तीस साल बाद अपने घरों में शौचालय बनाने को राजी हुए बिहार के इस गांव में लोग

Anil Vishal | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: September 17, 2017, 3:36 PM IST
तीस साल बाद अपने घरों में शौचालय बनाने को राजी हुए बिहार के इस गांव में लोग
शौचालय निर्माण कार्य की शुरूआत करते ग्रामीण
Anil Vishal | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: September 17, 2017, 3:36 PM IST
बिहार के नवादा जिले के जिस गांव की पहचान शौचालयहीन गांव के तौर पर होती थी उसने अब पीएम की स्वच्छता मुहिम को आगे बढ़ाते हुए शौचालय निर्माण कराने का फैसला लिया है.

जिले के अकबरपुर के गाजीपुर गांव में अंततः शौचालय निर्माण के लिए खुद लोग आगे आये और शौचालय बनाने की पहली प्रक्रिया को गड्ढा खोदने के साथ प्रारंभ किया. अकबरपुर बीडीओ नौशाद आलम सिद्दीकी ने खुद गड्ढा खोदकर इसकी विधिवत शुरुआत की. इससे पूर्व गाजीपुर के लोग अंधविश्वास में जीने को मजबूर थे. उनका मानना था कि जैसे ही किसी घर मे शौचालय का निर्माण कराया जाता था उस घर के एक सदस्य की मौत हो जाती थी.

तब ईटीवी/ न्यूज 18 ने ही इस ख़बर को बड़ी प्रमुखता के साथ दिखाया था. खबर के बाद सभी जगह हड़कंप सी मच गई थी. रोजाना लोग गाजीपुर पहुंचने लगे मगर कोई भी इस बात का भय ग्रामीणों के मन से निकाल नहीं पाया.

अंधविश्वास हटाने के लिए कई लोग गांव आये और लोगों को समझाया मगर सफलता हाथ नहीं लगी. प्रशासनिक स्तर पर कई जागरूक कार्यक्रम भी चलाये गए मगर लोग नहीं समझे. आज लोगों को खुद इस बात का अहसास हुआ कि अन्धविश्वास ने ग्रामीणों को बुरी तरह जकड़ लिया था.

शौचालय नहीं रहने से इस गांव के लोग कई प्रकार की समस्या से रू-बरू होते रहे थे. इस कार्य को अंजाम देने के लिए गांव के कुछ नौजवान युवकों की अहम भूमिका रही. युवकों ने गांव के बुजुर्गों को निरंतर समझाने का प्रयास किया और आज इसका परिणाम देखने को मिला.

फिलहाल गांव के 10 घरों में शौचालय निर्माण का कार्य शुरू कर दिया गया है. धीरे-धीरे सभी घरों के लोग शौचालय बनाने के लिए राजी हो गए हैं और पूरे गांव में जल्द ही निर्माण शुरू कर दिया जाएगा. बीडीओ नौशाद सिद्दिकी ने भी गांव को बहुत जल्द ओडीएफ घोषित करने की बात कही.
First published: September 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर