लाइव टीवी

लापरवाही या कुछ और...सैकड़ाें कॉलेज छात्रों का भविष्य अधर में लटका

arun kumar | News18Hindi
Updated: January 24, 2020, 9:25 PM IST
लापरवाही या कुछ और...सैकड़ाें कॉलेज छात्रों का भविष्य अधर में लटका
पीड़ित छात्रओं ने इस दौरान सड़क पर उतरकर प्रदर्शन किया और कॉलेज प्रबंधन के खिलाफ मामला भी दर्ज करवाया.

386 छात्राओं का परीक्षा से पहले नामांकन ही किया गया रद्द, अब छात्राओं ने कॉलेज प्रबंधन पर धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए मामला भी दर्ज करवाया है. वहीं प्रशासन ने परीक्षा करवाने का आश्वासन दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 24, 2020, 9:25 PM IST
  • Share this:
गया. जब बात परीक्षा समय की हो और ऐसे में छात्रों के सामने तैयारी करने की बजाय भविष्य के संकट का सवाल खड़ा हो जाए तो क्या कहेंगे. वह भी बिहार विद्यालय परीक्षा समिति और कॉलेज की लापरवाही के चलते. अब परीक्षा की तैयारी करने की जगह छात्र मजबूर हैं डीईओ से लेकर डीएम कार्यालय के चक्कर लगाने के को. अब तो अधिकारियों से भी कोई स्पष्ट जवाब आना बंद हो गया है जिसके बाद उन्हें सड़क पर उतर पर प्रदर्शन करने के सिवा और कोई चारा भी नहीं नजर आया.

दो गड़बड़ और छात्र परेशान 
गया जिले में इंटर की परीक्षार्थियों के साथ मुख्य रूप से दो तरह की गड़बड़ सामने आई है. पहली गड़बड़ जिले के मिर्जा गालिब कॉलेज, गया कॉलेज, महेश सिंह यादव समेत अन्य कॉलेज के सैकड़ों छात्र-छात्राओं के साथ ही हुई है. मिर्जा गालिब कॉलेज के छात्र निशांत और छात्रा शाहिबा प्रवीण ने बताया कि उन लोगों के अनिवार्य विषय अकाउंट्स को ऐच्छिक और एच्छिक विषय अर्थशास्त्र को अनिवार्य रूप में एडमिट कार्ड पर अंकित कर दिया गया है. इस मुद्दे पर डीएम अभिषेक सिंह ने कहा कि बिहार विद्यालय परीक्षा समिति को इससे आवगत कराया है और वहां से इस समस्या के जल्द समाधान का आश्वासन दिया गया है.

386 छात्राओं का आवेदन रद्द

वहीं दूसरी गड़बड़ शेरघाटी स्थित बीएस राय महिला कॉलज की छात्राओं के सामने खड़ी हो गई है. यहां 902 छात्राओं का नामांकन लेकर परीक्षा का फार्म ऑनलाईन भरवाया गया और इनमें से सिर्फ 516 छात्राओं का ही एडमिट कार्ड आया है. अन्य 386 छात्राओं का आवेदन रद्द कर दिया गया है.  इस संबंध में कॉलेज की कॉलेज की प्रचार्य डॉ विमला राय ने बताया कि उनके पास कला संकाय में कुल 606 सीटें हैं. ऑनलाइन एप्लीकेशन के तहत 902 विद्यार्थियों का नामांकन ले लिया गया. बोर्ड के पास सीट बढ़ाने के लिए पत्र भेजा भी गया लेकिन बोर्ड ने सीट नहीं बढ़ाईं. इसके बाद निर्धारित सीट से ज्यादा नामांकित 314 छात्राओं का एडमिट कार्ड नहीं आया.

कॉलेज पर होगी कार्रवाई
इस मामले में जिला शिक्षा पदाधिकारी मो.मुस्तफा हुसैन मंसूरी ने कॉलेज के दावे को खारिज करते हुए कहा कि यहां छात्राओं के नामांकन की निर्धारित संख्या 384 है, जबकि 902 छात्राओं का नामांकन लिया गया. बोर्ड ने कुछ सीटें भी बढ़ाते हुए 516 एडमिट कार्ड जारी किए भी लेकिन शेष 386 नामांकनों को निरस्त कर दिया गया है. कॉलेज प्रबंधन बच्चों झुठ बोलकर बचने की कोशिश कर रहा है, इसलिए उसके खिलाफ शिक्षा विभाग द्वारा एफआईआर दर्ज करवाई जाएगी. डीएम अभिषेक सिंह ने कहा कॉलेज प्रबंधन की मनमानी की वजह से छात्राआों के समक्ष यह परेशानी आई है इसलिए कॉलेज प्रबंधन के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई होगी और इन छात्राओं के कॅरियर को देखते हुए बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने फार्म लेकर मार्च में अलग से परीक्षा लेने और एक साथ रिजल्ट देने का आश्वासन दिया है. इसके लिए जल्द ही विज्ञापन भी निकाला जाएगा.छात्राओं ने कर दी रोड जाम
आक्रोशित छात्राओं ने कॉलेज प्रबंधन एवं बिहार विद्यालय परीक्षा समिति पर कॅरियर के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाकर कई घंटों तक जीटी रोड को जाम कर दिया. बाद में प्रशासन और पुलिस विभाग के अधिकारियों ने मौके पर पहुंच कर जाम खुलवाया. पीड़ित छात्राओं ने 8-10 हजार रुपये लेकर परीक्षा फार्म भरवाने का आरोप लगाते हुए कॉलेज प्रबंधक डॉ विजय शंकर राय, मुकेश कुमार, आनंद कुमार एवं तीन अन्य खिलाफ शेरघाटी थाना में धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया है. वहीं इस मुद्दे पर बी.एस राय महिला कॉलेज प्रबंधन बिहार विद्यालय परीक्षा समिति पर ही धोखाधड़ी का आरोप लगा रहा है और उसके खिलाफ हाईकोर्ट में आवेदन देकर छात्राओं का  कॅरियर बर्बाद होने से रोकने के लिए उचित कदम उठाने की मांग की है.

ये भी पढ़ेंः  इस साल ये प्रस्तुतियां बनाएंगी बौद्ध महोत्सव को खास

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 24, 2020, 9:24 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर