है. तकरीबन सभी घरों में शौचालय बने हैं. इसके अलावा पंचायत सरकार भवन में लोगों की सुविधा के लिए व्यवस्था की गई है. पंचायत के कार्यों का बेहतर ढंग से दस्तावेजीकरण किया गया है. इसकी वजह से ग्रामीण भी खुश हैं.

पुरस्कार पाकर मुखिया नासरा बेगम हुईं खुश

वहीं राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार पाकर मुखिया नासरा बेगम भी गदगद हैं, हालांकि उन्होंने बताया कि वे कभी भी नहीं सोचा था कि वे बिहार की नंबर वन मुखिया बन जाएंगी और भारत सरकार की तरफ से उन्हें कई इनाम मिलेगा. नासिरा अपने कर्तव्यों का पालन करते हुए ग्रामीणों की सेवा में दिन रात लगी रहती थीं. आज उनकी सेवा का ही फल है कि उन्हें यह सम्मान मिला है. सम्मान मिलने से उनका हौसला और बढ़ा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज