नवादाः एरियर भुगतान के बदले डॉक्टर से दफ्तर में घूस लेते क्लर्क को विजिलेंस ने रंगे हाथों धर दबोचा

बिहार के नवादा से गिरफ्तार हुआ रिश्वतखोर कर्मी (पीली शर्ट में)

बिहार के नवादा से गिरफ्तार हुआ रिश्वतखोर कर्मी (पीली शर्ट में)

Clerk Arrested in Nawada: बिहार के नवादा जिले में हाल के दिनों में रिश्वतखोरी का ये दूसरा मामला है. इससे पहले विजिलेंस की टीम ने नवादा से ही रिश्वतखोर सीआई को अपने शिकंजे में लिया था.

  • Share this:
नवादा. बिहार के नवादा (Nawada) में एक बार फिर से निगरानी की टीम ने काम के बदले घूस ले रहे सरकारी कर्मचारी को गिरफ्तार किया है. पटना निगरानी अन्वेषण ब्यूरो (Vigilance Team) से आई टीम ने नवादा जिला के संयुक्त औषधालय के प्रधान लिपिक (Clerk) रमेश चौधरी को 15000 रुपए घूस लेते रंगे हांथो गिरफ्तार किया. निगरानी के डीएसपी अरुण पासवान ने बताया कि मुख्य लिपिक रमेश चौधरी परिवादी डॉ नित्यानंद प्रसाद से डीएसीपी का भुगतान करने के एवज में घूस मांग रहे थे. परिवादी डॉ नित्यानंद प्रसाद ने निगरानी को इसकी शिकायत पटना स्थित निगरानी कार्यालय को बीते 12 मार्च को की थी.

निगरानी के अधिकारियों ने इस शिकायत को गंभीरता से लेते हुए एक छापेमारी दल टीम का गठन किया. जांच के दौरान यह बात निकल कर सामने आई कि प्रधान लिपिक ने इस कार्य के लिए कुल 35000 रुपये रकम की मांग काम करने के लिए ली थी. इस राशि में से 15000 शुरू में देने की और बाकी 20000 काम के होने के बाद देने की बात हुई थी.

Youtube Video


दफ्तर से किया गिरफ्तार
निगरानी के अधिकारियों ने जांच में यह बात सत्य साबित हुई. निगरानी की टीम ने लिपिक को उनके कार्यालय से गिरफ्तार किया. पैसे लेने का कार्य वो कार्यालय में कर रहे थे. गिरफ्तार अभियुक्त को पूछताछ के उपरांत निगरानी की टीम अपने साथ पटना ले गयी. नवादा में ही एक सप्ताह पूर्व निगरानी की टीम ने रोह ब्लॉक के सीआई को गिरफ्तार करने आई थी मगर सीआई और उनके परिवार ने निगरानी की टीम पर हमला कर दिया और वह फरार हो गया. इस तरह से निगरानी की टीम ने एक सप्ताह के भीतर दो भ्रष्ट सरकारी कर्मियों को पकड़ा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज