लाइव टीवी

नाबालिग को नौकरी का झांसा देकर बंधक बनाया, फिर 4 दिन तक किया गैंगरेप, अब दी ये धमकी
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: February 4, 2020, 10:08 PM IST
नाबालिग को नौकरी का झांसा देकर बंधक बनाया, फिर 4 दिन तक किया गैंगरेप, अब दी ये धमकी
15 साल की लड़की का चार दिन किया गया गैंगरेप.

पटना पुलिस (Patna Police) की एक गैंगरेप के मामले में लापरवाही सामने आयी है. 15 वर्षीय नाबालिग का दो लड़कों द्वारा ना सिर्फ गैंगरेप (Gangrape) किया गया बल्कि उसे चार दिन तक बंधक बनाकर न्‍यूड वीडियो भी बनाए गए.

  • Share this:
पटना. एक बार फिर से पटना पुलिस (Patna Police) की लापरवाही सामने आ रही है. मामला पटना का है, जहां 15 वर्षीय नाबालिग का गैंगरेप (Gangrape) होने और 4 दिनों तक बंधक बना कर रखने के बाद भी पुलिस ने अपने सुस्त रवैये के चलते बच्ची का न तो बयान लिया और न ही उसका मेडिकल जांच के लिए भेजा है. जबकि अब यह मामला बिहार महिला आयोग पहुंच गया है.

मामला रोहतास के दरिहट थाना क्षेत्र का है
दरअसल, 24 जनवरी को 15 साल की बच्ची को पास के ही रहने वाले आकाश कुमार और बिट्टू एक निजी स्कूल में काम दिलवाने के बहाने उसे अपने साथ गाड़ी में रोहतास के नासरीगंज ले गये. जबकि गलत का काम अंदाज़ होते ही बच्ची घर जाने की जिद करने लगी, इसके बाद आरोपियों ने ना सिर्फ बच्‍ची को मारापीटा बल्कि 4 दिनों तक कमरे में बंद करके रखने के अलावा रेप का वीडियो भी बनाया. साथ ही बच्ची को धमकी दी गई कि अगर वो कमरे से भागने या किसी को इसकी जानकारी देगी तो उसका ये वीडियो वायरल कर दिया जाएगा. आपको बता दें कि बच्ची गरीब परिवार से है और उसके माता-पिता नहीं है. जबकि उसकी सारी जिम्मेदारी बच्ची के दादा-दादी और चाचा उठा रहे हैं.

पीड़िता के चाचा ने दर्ज की गुमशुदगी की रिपोर्ट

दूसरी और बच्ची के चाचा द्वारा पुलिस में गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखवाई गई थी, जिसकी जानकारी आरोपी को मिल गई. इसके बाद दोनों आरोपी खुद बच्ची को लेकर पुलिस थाना पहुंच गए. बच्‍ची के परिवार का आरोप है कि दोनों आरोपियों ने पुलिस को पैसे देकर खुद आवेदन लिखा, जिसमें ये लिखा गया कि बच्ची अपनी मर्ज़ी से गई थी.

परिवार ने लगाया ये आरोप
बच्‍ची के परिवार ने पुलिस पर सुस्‍त रवैये का आरोप लगाया है. पुलिस ने अब अभी तक ना तो पीड़ित का बयान लिया है और नहीं उसे मेडिकल जांच के लिए भेजा गया है. यही नहीं, जब परिवार को पुलिस से कोई मदद नहीं मिली तो वह थक हार कर बिहार महिला आयोग पहुंच गए हैं.महिला आयोग ने कही ये बात
इस मामले पर महिला आयोग की अध्यक्ष दिलमणि मिश्रा ने रोहतास दरिहट थाना को चिट्ठी भेज कर बच्ची का मेडिकल कराने के साथ उचित कार्रवाई के लिए कहा है. यही नहीं, आयोग ने पुलिस को 3 मार्च को साक्ष्य के साथ हाजिर होने का निर्देश भी दिया है.

 

ये भी पढ़ें-

जमुई: 9 साल की मासूम का रेप, आरोपी की बहन के खिलाफ भी FIR दर्ज

 

प्रोफेसर हत्याकांड का खुलासा, अवैध संबंधों का विरोध करने पर मिली मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 9:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर